For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)
  • Male
  • Delhi
  • India
Share
 

Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s Page

Latest Activity

Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

आग कैसी जल रही है आजकल

ग़ज़ल: आग कैसी जल रही है आजकल क्या वबा ये पल रही है आजकलहर ख़बर अब क़हर ही बरपा रही पाँव बिन जो चल रही है आजकलधैर्य का कब ख़त्म होगा इम्तिहाँ हर चमक तो ढल रही है आजकलहो रही है बेअसर हर घोषणा योजना हर टल रही है आजकलनफ़रतों की लहलहाती फ़स्ल ही ज़ह्र बनकर फल रही है आजकलहाल अपना मैं कभी कहता नहीं ख़ामुशी पर खल रही है आजकलफिर 'अमर' गहरा अँधेरा जायेगा जोर से लौ बल रही है आजकल*मौलिक व अप्रकाशित*अमर पंकज (डाँ अमर नाथ झा) दिल्ली विश्वविद्यालय मोबाइल-9871603621See More
May 5
सालिक गणवीर commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post आग कैसी जल रही है आजकल
"आदरणीय अमर पंकज जी शानदार रचना पोस्ट करने के लिए हार्दिक शुभकामनाएं स्वीकारें. लगता है टाइप करते समय वबा की बजाय बवा टाइप हो गया है. सुधार कर लें। सालिक गणवीर"
May 5
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post आग कैसी जल रही है आजकल
"आद0 पंकज जी सादर अभिवादन। बढ़िया ग़ज़ल कही आपने। बधाई स्वीकारें। सादर"
May 5
Samar kabeer commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post आग कैसी जल रही है आजकल
"जनाब अमर पंकज जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । ग़ज़ल के साथ उसके अरकान भी लिख दिया करें,इससे नए सीखने वालों को आसानी होती है ।"
May 4
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

आग कैसी जल रही है आजकल

ग़ज़ल: आग कैसी जल रही है आजकल क्या वबा ये पल रही है आजकलहर ख़बर अब क़हर ही बरपा रही पाँव बिन जो चल रही है आजकलधैर्य का कब ख़त्म होगा इम्तिहाँ हर चमक तो ढल रही है आजकलहो रही है बेअसर हर घोषणा योजना हर टल रही है आजकलनफ़रतों की लहलहाती फ़स्ल ही ज़ह्र बनकर फल रही है आजकलहाल अपना मैं कभी कहता नहीं ख़ामुशी पर खल रही है आजकलफिर 'अमर' गहरा अँधेरा जायेगा जोर से लौ बल रही है आजकल*मौलिक व अप्रकाशित*अमर पंकज (डाँ अमर नाथ झा) दिल्ली विश्वविद्यालय मोबाइल-9871603621See More
May 4
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

ग़ज़ल: अमर नाथ झा

चाहते हो तुम मिटाना नफ़रतों का गर अँधेरा हाथ में ले लो किताबें जल्द आएगा सवेराहै जहालत का कुआँ गहरा बहुत मत डूबना तू लोग हों खुशहाल गुरबत ख़त्म हो ये काम तेराज़ह्र भी अमृत बने जो प्यार की ठंढी छुअन हो नाचती नागिन है बेसुध जब सुनाता धुन सपेरागुफ़्तगू के चंद लमहों ने बदल दी ज़िंदगी अब बन गया सूखा शजर फिर से परिन्दों का बसेराआग का मेरा बदन मैं आँख में सिमटा धुआँ हूँ इश्क़ में अब बन गया सुख चैन का ख़ुद मैं लुटेराफिर 'अमर' आने लगे वो रात दिन ख़्वाबों में मेरे अपने बस में दिल नहीं अब दिल ने छोड़ा साथ…See More
Apr 7
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

