For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...

ओपन बुक्स ऑनलाइन के सभी सदस्यों को प्रणाम, बहुत दिनों से मेरे मन मे एक विचार आ रहा था कि एक ऐसा फोरम भी होना चाहिये जिसमे हम लोग अपने सदस्यों की ख़ुशी और गम को नजदीक से महसूस कर सके, इसी बात को ध्यान मे रखकर यह फोरम प्रारंभ किया जा रहा है, जिसमे सदस्य गण एक दूसरे के सुख और दुःख की बातो को यहाँ लिख सकते है और एक दूसरे के सुख दुःख मे शामिल हो सकते है |

धन्यवाद सहित
आप सब का अपना
ADMIN
OBO

Views: 69056

Reply to This

Replies to This Discussion

वाह वाह पर वाह वा, वाह वा भई वाह..

ओबीओ फिर जग गया, जहाँ चाह तँह राह

जय हो.. 

बहुत ख़ुशी हुई,इन्तिज़ार की घड़ियाँ समाप्त ।

जान में जान आई सर...

बजा फ़रमाया ।

अलविदा महिमा जी

महिमाश्री जी को मैं एक संवेदनशील रचनाकार के रूप में जानता था, उनसे मेरी पहचान ओबीओ पर ही हुई थी। वे बेहद संवेदनशील रचनाकार थीं, वो अपनी खुशी दूसरों से साझा करना चाहती थी पर शायद तकलीफ नहीं, इसलिए उन्होंने शुरू में शायद यह ज़ाहिर नहीं किया कि उन्हें कैंसर जैसी दुःसाध्य बीमारी ने जकड़ लिया है। मगर मैं इस सोच में था कि वह इसके विरुद्ध जंग जीतकर लौट आई हैं। आज अचानक उनके निधन का बेहद दुःखद समाचार सुनकर स्तब्ध हूँ, जो मुझे फेसबुक पर आदरणीया कल्पना भट्ट दीदी की पोस्ट से मिला।

सादर श्रद्धांजलि महिमाश्री जी

विनम्र श्रद्धांजलि ।

विनम्र श्रद्धांजलि प्रिय महिमा श्री | यूं ऐसे कोई जाता है क्या भला? 

महिमा श्री शायद २००७ के लगभग जागरण जंक्शन पर साथ-साथ ब्लॉग लिखने से परिचय में आयी. लगभग एक साथ ही ओ बी ओ से जुड़ीं. २०१४ में हल्द्वानी में हुए ओ बी ओ के प्रथम कार्यक्रम में उससे मुलाक़ात का अवसर मिला था. गद्य लेखन उसे अधिक प्रिय था. अपनी कुछ कवितायेँ और कल्लोलिनी में समीक्षा के लिए पुस्तक भेजने पर व्हाट्स अप के अनुसार १६ अप्रेल को उससे अंतिम बार चर्चा हुई. ज़रा भी ऐसा नहीं लगता था कि यह आखिरी बार बात हो रही है. किन्तु ईश्वर की मर्जी के आगे किसकी चली है. मन बहुत खिन्न है. विनम्र श्रृद्धांजलि.

विनम्र श्रद्धांजलि

दुःखद ख़बर....भावपूर्ण  श्रद्धांजलि 

बेहद दुखद।विनम्र श्रद्धांजलि 

आदरणीया कल्पना भट्ट जी की पोस्ट से ज्ञात हुआ कि ओपेनबुक्स ओ लाइन की एक समय की सक्रिय सदस्य युवा कवयित्री नहीं रहीं। अत्यंत ही दुःखद समाचार है। ओबीओ के बैनरतले प्राची सिंह जी के संयोजन में हल्द्वानी में आयोजित समारोह में महिमा जी से मुलाकात हुई थी। वीनस केसरी जी द्वारा इलाहाबाद में आयोजित पुस्तक विमोचन समारोह में भी उनसे मुलाकात हुईथी। वीनस केसरी जी द्वारा लखनऊ में आयोजित पुस्तक विमोचन समारोह में भी हम मिले थे। वह खुशमिजाज सदस्य थी। महिमा जी को विनम्र श्रद्धांजलि। 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-159
"आदरणीय Sanjay Shukla जी आदाब  अच्छी ग़ज़ल के लिए बधाई स्वीकार करें।  इतनी सी बात थी कि…"
2 hours ago
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-159
"उस्ताद-ए-मुहतरम आदरणीय समर कबीर साहिब को मेरा सादर चरणस्पर्श "
7 hours ago
Sanjay Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-159
"221 2121 1221 212 फिर से गुनाहगार वो ठहरा गई मुझे क्या जाने किस की आह थी जो खा गई मुझे /1 इतनी सी…"
7 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-159
"स्वागत है"
7 hours ago
Admin replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-159
"स्वागतम"
7 hours ago
Euphonic Amit commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल: अगर कोशिश करेंगे आबोदाना मिल ही जाएगा।
"आदरणीय बलराम धाकड़ जी आदाब  ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है।  कुछ बिंदुओं से अवगत करवाना…"
7 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on Sushil Sarna's blog post बेटी दिवस पर दोहा ग़ज़ल. . . .
"धरती अरु आकाश पर , लिख दी अपनी जीत,बेटी ने अब छू लिया , धरा से आसमान ।। आदरणीय सुशील सरना जी,…"
11 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post क्षणिकायें 01/23 - डॉ० विजय शंकर
"आदरणीय कल्पना भट्ट जी, क्षणिकाओं को स्वीकृति प्रदान करने के लिए आभार , बधाई के लिए धन्यवाद , सादर ."
11 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post क्षणिकायें 01/23 - डॉ० विजय शंकर
"आदरणीय लक्ष्मण धामी मुसाफिर जी , रचना को पसंद करने के लिए आभार एवं आपको शुभकामनाएँ,सादर."
11 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on Dr. Vijai Shanker's blog post क्षणिकायें 01/23 - डॉ० विजय शंकर
"सुंदर अभिव्यक्ति हुई है डॉ विजय शंकर जी। बधाई स्वीकारें"
14 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .राजनीति
"सुंदर दोहे हुए है आदरणीय सुशील सरना जी । बधाई स्वीकारें।"
14 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') posted a blog post

डर के आगे (लघुकथा)

. पिंकी के बारे में उसको यह पता चला था कि वह बहुत बीमार रही और काफ़ी समय तक अस्पताल में रही। उसको…See More
17 hours ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service