For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Shyam Bihari Shyamal
Share on Facebook MySpace

Shyam Bihari Shyamal's Friends

  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • ARVIND KUMAR TIWARI
  • Savita Singh
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी'
  • praveen singh "sagar"
  • ajay agyat
  • राज़ नवादवी
  • Rajiv Gupta
  • Manmohan kaana
  • विनोद अनुज
  • Monika Jain
  • shashiprakash saini
  • sujeet kumar jalaj
  • Pradeep Bahuguna Darpan

Shyam Bihari Shyamal's Groups

Shyam Bihari Shyamal's Discussions

'कामायनी' के 75 साल पर मौन क्‍यों

हिन्‍दी भाषा के अद्वितीय महाकाव्‍य 'कामायनी' का महत्‍व सर्वज्ञात है। यह अनमोल कृति हमारी भाषा ही नहीं, अब तो विश्‍व साहित्‍य की एक अनमोल उपलब्घि के रूप में समादृत है। इस महान कृति के 75 साल पूरे होने…Continue

Tags: बेपरवाह, ?, इतने, क्‍यों, हिन्‍दी

Started Jun 18, 2012

नियम में 'अपवाद' को जगह मिले
28 Replies

ओबीओ पर 'अप्रकाशित' वाला नियम उचित है किंतु मेरे विचार से कोपयोगी सामग्री को इसमें कुछ छूट मिलनी चाहिए। जो सामग्री हमारे साहित्‍य की गौरव-गरिमा में अभिवृद्धि करने के उद्देश्‍य से तैयार की गई हो उसकी…Continue

Started this discussion. Last reply by Er. Ambarish Srivastava Feb 7, 2012.

आलोचना के प्रति रुचि में कमी क्‍यों
1 Reply

कविता, कहानी और लघुकथा आदि विधाओं में नये रचनाकारों का आगमन लगातार दिख रहा है। यहां ओबीओ पर भी नये रचनाकारों की सक्रियता प्रसन्‍नता से भर रही है किन्‍तु इसके बरक्‍स आलोचना में नवागमन लगभग नगण्‍य है।…Continue

Tags: नहीं, क्‍यों, नवागमन, के, आलोचना

Started this discussion. Last reply by Abhinav Arun Dec 10, 2011.

सम्‍पूर्ण रचना है विनय कुल का हर कार्टून
5 Replies

विनय कुल का हर कार्टून सम्‍पूर्ण रचना है। पल भर में पाठक को अपने प्रभाव में समेट लेने वाली कृतियां। इनकी प्रभावान्विति असंदिग्‍ध और प्रत्‍यक्ष है। कार्टून सामने आते ही चेहरे पर कभी इकहरी भी तो कभी…Continue

Tags: हो, पहल, की, मूल्‍यांकन

Started this discussion. Last reply by Vinay Kull Jul 21, 2012.

 

Shyam Bihari Shyamal's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Varanasi
Native Place
Balliya
Profession
service
About me
thought is life

Shyam Bihari Shyamal's Photos

  • Add Photos
  • View All

Shyam Bihari Shyamal's Blog

कवि‍ताएं 00 श्‍याम बि‍हारी श्‍यामल

नदी - 1

नदी ने जब-जब चाहा

गीत गाना

रेत हुई



कंठ…

Continue

Posted on November 28, 2011 at 5:51am

महाकवि‍ जानकी वल्‍लभ शास्‍त्री की याद

महाकवि‍ जानकी वल्‍लभ शास्‍त्री की याद 

संस्‍मरण 0 श्‍याम बि‍हारी श्‍यामल…



Continue

Posted on November 26, 2011 at 6:30am — 4 Comments

कवि ताक रहा है फूल

कवि ताक रहा है फूल 

 

श्याम बिहारी श्यामल



अँटा पड़ा है

मटमैला आँचल सदी का

क्षत-विक्षत लाशों से

तब्दील हो रहे हैं

तेज़ी से…

Continue

Posted on November 25, 2011 at 6:00am — 20 Comments

Comment Wall (12 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 4:35pm on October 3, 2012, Manmohan kaana said…

sawagat h shyam ji 

At 10:07pm on January 29, 2012, प्रमोद वाजपेयी said…

आपका स्वागत है श्यामलजी.......