ग़ज़ल

मुल्क़ है ख़ुशहाल बतलाती रही मुझको हँसी नित नये किस्सों से भरमाती रही मुझको हँसीगफ़लतों में झूमते थे छुप गया है सूर्य अब बादलों की सोच पर आती रही मुझको हँसीमौत आगे लोग पीछे, था सड़क पर क़ाफ़िला क़ाफ़िले का अर्थ समझाती रही मुझको हँसीदेखकर मायूस बचपन और सहमी औरतें चुप्पियाँ हर ओर शरमाती रही मुझको हँसीगालियों के संग अब तो मिल रहीं हैं लाठियाँ मौत सच या भूख उलझाती रही मुझको हँसीअब करोना क़हर बनकर ख़ौफ है बरपा रहा घर में होकर क़ैद चौंकाती रही मुझको हँसीजान ले तू सच 'अमर' के दर्द ही तेरी दवा आइना हर…See More
Apr 2
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) commented on Samar kabeer's blog post "ओबीओ की सालगिरह का तुहफ़ा"
"वाह। बेहद खूबसूरत। ओ बी ओ की शान में कही गयी मुकम्मिल ग़ज़ल। दिल से बधाई आदरणीय समर कबीर साहेब। आदाब।"
Apr 2
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post ग़ज़ल
"हार्दिक आभार आदरणीय मोहतरम समर कबीर साहेब। ठीक करने की कोशिश करता हूँ। आपका स्नेह बना रहे। आदाब।"
Apr 1
Samar kabeer commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post ग़ज़ल
"जनाब अमर पंकज जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें । 'अब करोना का क़हर बरपा रहा है ख़ौफ तो ' इस पंक्ति में 'क़हर' शब्द ग़लत है,सहीह शब्द है "क़ह्र",और इसका वज़्न 21 है । 'जान लो ये सच…"
Apr 1
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

ग़ज़ल

मुल्क़ है ख़ुशहाल बतलाती रही मुझको हँसी नित नये किस्सों से भरमाती रही मुझको हँसीगफ़लतों में झूमते थे छुप गया है सूर्य अब बादलों की सोच पर आती रही मुझको हँसीमौत आगे लोग पीछे, था सड़क पर क़ाफ़िला क़ाफ़िले का अर्थ समझाती रही मुझको हँसीदेखकर मायूस बचपन और सहमी औरतें चुप्पियाँ हर ओर शरमाती रही मुझको हँसीगालियों के संग अब तो मिल रहीं हैं लाठियाँ मौत सच या भूख उलझाती रही मुझको हँसीअब करोना क़हर बनकर ख़ौफ है बरपा रहा घर में होकर क़ैद चौंकाती रही मुझको हँसीजान ले तू सच 'अमर' के दर्द ही तेरी दवा आइना हर…See More
Mar 31
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post ग़ज़ल
"आदरणीय समर कबीर साहेब। आदाब। ख़ुद को मैं ख़ुशकिस्मत समझ रहा हूँ, जानकर कि ग़ज़ल आप तक पहुँची मोहतरम। क़ाफ़िये को लेकर मैं ख़ुद बहुत संतुष्ट नहीं हूँ, मगर करोना के कहर के मद्देनज़र इसे कहने की कोशिश की है। शायद भविष्य में इसे ठीक कर सकूँ। दिल की…"
Mar 31
Samar kabeer commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post ग़ज़ल
"जनाब 'अमर' पंकज जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,लेकिन पूरी ग़ज़ल में क़वाफ़ी ठीक नहीं हैं,देखियेगा,इस प्रस्तुति पर बधाई ।"
Mar 31
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

ग़ज़ल

हवा ख़ामोश है वीरान हैं सड़कें बहुत अब हो चुका बेकार मत भटकेंनहीं देंगे झुलसने आग से गुलसन हमीं हैं फूल इसके रोज़ हम महकेंहमेशा ही रही तूफ़ान से यारी घड़ी नाज़ुक अभी हम आज कुछ बहकेंहमें मंज़ूर है, हम शंख फूकेंगे कि अब तो चश्म अपनों के नहीं छलकेंक़सम ले लें लड़ेंगे हम करोना से मगर ऐसे कि अब दंगे नहीं भडकेंपुराना डर मुझे बेचैन करता जब कभी उठतीं कभी गिरतीं तेरी पलकेंजमाखोरी बढ़ी मुश्किल हुआ जीना कहो कैसे करोना में 'अमर' चहकें*मौलिक व अप्रकाशित* See More
Mar 30
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) posted a blog post

