For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

लघुकथा की कक्षा

Information

लघुकथा की कक्षा

समूह का उद्देश्य : लघुकथा विधा और उसकी बारीकियों पर चर्चा.

समूह प्रबंधक : श्री योगराज प्रभाकर

Members: 85
Latest Activity: Mar 22

समूह का उद्देश्य
लघुकथा प्रेमियों के अनुरोध पर लघुकथा विधा की बारीकियां सीखने और सिखाने के उद्देश्य से ही यह समूह बनाया गया है। "लघुकथा की कक्षा" समूह में लघुकथा विधा से सम्बंधित तमाम छुए-अनछुए पहलुओं पर जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी। यहाँ नवोदित लघुकथाकारों को लघुकथा के मूलभूत नियमों की जानकारी दी जायेगी, इसकी संरचना, रूप एवं शिल्प विधान पर बिन्दुवत चर्चा कर उनकी सभी शंकाओं का निवारण किया जायेगा। अत: रचनाकारों से अनुरोध है कि वे इस विधा से जुडी जो भी जानकारी चाहते हैं, उन्हें खुलकर यहाँ पूछें।

हमारा उद्देश्य है नवांकुरों को एक छत के नीचे एकत्र कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान करना ताकि नवोदित लघुकथाकार इस मंच से प्रशिक्षण प्राप्त कर भविष्य के स्थापित हस्ताक्षर बने, तथा इस विधा एवं ओबीओ परिवार का झंडा हिंदी साहित्य में बुलंद करें । 

लघुकथा विधा से सम्बंधित एक अतिमहत्वपूर्ण एवं पठनीय पोस्ट ओ बी ओ पर प्रकाशित है, सुविधा हेतु लिंक निम्नलिखित है ...

लघुकथा विधा : तेवर और कलेवर

योगराज प्रभाकर 

समूह प्रबंधक सह प्रधान सम्पादक

ओपन बुक्स ऑनलाइन

Discussion Forum

लघुकथा लेखन प्रक्रिया 82 Replies

एक लघुकथाकार जब अपने इर्द गिर्द घटित घटनाओं के नेपथ्य में विसंगतियों या असंवेदनशीलता को अंदर तक महसूस करता है तब लघुकथा लिखने की प्रक्रिया प्रारम्भ हो जाती है। इस प्रक्रिया के दौरान वह उस घटना का हर…Continue

Tags: लघुकथा-शिल्प

Started by योगराज प्रभाकर. Last reply by KALPANA BHATT ('रौनक़') Sep 24, 2017.

लघुकथाकारों के ध्यान योग्य कुछ महत्वपूर्ण बातें 29 Replies

यदि मैं यह कहूँ कि आज लघुकथा का युग चल रहा है, तो इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी I आज बहुत से नवोदित रचनाकार इस विधा पर कलम आजमाई कर रहे हैं I  ओबीओ परिवार भी बहुत गंभीरता से नवांकुरों को शिक्षित और…Continue

Started by योगराज प्रभाकर. Last reply by Sheikh Shahzad Usmani Nov 6, 2016.

ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी

Loading… Loading feed

Comment Wall

Comment

You need to be a member of लघुकथा की कक्षा to add comments!

Comment by Sheikh Shahzad Usmani on March 22, 2019 at 9:11pm

आदाब। जानना चाहता हूं कि लघुकथा लेखन की पत्रात्मक शैली व डायरी शैली क्या वर्तमान में चलन से बाहर या अमान्य या नापसंद हैं? यदि नहीं, तो उन शैलियों में कोई बदलाव किया गया है? यदि यह भी नहीं, तो कृपया उन शैलियों में न्यूनतम और अधिकतम शब्द--संख्या सीमा बताइयेगा। मैं लघुकथा गोष्ठी के विषय पर केंद्रित रचना उन शैलियों में अवलोकनार्थ प्रस्तुत करना चाहता हूं। सादर।

Comment by मेघा राठी on August 30, 2017 at 9:32pm
हार्दिक आभार आदरणीय ।
Comment by rashmi tarika on August 22, 2017 at 11:19pm
समूह में जोड़ने के लिए हार्दिक आभार
Comment by Mamta on August 19, 2017 at 12:53pm
सुधि जनो को नमन ! कई दिनों बाद लघुकथा की कक्षा में उपस्थित हुई हूँ, अगर अपनी प्रविष्टि भेजनी हो तो उसका क्या तरीक़ा है ये भूल गई हूँ कृपयामार्गदर्शन कीजिए ।
सादर ममता

प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on August 19, 2017 at 9:19am

आपका हार्दिक स्वागत है भाई सुरेन्द्र इन्सान जी.

