For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Pratibha Pandey
  • Female
  • faridabad
  • India
Share on Facebook MySpace

Pratibha Pandey's Friends

  • प्रदीप देवीशरण भट्ट
  • Samar kabeer
  • डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव
  • C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi"
  • लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
  • गिरिराज भंडारी
  • Sushil Sarna
  • Dayaram Methani
  • Saurabh Pandey
  • Er. Ganesh Jee "Bagi"

Pratibha Pandey's Groups

 

Pratibha Pandey's Page

Latest Activity

Dayaram Methani and Pratibha Pandey are now friends
Jul 18, 2022
C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi" commented on Pratibha Pandey's blog post काश हम हवा होते
"'काश हम हवा होते ' कोमल भावनाओं से परिपूर्ण अच्छी रचना | बधाई प्रतिभा पाण्डे जी | "
Nov 15, 2021
Pratibha Pandey posted a blog post

काश हम हवा होते

कुछ तो बात है इन हवाओं में जो तुम्हें छूकर आ रही हैं ,बताती हैं वो कशिश जो तुमसे मिलकर महसूस होती है,तुम्हारी तड़प और बेचैनी का भी हाल बयान करती हैं,अब तो ऐसा हाल है की कुछ जलन सी होने लगी है इन हवाओँ से ,अगर हम हवा होते तो बस कभी भी इन ज़ुल्फों को फहराकर छुप जाते ,इस चेहरे की चमक बन जाते ,इन आँखों की नमी बन कभी कभी छलक जाते ,इन होठों की मुस्कान बन खिल ही जाते,कानों के झुमकों को थोड़ा-सा हिलाकर ख़ूब ख़ुश हो जाते ,हाथों की चूड़ियों को आपस में टकरा देते और उस खनक का आनंद उठाते ,बस हम हवा होते तो हमेशा…See More
Aug 26, 2019
Pratibha Pandey commented on Sushil Sarna's blog post ऐ पवन ! ....
"सुन्दर रचना सर ,हवा(पवन) पर तो हम भी कुछ कहना चाहते है "
Aug 25, 2019
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव left a comment for Pratibha Pandey
"आई० आपको मित्र के रूप में पाना मेरा सौभाग्य है  i आपकी लेखनी उर्वर बनी रहे i सादर i "
Aug 20, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"जी सर , आप की बात शिरोधार्य , बिना छंद और विधान लिखे बिना भी मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद्  कोशिश करुँगी की छंद का ज्ञान पा  सकूँ "
Aug 18, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"होसला अफजाही के लिए शुक्रिया सर , "
Aug 18, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
" होसला देने के लिए धन्यवाद्  mam "
Aug 18, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"जी सर ,मेरी अबोध रचना पर आप गुनी जानो की दृष्टि पड़ी सो आभार  छंद सिखने और प्रस्तुत करने की कोशिश जारी  रखूंगी , धन्यवाद सर "
Aug 18, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"सुन्दर शब्दों के लिए आभार ,और आपके सानिध्य में छंद सीखने और प्रस्तुत करने का प्रयास करुँगी "
Aug 18, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"शहर की गलियों में आज जो मैंने देखा है | वर्षा जल से भरा हुआ गली का हर कोना है ||   यूँ तो वर्षा का मोल बहुत है सावन और भादो में | उतना ही अनमोल है वह बच्चों के क्रीड़ा कलापों में ||   सड़कें तो अब दिखती नहीं चारों ओर भरा जो पानी | निचले…"
Aug 17, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"शहर की गलियों में आज जो मैंने देखा है | वर्षा जल से भरा हुआ गली का हर कोना है ||   यूँ तो वर्षा का मोल बहुत है सावन और भादो में | उतना ही अनमोल है वह बच्चों के क्रीड़ा कलापों में ||   सड़कें तो अब दिखती नहीं चारों ओर भरा जो पानी | निचले…"
Aug 17, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"शहर की गलियों में आज जो मैंने देखा है | वर्षा जल से भरा हुआ गली का हर कोना है ||   यूँ तो वर्षा का मोल बहुत है सावन और भादो में | उतना ही अनमोल है वह बच्चों के क्रीड़ा कलापों में ||   सड़कें तो अब दिखती नहीं चारों ओर भरा जो पानी | निचले…"
Aug 17, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"शहर की गलियों में आज जो मैंने देखा है | वर्षा जल से भरा हुआ गली का हर कोना है ||   यूँ तो वर्षा का मोल बहुत है सावन और भादो में | उतना ही अनमोल है वह बच्चों के क्रीड़ा कलापों में ||   सड़कें तो अब दिखती नहीं चारों ओर भरा जो पानी | निचले…"
Aug 17, 2019
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आप सभी महान काव्य छंद रचनाकारों को प्रणाम | आप सभी की उत्तम रचना के बीच मेरी अबोध रचना को एक छोटा सा स्थान  मिल सके इसी आशा में मेरा प्रयास स्वीकार करें "
Aug 17, 2019
Pratibha Pandey joined Admin's group
Thumbnail

