For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल : हर अँधेरा ठगा नहीं करता

हर अँधेरा ठगा नहीं करता

हर उजाला वफा नहीं करता

 

देख बच्चा भी ले ग्रहण में तो

सूर्य उसपर दया नहीं करता

 

चाँद सूरज का मैल भी ना हो

फिर भी तम से दगा नहीं करता

 

बावफा है जो देश खाता है

बेवफा है जो क्या नहीं करता

 

गल रही कोढ़ से सियासत है

कोइ अब भी दवा नहीं करता

 

प्यार खींचे इसे समंदर का

नीर यूँ ही बहा नहीं करता

 

झूठ साबित हुई कहावत ये

श्वान को घी पचा नहीं करता

Views: 162

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by धर्मेन्द्र कुमार सिंह on March 11, 2011 at 5:40pm
बागी जी, वंदना जी, दुष्यंत जी, अरुण जी, विवेक जी एवं आशीष जी ग़ज़लल पसंद करने के लिए आप सबका बहुत बहुत आभार
Comment by आशीष यादव on March 9, 2011 at 6:57pm
sundar khayaalo ki khubsurat ghazal. bikul hakikati bato se bhari. congrats sir.
Comment by विवेक मिश्र on March 9, 2011 at 2:49pm

आदरणीय धर्मेन्द्र सर,

उम्दा ख्यालों से लबरेज़ इस ग़ज़ल की जितनी तारीफ़ की जाए, कम है. दाद कबूल करें.

'सकते' की वज़ह से नीचे लिखे मिसरे को आपकी नज़र-ए-सानी की दरकार है.

/कोइ अब भी दवा नहीं करता/ (ab+bhi)

 

सादर

Comment by Abhinav Arun on March 9, 2011 at 1:48pm
बहुत खूब -

गल रही कोढ़ से सियासत है

कोइ अब भी दवा नहीं करता

बिलकुल सामायिक शेर और प्रभावी भी बधाई |

Comment by दुष्यंत सेवक on March 9, 2011 at 12:21pm
बहुत सुंदर...सुंदर शब्दों मे तल्ख़ बात की है धर्मेन्द्र जी....व्यवस्था को आईना दिखती रचना...आभार

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on March 9, 2011 at 9:19am

झूठ साबित हुई कहावत ये

श्वान को घी पचा नहीं करता,

 

वाह वाह धर्मेन्द्र भाई , बहुत खूब कहा है , अब तो श्वान कम्बल ओढ़ घी पी रहे है और पचा भी ले रहे है पर कभी कभी अधिकता के कारण उल्टियाँ भी कर रहे है मतलब ओवर फ्लो हो जा रहा है |

सभी शे'र एक पर एक , बधाई कुबूल करे |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on Manan Kumar singh's blog post जाति गणना
"जनाब मनन कुमार सिंह जी आदाब, अच्छी लघुकथा हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
7 minutes ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post सावन के दोहे : ..........
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छे दोहे रचे आपने, बधाई स्वीकार करें । 'यादें करती…"
9 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हमको समझ नहीं-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"हार्दिक बधाई आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी। बहुत सुन्दर ग़ज़ल । नफरत ही…"
21 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post आजकल इस देश में-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"हार्दिक बधाई आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी । लाजवाब ग़ज़ल । भूखे रहने की…"
24 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हमने तो देखा बीज न खेतों में डालकर -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"बेहतरीन ग़ज़ल । हार्दिक बधाई आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी ।  रोटी का…"
27 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"हार्दिक बधाई आदरणीय बबीता जी। अच्छा प्रयास।"
31 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"हार्दिक बधाई आदरणीय मनन कुमार जी।सुन्दर  रचना।"
33 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"हार्दिक आभार आदरणीय मनन कुमार जी।"
35 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"हर्दिक आभार आदरणीय लक्ष्मण धामी "मुसफ़िर" जी। मुझे बहुत खुशी है कि आप लघुकथा के मर्म तक…"
36 minutes ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"टंकण जनित त्रुटियां भी होती हैं।ध्यान दिलाने के लिए शुक्रिया। हां,बात त्यक्त और और परित्यक्त पर…"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"आ.तेजवीर भाई जी,लघुकथा के लिए बधाई लीजिए।"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-76
"गोष्ठी में सहभागिता के लिए बधाई।शेष कहा जा चुका है।गौर करें।"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service