Comment by surender insan on August 19, 2017 at 8:57am
समूह में जोड़ने के लिए बहुत बहुत दिली शुक्रिया जी।सादर नमन जी।
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on February 2, 2017 at 9:48pm
आदरणीय सर लघुकथा को हम विषयधारित , चित्राधारित ,या अपने ही किसी विषय को लेकर लिखते हैं न ? जब चित्र को देखकर उसपर कथा लिखनी होती है तो सामने वही चित्र घूमता है । पर अगर चित्र हटा दें और सिर्फ लघुकथा हमारे सामने हो तो लगने लगता है जैसे कहीं कुछ अधूरापन है । चित्रधारित वाली कथा को गर अलग से पढ़े तो उसमें कहीं कुछ कमी खलने लगती है । चित्र पर लिखने वाली कथा को किस तरह से लिखनी होती है ? क्या फर्क होता है इन विभिन्न कथा शैली में ? सादर ।
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on December 28, 2016 at 9:31am
धन्यवाद आदरणीय सर ।

प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on December 28, 2016 at 9:21am

मैं मानता हूँ लघुकथा में पात्रों की भाषा उनकी आयु या स्तर के मुताबिक़ ही होनी चाहिए, उनमे बच्चे भी शामिल हैंI अत: बच्चों के मुख से वहीँ कहलवाया जाए जो नकली न लगेI
  
//बच्चा तो 18 साल तक होता है।//

मैंने तो ऐसे लोग भी देखें हैं जो अधेड़ होकर भी "बच्चे" ही रहते हैं आ० कल्पना भट्ट जीI   

Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on December 28, 2016 at 8:25am
आदरणीय सर । जब हम बच्चों को लेकर लघुकथा लिखते है , तब यह तो सही है कि लगना चाहिए की उनके द्वारा कही गयी बात हो । कोई बड़ी बात उनसे नहीं कहेलवानी चाहिए । यहाँ हम बच्चों की बात करे तो उनकी उम्र का आंकलन कैसे करना होता है । बच्चा तो 18 साल तक होता है। सादर ।
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

vijay nikore commented on SALIM RAZA REWA's blog post अपने हर ग़म को वो अश्कों में पिरो लेती है - सलीम 'रज़ा'
"बहुत ही सुन्दर रचना पेश की है, मित्र सलीम जी।हार्दिक बधाई।"
3 minutes ago
SALIM RAZA REWA posted blog posts
22 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

नागरिक(लघुकथा)

' नागरिक...जी हां नागरिक ही कहा मैंने ', जर्जर भिखारी ने कहा।' तो यहां क्या कर रहे हो?' सूट बूट…See More
22 hours ago
विमल शर्मा 'विमल' posted a blog post

महकता यौवन/ विमल शर्मा 'विमल'

उठे सरस मृदु गंध, महकता यौवन तेरा। देख जिसे दिन रात ,डोलता है मन मेरा। अधर मधुर मुस्कान, छलकती मय…See More
22 hours ago
Mahendra Kumar posted a blog post

ग़ज़ल : इक दिन मैं अपने आप से इतना ख़फ़ा रहा

अरकान : 221 2121 1221 212इक दिन मैं अपने आप से इतना ख़फ़ा रहाख़ुद को लगा के आग धुआँ देखता रहादुनिया…See More
22 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

विशाल सागर ......

विशाल सागर ......सागरतेरी वीचियों पर मैंअपनी यादों को छोड़ आया हूँतेरे रेतीले किनारों परअपनी मोहब्बत…See More
22 hours ago
विमल शर्मा 'विमल' commented on विमल शर्मा 'विमल''s blog post रंग हम ऐसा लगाने आ गये - विमल शर्मा 'विमल'
"आदरणी अग्रज लक्ष्मण धामी जी कोटिशः आभार एवं धन्यवाद"
yesterday
SALIM RAZA REWA commented on SALIM RAZA REWA's blog post कैसे कहें की इश्क़ ने क्या क्या बना दिया - सलीम 'रज़ा'
"नज़रे इनायत के लिए बहुत शुक्रिया नीलेश भाई , आप सही कह रहें हैं कुछ मशवरा अत फरमाएं।"
Tuesday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कठिन बस वासना से पार पाना है-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'( गजल )
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन । गजल के अनुमोदन के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
Tuesday
Mahendra Kumar commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल : इक दिन मैं अपने आप से इतना ख़फ़ा रहा
"आपकी पारखी नज़र को सलाम आदरणीय निलेश सर। इस मिसरे को ले कर मैं दुविधा में था। पहले 'दी' के…"
Tuesday
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post कुछ क्षणिकाएँ : ....
""आदरणीय   Samar kabeer' जी सृजन पर आपकी ऊर्जावान प्रतिक्रिया का दिल से…"
Tuesday
PHOOL SINGH commented on PHOOL SINGH's blog post पिशुन/चुगलखोर-एक भेदी
"भाई विजय निकोरे आपने मेरी रचना के अपना समय निकाला उसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद "
Tuesday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service