For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

GOPAL BAGHEL 'MADHU'
  • Male
  • Toronto, Ontario
  • Canada
Share

GOPAL BAGHEL 'MADHU''s Friends

  • tejendra
  • pramod kumar baghel
  • Gyanendra Nath Tripathi
  • Shyam Bihari Shyamal
  • हरिशंकर पांडेय
  • आचार्य संदीप कुमार त्यागी
  • राजेश शर्मा
  • Brij bhushan choubey
  • bodhisatva kastooriya
  • Bhisham Sabnani
  • अमि तेष
  • प्रमोद वाजपेयी
  • Purushottam Gupta
  • Sanjay Rajendraprasad Yadav
  • Sharad Mishra

GOPAL BAGHEL 'MADHU''s Discussions

अखिल विश्व हिंदी समिति, टोरोंटो, कनाडा द्वारा आयोजित 'विश्व कवि सम्मलेन' व 'विश्व भाषा हिंदी' गोष्ठी के लिये सादर निमंत्रण

प्रिय गणेश जी व ओपन बुक्स ऑनलाइन के समस्त कवि व लेखक गणों, सादर नमस्कार! आपको जानकर प्रसन्नता होगी कि 'अखिल विश्व हिंदी समिति', टोरोंटो, ओंटारियो, कनाडा १८ जून , २०११ को १ बजे से ४:३० बजे शायं 'विश्व…Continue

Tags: आयोजन

Started Jun 13, 2011

 

GOPAL BAGHEL 'MADHU''s Page

Profile Information

Gender
Male
City State
TORONTO
Native Place
MATHURA, U.P., INDIA
Profession
Spiritual Management Poet & Author, President- Akhil Vishva Hindi Samiti, Spiritual Management Foundation and Global Fibers
About me
A Mech. Engg. graduate with Management with over 40 years professional management and business experience in India, Canada and USA. Composed over 1850 spiritual management poems so far. Founding Director and President, Akhil Vishva Hindi Samiti, Spiritual Management Foundation and Global Fibers

GOPAL BAGHEL 'MADHU''s Videos

  • Add Videos
  • View All

GOPAL BAGHEL 'MADHU''s Blog

मधु गीति - कारीगरी करतार की

मधु गीति

 

कारीगरी करतार की

 

कारीगरी करतार की देखे चली हर जिन्दगी;…

Continue

Posted on June 14, 2013 at 4:00am

अनमनी आकुल अखिल की आस्थाएं

अनमनी आकुल अखिल की आस्थाएं

(मधु गीति सं. १७२५ , दि. १४ मार्च, २०११)

 

अनमनी आकुल अखिल की आस्थाएं, व्यवस्था की अवस्था का सुर सुधाएं;

चेतना भरकर…

Continue

Posted on March 31, 2011 at 12:00pm — 2 Comments

हर उर भरे रंग हर होली कर संग

हर उर भरे रंग हर होली कर संग 

(मधु गीति सं. १७३३, दि. २० मार्च, २०११) 

 

हर उर भरे रंग, हर होली कर संग;…

Continue

Posted on March 20, 2011 at 1:49pm — 2 Comments

इन अकेली वादियों में चले आये

इन अकेली वादियों में चले आये

(मधु गीति सं. १७१७, दि. १० मार्च, २०११)

 

इन अकेली वादियों में चले आये, भरा सुर आवादियों का छोड़ आये;

गान तुम निस्तब्धता का सुन हो पाये, तान नीरवता की तुम खोये सिहाये.…

Continue

Posted on March 17, 2011 at 1:06pm — 2 Comments

Comment Wall (13 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 7:41pm on July 7, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 10:31pm on April 4, 2011, अमि तेष said…
Welcome sir...
At 12:54am on February 8, 2011, प्रमोद वाजपेयी said…
मधु जी  आपका स्वागत है।
At 10:29pm on February 4, 2011, ASHVANI KUMAR SHARMA said…
thanx sir
At 10:29pm on February 4, 2011, ASHVANI KUMAR SHARMA said…
thanx sir
At 11:46am on January 9, 2011, Sharad Mishra said…
Thanx Bhaiya,
At 7:03am on November 27, 2010, prabhat kumar roy said…
My dear Gopal Baghel 'Madhu'
Thanks for sending friendship request. I hilariously accept it. It is my pleasure to have a friend like you. Thanks.
pkroy
At 8:33am on November 15, 2010,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 10:54pm on November 14, 2010,
सदस्य टीम प्रबंधन
Rana Pratap Singh
said…

At 12:22pm on November 9, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' posted a blog post

ग़ज़ल (निगाहों-निगाहों में क्या माजरा है)

122-122-122-122निगाहों-निगाहों में क्या माजरा हैन उनको ख़बर है न हमको पता हैन  तुमने  कहा  कुछ न …See More
5 hours ago
amita tiwari posted a blog post

समूची धरा बिन ये अंबर अधूरा है

ये जो है लड़कीहैं उसकी जो आँखेहैं उनमें जो सपनेजागे से सपनेभागे से सपनेसपनों मेंपंखपंखों…See More
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post पहरूये ही सो गये हों जब चमन के- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. अमिता जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-क्या करे कोई
"आ. भाई समर जी, आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूँ । सादर..."
6 hours ago
amita tiwari commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post पहरूये ही सो गये हों जब चमन के- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"पहरूये ही सो गये हों जब चमन केहै जरूरत जागने की तब स्वयम् ही      बहुत खूब ,बहुत…"
6 hours ago
Samar kabeer commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिया जला के उसी सम्त फिर हवा न करे (-रूपम कुमार 'मीत')
"जनाब रूपम कुमार 'मीत' जी आदाब, क़तील शिफ़ाई की ज़मीन में ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई…"
6 hours ago
amita tiwari commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिया जला के उसी सम्त फिर हवा न करे (-रूपम कुमार 'मीत')
" बहुत  अच्छी,सरल और सच्ची भाव रचना "
6 hours ago
amita tiwari commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिया जला के उसी सम्त फिर हवा न करे (-रूपम कुमार 'मीत')
"  "
6 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post चाँदनी
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार।"
7 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी : वृद्ध
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार। जी, अवगत हुआ। हार्दिक आभार।"
7 hours ago
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-क्या करे कोई
"//भाई समर जी, मेरे हिसाब से मतला इस प्रकार करने से कुछ बात बन सकती है// भाई,आपका सुझाव अच्छा…"
7 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-क्या करे कोई
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है बधाई स्वीकार करें। ग़ज़ल के मतले के लिए जनाब…"
8 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service