At 10:20am on January 20, 2012, आशीष यादव said…
जन्मदिन की हार्दिक बधाई
At 4:05am on December 14, 2011, Shanno Aggarwal said…

श्यामल जी, आपका बहुत स्वागत है और आपकी सुंदर रचना 'कवि ताक रहा है फूल' के लिये आपको बहुत बधाई ! 

At 7:40am on December 6, 2011,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

आपका हार्दिक स्वागत है, भाई श्यामलजी. आपकी उक्त रचना ’कवि ताक रहा फूल’ ने हर पाठक का ध्यान खींचा है. अपने विशिष्ट कथ्य और इंगित करते शिल्प के कारण वह एक अद्भुत रचना बन गयी है. 
सधन्यवाद. .

At 8:36pm on December 5, 2011, AVINASH S BAGDE said…

तख़्त के शैतान को
इसी का बहुत ग़म है !...kya bat hai Shyamal ji.

At 8:35pm on December 5, 2011, AVINASH S BAGDE said…

 ’कवि ताक रहा है फूल’ को इस माह की सर्वश्रेष्ठ रचना चयनित होने पर श्याम बिहारी श्यामलज़ी मेरी हार्दिक बधाइयाँ.

At 11:57am on December 5, 2011,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

आपकी रचना ’कवि ताक रहा है फूल’ को इस माह की सर्वश्रेष्ठ रचना चयनित होने पर मेरी हार्दिक बधाइयाँ.

आपकी संलग्नता उदाहरण हो.

सधन्यवाद.

At 11:02am on December 5, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय श्री श्याम बिहारी श्यामल जी,

सादर अभिवादन !
मुझे यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की रचना "कवि ताक रहा है फूल" को महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना (Best Creation of the Month) के रूप मे सम्मानित किया गया है, तथा आप की छाया चित्र को ओ बी ओ मुख्य पृष्ठ पर स्थान दिया गया है |
इस शानदार उपलब्धि पर बधाई स्वीकार करे,धन्यवाद,
आपका
गणेश जी "बागी"

संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक
ओपन बुक्स ऑनलाइन

At 10:42am on November 17, 2011, shambhu nath said…

dhanyavaad sir.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल-रफ़ूगर

121 22 121 22 121 22 सिलाई मन की उधड़ रही साँवरे रफ़ूगर सुराख़ दिल के तमाम सिल दो अरे रफ़ूगर उदास रू…See More
2 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी नमस्कार। हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
3 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय ब्रजेश कुमार ब्रज जी हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
3 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"स आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। आदरणीय ग़ज़ल पर इस्लाह देने के लिए बेहद शुक्रिय: ।सर् आपके कहे…"
3 hours ago
Usha Awasthi posted a blog post

सौन्दर्य का पर्याय

उषा अवस्थी"नग्नता" सौन्दर्य का पर्याय बनती जा रही हैफिल्म चलने का बड़ा आधारबनती जा रही है"तन मेरा…See More
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Usha Awasthi's blog post वसन्त
"आ. ऊषा जी, सादर अभिवादन। अच्छी रचना हुई है। हार्दिक बधाई।"
8 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Anita Bhatnagar's blog post ग़ज़ल
"आ. अनीता जी, सादर अभिवादन। गजल का प्रयास अच्छा है पर यह और समय चाहती है। कुछ सुझाव के साथ फिलहाल इस…"
8 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। सुन्दर मुक्तक हुए हैं। हार्दिक बधाई।"
9 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

दोहे वसंत के - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

जिस वसंत की खोज में, बीते अनगिन सालआज स्वयं ही  आ  मिला, आँगन में वाचाल।१।*दुश्मन तजकर दुश्मनी, जब…See More
11 hours ago
PHOOL SINGH posted blog posts
18 hours ago
Balram Dhakar posted a blog post

ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)

22 22 22 22 22 2 पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।उनके मन में भी सौ अजगर बैठे हैं। 'ए' की बेटी,…See More
18 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा मुक्तक .....

दोहा मुक्तक. . . .दर्द   भरी   हैं   लोरियाँ, भूखे    बीते    रैन।दृगजल  से  रहते  भरे, निर्धन  के …See More
18 hours ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service