तेरी मेरे कहीं कुछ कहानी तो है

ग़ज़ल: तेरी मेरी कहीं कुछ कहानी भी है प्यार में तैरती ज़िन्दगानी भी हैमत डरो देख तुम इस जमन की लहर रासलीला तुम्हीं संग रचानी भी हैआँसुओं से नहाती रही उम्र-भरतू ही चंपा मेरी रातरानी भी हैफूल जब मुस्कुराएँ तो समझा करो इन बहारों में अपनी जवानी भी हैबाँध मत प्यार की बह रही है नदी है रवाँ जिसमें उल्फ़त का पानी भी हैसाथ देता हमेशा रहा हमसफ़रज़िन्दगी इसलिए तो सुहानी भी हैअब न छोड़ेगा तुमको अकेला 'अमर' ज़िंदगी साथ हमको बितानी भी हैअमर पंकज (डाॅ अमर नाथ झा) देहली यूनिवर्सिटीमौलिक और अप्रकाशित See More
Jun 14, 2019
Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha) commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post तेरी मेरे कहीं कुछ कहानी तो है
"आदरणीय दंडपाणी नाहक साहेब। आपको ग़ज़ल पसंद आई। हमारा आभार स्वीकार करें। धन्यवाद। "
Jun 12, 2019

Profile Information

Gender
Male
City State
Delhi
Native Place
Deoghar, Jharkhand
Profession
Research and Teaching
About me
I am still a learner.

काशी भी अब मुझको काबा लगता है
दीवाने का दावा सच्चा लगता है

उजले कपड़े दिल का काला लगता है
बनता अपना पर बेगाना लगता है

कब तक झूठे सपने यूँ भरमाएँगे
झूट नहीं अब सच पर ताला लगता है

पास नहीं फिर भी क्यों तुझसे प्यार हमें
"चाँद बता तू कौन हमारा लगता है"

पीकर ज़ह्र ग़ज़ल तुम कहते हो कैसे
हम को तो मुश्किल हर मिसरा लगता है

तूफ़ाँ में जब फँस जाती है नाव "अमर"
तब तो रब ही एक सहारा लगता है

मौलिक व अप्रकाशित 

Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s Blog

आग कैसी जल रही है आजकल

ग़ज़ल:



आग कैसी जल रही है आजकल

क्या वबा ये पल रही है आजकल

हर ख़बर अब क़हर ही बरपा रही

पाँव बिन जो चल रही है आजकल

धैर्य का कब ख़त्म होगा इम्तिहाँ

हर चमक तो ढल रही है आजकल

हो रही है बेअसर हर घोषणा

योजना हर टल रही है आजकल

नफ़रतों की लहलहाती फ़स्ल ही

ज़ह्र बनकर फल रही है आजकल

हाल अपना मैं कभी कहता नहीं

ख़ामुशी पर खल रही है आजकल

फिर 'अमर' गहरा अँधेरा जायेगा

जोर…

Continue

Posted on May 3, 2020 at 3:00pm — 3 Comments

ग़ज़ल: अमर नाथ झा

चाहते हो तुम मिटाना नफ़रतों का गर अँधेरा

हाथ में ले लो किताबें जल्द आएगा सवेरा

है जहालत का कुआँ गहरा बहुत मत डूबना तू

लोग हों खुशहाल गुरबत ख़त्म हो ये काम तेरा

ज़ह्र भी अमृत बने जो प्यार की ठंढी छुअन हो

नाचती नागिन है बेसुध जब सुनाता धुन सपेरा

गुफ़्तगू के चंद लमहों ने बदल दी ज़िंदगी अब

बन गया सूखा शजर फिर से परिन्दों का बसेरा

आग का मेरा बदन मैं आँख में सिमटा धुआँ हूँ

इश्क़ में अब बन गया सुख चैन का ख़ुद मैं…

Continue

Posted on April 7, 2020 at 9:00pm

ग़ज़ल

मुल्क़ है ख़ुशहाल बतलाती रही मुझको हँसी

नित नये किस्सों से भरमाती रही मुझको हँसी

गफ़लतों में झूमते थे छुप गया है सूर्य अब

बादलों की सोच पर आती रही मुझको हँसी

मौत आगे लोग पीछे, था सड़क पर क़ाफ़िला

क़ाफ़िले का अर्थ समझाती रही मुझको हँसी

देखकर मायूस बचपन और सहमी औरतें

चुप्पियाँ हर ओर शरमाती रही मुझको हँसी

गालियों के संग अब तो मिल रहीं हैं लाठियाँ

मौत सच या भूख उलझाती रही मुझको हँसी

अब करोना क़हर…

Continue

Posted on March 31, 2020 at 8:00pm — 2 Comments

ग़ज़ल

हवा ख़ामोश है वीरान हैं सड़कें

बहुत अब हो चुका बेकार मत भटकें

नहीं देंगे झुलसने आग से गुलसन

हमीं हैं फूल इसके रोज़ हम महकें

हमेशा ही रही तूफ़ान से यारी

घड़ी नाज़ुक अभी हम आज कुछ बहकें

हमें मंज़ूर है, हम शंख फूकेंगे

कि अब तो चश्म अपनों के नहीं छलकें

क़सम ले लें लड़ेंगे हम करोना से

मगर ऐसे कि अब दंगे नहीं भडकें

पुराना डर मुझे बेचैन करता जब

कभी उठतीं कभी गिरतीं तेरी…

Continue

Posted on March 30, 2020 at 4:30pm — 2 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 12:54pm on May 26, 2019, dandpani nahak said…
आदरणीय डॉ. अमर नाथ झा जी आदाब और बहुत बहुत शुक्रिया आपकी हौसला अफ़ज़ाई का
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( ये नया द्रोहकाल है बाबा...)
"प्रिय रुपम बहुत शुक्रिया ,बालक.ऐसे ही मिहनत करते रहो.बहुत ऊपर जाना है. सस्नेह"
6 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post "तरही ग़ज़ल नम्बर 4
"जनाब रूपम कुमार जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना के लिए आपका बहुत शुक्रिय: ।"
11 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post एक मुश्किल बह्र,"बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्बा सालिम" में एक ग़ज़ल
"जनाब रूपम कुमार जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना के लिए आपका बहुत शुक्रिय: ।"
11 hours ago
डॉ छोटेलाल सिंह posted a blog post

परम पावनी गंगा

चन्द्रलोक की सारी सुषमा, आज लुप्त हो जाती है। लोल लहर की सुरम्य आभा, कचरों में खो जाती है चाँदी…See More
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Samar kabeer's blog post "तरही ग़ज़ल नम्बर 4
"दर्द बढ़ता ही जा रहा है,"समर" कैसी देकर दवा गया है मुझे  क्या शेर कह दिया साहब आपने…"
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Samar kabeer's blog post एक मुश्किल बह्र,"बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्बा सालिम" में एक ग़ज़ल
"समर कबीर साहब आपकी ग़ज़ल पढ़ के दिल खुश हो गया मुबारकबाद देता हूँ इस बालक की बधाई स्वीकार करे !!! :)"
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted a blog post

ये ग़म ताजा नहीं करना है मुझको

१२२२/१२२२/१२२ ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको वफ़ा का नाम अब डसता है मुझको[१] मुझे वो बा-वफ़ा लगता…See More
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post गंगादशहरा पर कुछ दोहे
"आ. भाई छोटेलाल जी, सादर अभिवादन । दोहों पर उपस्थिति और सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद ।"
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( हम सुनाते दास्ताँ फिर ज़िन्दगी की....)
"खूब ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद हार्दिक बधाई सालिक गणवीर  सर "
12 hours ago
डॉ छोटेलाल सिंह commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post गंगादशहरा पर कुछ दोहे
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी बहुत बढ़िया दोहे मन प्रसन्न हो गया सादर बधाई कुबूल कीजिए"
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( नहीं था इतना भी सस्ता कभी मैं....)
"मुझे भी तुम अगर तिनका बनाते हवा के साथ उड़ जाता कभी मैं बनाया है मुझे सागर उसीने हुआ करता था इक…"
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( ये नया द्रोहकाल है बाबा...)
"क्या रदीफ़ ली है सालिक गणवीर  सर आपने वाह!"
12 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service