चित्र से काव्य तक

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोंत्सव" में भाग लेने हेतु सदस्य इस समूह को ज्वाइन कर ले |See More
Aug 17, 2019

Profile Information

Gender
Female
City State
Delhi
Native Place
Gorakhpur
Profession
none
About me
something to think every time

Pratibha Pandey's Blog

काश हम हवा होते

कुछ तो बात है इन हवाओं में जो तुम्हें छूकर आ रही हैं ,
बताती हैं वो कशिश जो तुमसे मिलकर महसूस होती है,
तुम्हारी तड़प और बेचैनी का भी हाल बयान करती हैं,
अब तो ऐसा हाल है की कुछ जलन सी होने लगी है इन हवाओँ से ,
अगर हम हवा होते तो बस कभी भी इन ज़ुल्फों को फहराकर छुप जाते ,
इस…
Continue

Posted on August 25, 2019 at 7:00am — 1 Comment

वियोग

￰मिले थे हम यूँ किनारे समंदर था पहाड़ थे ,
जीवन शैली के कुछ नए अरमान थे ,
कुछ नए पुराने से आयाम थे,
कुछ तड़प थी कुछ झड़प थी ,…
Continue

Posted on August 15, 2019 at 5:30pm — 2 Comments

चाँद सितारे

दिन ढला तो शाम हुई, शाम ढली तो रात,

रात जो आई तो ख़ुश हुए, चाँद और तारे हज़ार||

तारे बोले ऐ चाँद, 

तरसते रहते दिनभर, हम तेरे दीदार को,

पर सूरज भैया को कैसे धमकाएँ,

राज करते धरती और आसमान पर जो||…

Continue

Posted on August 9, 2019 at 5:01pm — 8 Comments

आगाज़

एक तिल से ताड़ करो , आराम नहीं आगाज़ करो||

घर गृहथी का कार्य करो , और अपना भी कुछ सम्मान करो ||

पत्नी बनो, माँ बनो और बन जाओ एक लेखिका भी ||

लेखिका बनकर खिलादो वो सारे ज़ज़्बात भी||

मन बुद्धि शब्दों से बुद्धि मन पर प्रहार करो ||

एक तिल से ताड़ करो , आराम नहीं आगाज़ करो

कलम कागज़ को दोस्त बनाओ देकर उन्हें लेखन का न्योता

न्योता देकर पास बुलाओ और फिर करलो एक समझौता

की मेरा साथ निभाओगे और सभी दबे ज़ज़्बात खिलाओगे

एक तिल से…

Continue

Posted on August 3, 2019 at 12:30am — 4 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 3:22pm on August 20, 2019, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आई० आपको मित्र के रूप में पाना मेरा सौभाग्य है  i आपकी लेखनी उर्वर बनी रहे i सादर i 

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

जगदानन्द झा 'मनु' posted a blog post

मैं कौन हूँ

मैं कौन हूँअब तक मैं अपना  पहचान ही नहीं पा सका भीड़ में दबा कुचला व्यथित मानवदड़बे में बंद…See More
9 hours ago
Zaif commented on Zaif's blog post ग़ज़ल - थामती नहीं हैं पलकें अश्कों का उबाल तक (ज़ैफ़)
"आ. बृजेश जी, बहुत आभार आपका।"
yesterday
Usha Awasthi posted a blog post

मन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?

उषा अवस्थीमन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?वे घर ,जो दिखते नहींमिलते हैं धूल में, टिकते नहींपर "मैं"…See More
yesterday
Rachna Bhatia posted a blog post

सदा - क्यों नहीं देते

221--1221--1221--1221आँखों में भरे अश्क गिरा क्यों नहीं देतेहै दर्द अगर सबको बता क्यों नहीं देते2है…See More
yesterday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर् आपके कहे अनुसार ऊला बदल लेती हूँ। ईश्वर आपका साया हम पर…"
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा पंचक. . . . .

दोहा पंचक. . . .साथ चलेंगी नेकियाँ, छूटेगा जब हाथ । बन्दे तेरे कर्म बस , होंगे   तेरे  साथ ।।मिथ्या…See More
Saturday
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .
"जी सृजन के भावों को मान देने और त्रुटि इंगित करने का दिल से आभार । सहमत एवं संशोधित"
Saturday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"'सच्चाई अभी ज़िन्दा है जो मुल्क़ में यारो इंसाफ़ को फ़िर लोग सदा क्यों नहीं देते' ऊला यूँ…"
Saturday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर्, "बिना डर" डीलीट होने से रह गया।क्षमा चाहती…"
Saturday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। अच्छे दोहे हुए है। हार्दिक बधाई। लेकिन यह दोहा पंक्ति में मात्राएं…"
Friday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"आ. भाई बलराम जी, सादर अभिवादन। शंका समाधान के लिए आभार।  यदि उचित लगे तो इस पर विचार कर सकते…"
Friday
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा पंचक. . . . .

दोहा पंचक. . . .साथ चलेंगी नेकियाँ, छूटेगा जब हाथ । बन्दे तेरे कर्म बस , होंगे   तेरे  साथ ।।मिथ्या…See More
Friday

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service