For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल इस्लाह के लिए (गुरप्रीत सिंह)

2122 -1212 -22


आस दिल में दबी रही होगी
और फिर ख़्वाब बन गई होगी।

टूट जाए सभी का दिल या रब
दिलजले को बड़ी ख़ुशी होगी।

ज़ह्न हारा हुआ सा बैठा है
दिल से तक़रार हो गई होगी।

जिसकी खातिर लुटा दी जान उसने
चीज़ वो भी तो कीमती होगी।

जब मुड़ा तेरी ओर परवाना
शमअ बेइन्तहा जली होगी।

(मौलिक व् अप्रकाशित)

Views: 223

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' on August 18, 2017 at 5:22am
आद0 गुरप्रीत जी सादर अभिवादन, बहुत खूबसूरत ग़ज़ल, बहुत उम्दा, दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ
Comment by सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' on August 18, 2017 at 5:15am
आद0 गुरप्रीत जी सादर अभिवादन, बहुत खूबसूरत ग़ज़ल, बहुत उम्दा, दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ
Comment by Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" on August 7, 2017 at 1:25pm
आदरणीय विजय सर सादर आभार
Comment by Gurpreet Singh on July 17, 2017 at 3:56pm

बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सौरभ पांडे जी,,


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on July 17, 2017 at 3:03pm

जिसकी खातिर लुटा दी जान उसने 
चीज़ वो भी तो कीमती होगी।

जब मुड़ा तेरी ओर परवाना 
शमअ बेइन्तहा जली होगी।.......... 

कमाल .. उपर्युक्त इन दो शेरों ने विशेष ध्यानाकॄष्ट किया है, आदरनीय़ गुरप्रीत जी. 

इस ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाइयाँ 

Comment by Gurpreet Singh on July 17, 2017 at 1:03pm
बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय नीलेश जी..
Comment by Gurpreet Singh on July 17, 2017 at 1:03pm
शुक्रिया आदरणीय हरी प्रकाश जी...मैं अभी ग़ज़ल सीख रहा हूँ..और चाहता हूँ की मंच पर उपस्थित गुणीजन मेरी रचना की कमियां बताएँ और अगर हो सके तो उन कमियों का समाधान ढूँढ़ने में मार्ग दर्शन करें ..इसी आशय से लिखा था
Comment by Gurpreet Singh on July 17, 2017 at 1:00pm
शुक्रिया आदरणीया कल्पना जी
Comment by Gurpreet Singh on July 17, 2017 at 12:59pm
शुक्रिया आदरणीय खुर्शीद जी
Comment by Nilesh Shevgaonkar on July 17, 2017 at 9:01am

जब मुड़ा तेरी ओर परवाना 
शमअ बेइन्तहा जली होगी।... भाई इस शेर के लिये विशेष बधाई 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Sushil Sarna commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल शाम होते ही सँवर जाएंगे
"चाँद बनकर वो निखर जाएंगे । शाम होते ही सँवर जाएंगे ।। जख्म परदे में ही रखना अच्छा । देखकर लोग सिहर…"
11 minutes ago
Sushil Sarna commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय कालीपद जी सुंदर ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई। "
13 minutes ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल
"शुक्रिया  आ सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुश क्षत्रप'जी  , सादर "
27 minutes ago
Samar kabeer commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल
"थोड़ा व्यस्त हूँ अभी,जल्द ही आता हूँ ।"
29 minutes ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय समर कबीर  साहिब , आदाब , आप विन्तुवत सलाह देते आये हैं मुझे और मैं उसी के मुताबिक सुधार…"
33 minutes ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय मोहम्मद आरिफ साहब ,आदाब , इन्तेजार यही है कि गुणी जन विन्दुवत सुधार के लिए सलाह दें तो कुछ…"
39 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल....धीरे धीरे रीत गया - बृजेश कुमार 'ब्रज'
"आ. बृजेश भाई , मुस्काई लफ्ज़ म्वेरे खया से सही है ... कविता और गीत के अलावा भी ''…"
43 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post जय हे काली
"धन्यवाद सुरेंद्र नाथ जी।"
44 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post जय हे काली
"धन्यवाद समर जी।"
45 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post जय हे काली
"धन्यवाद मोहित जी।"
45 minutes ago
Mahendra Kumar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -जैसे धुल कर आईना फ़िर चमकीला हो जाता है,
""फोकस पास का हो तो मंज़र दूर का साफ़ नहीं रहता, मंजिल दुनिया रहती है तो रब धुँधला हो जाता…"
1 hour ago
Mahendra Kumar commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल....धीरे धीरे रीत गया - बृजेश कुमार 'ब्रज'
"आ. बृजेश जी अच्छी ग़ज़ल कही है आपने किन्तु मतले को एक बार और देखने की आवश्यकता है. मेरी तरफ़ से…"
1 hour ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service