For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग-1)

साथियों,
"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -1) अत्यधिक डाटा दबाव के कारण पृष्ठ जम्प आदि की शिकायत प्राप्त हो रही है जिसके कारण "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2) तैयार किया गया है, अनुरोध है कि कृपया भाग -1 में केवल टिप्पणियों को पोस्ट करें एवं अपनी ग़ज़ल भाग -2 में पोस्ट करें.....

कृपया मुशायरे सम्बंधित अधिक जानकारी एवं मुशायरा भाग 2 में प्रवेश हेतु नीचे दी गयी लिंक क्लिक करें 

"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)

Views: 20268

Replies are closed for this discussion.

Replies to This Discussion

आद० महेंद्र कुमार जी बहुत शानदार ग़ज़ल हुई है दिल से ढेरों दाद हाज़िर हैं गिरह भी कमाल की है 

वक़्त का आज फिर कोई लम्हा 
आँसुओं में डुबा गया है मुझे-----शानदार 

जाना तो मुझको चाहिए था मगर
छोड़ कर वो चला गया है मुझे---आह्ह्ह्ह दिल छू गया ये शेर 

बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीया राजेश मैम। हार्दिक आभार। सादर।

आदरणीय महेंद्र जी उम्दा गजल कही। बधाइयाँ।

उसने मुझको कभी पढ़ा ही नहीं
जिसकी ख़ातिर लिखा गया है मुझे...इन पंक्तियों पर हजार तालियाँ

हृदय से आभारी हूँ आदरणीय अरुण कुमार निगम जी। बहुत-बहुत धन्यवाद। सादर।

आ. भाई महेंद्र कुमार जी, सुंदर गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।

बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय लक्ष्मण धामी जी। हार्दिक आभार। सादर।

अच्छी ग़ज़ल कही है आ महेंद्र कुमार जी| हार्दिक बधाई आपको|

बहुत शुक्रिया आदरणीया कल्पना दी। हार्दिक आभार। सादर।

आदरणीय महेंद्र जी, उम्दा अशआर हुए हैं. हार्दिक बधाई.

गिरह का शेर समर साहब के मूल शेर से टकरा गया लगता है. मूल शेर ये है : 

'क्या कहूँ, कब मिलेगा मीठा फल

सब्र करना तो आ गया है मुझे'

तरही में ऐसा अक्सर हो जाता है. 
 

बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय अजय जी। अगली बार इस तरफ़ और ध्यान रखूँगा। हार्दिक आभार। सादर।

आ० महेंद्र जी खूबसूरत ग़ज़ल कहने के लिए बधाई स्वीकार करें हर शेर उम्दा

हार्दिक आभार आदरणीय अमित जी। बहुत-बहुत धन्यवाद। सादर।

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post साक्षात्कार
"बृजेश कुमार बृज जी, रचना सारगर्भित लगी ,जानकर हर्ष हुआ। हार्दिक धन्यवाद, सादर।"
19 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"धर्म संकट - लघुकथा -  रामसिंह जी घर की देहरी पर से ही दहाड़ते हुए घुसे, "कहाँ है तुम्हारा…"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"आपका आभार आ. प्रतिभा पांडे जी।"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"आपका आभार आ.सोनांचली जी।"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"आपका आभार आ.बबिता जी।"
1 hour ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"आदरणीय मनन जी सादर अभिवादन  आकाश और बादलों के संवाद में निहित संदेश सफलता से संप्रेषित हुआ…"
2 hours ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"भाई उस्मानी जी,निम्नांकित पंक्ति का भाव मैं नहीं समझ पाया: " ऐसे शीर्षक वाली लघुकथाओं की…"
4 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"समीक्षात्मक टिप्पणी लिखने का एक अभ्यास। कृपया मार्गदर्शन अवश्य प्रदान कीजिएगा इस प्रयास पर।"
5 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"रज़्ज़ाक़ (अल्लाह... शब्द का पर्यायवाची है। अतः. रज़्ज़ाक़ ही लिखा जाये, रज्जाक नहीं, तो हम पाठकों को…"
5 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"/जोशीमठ आपदा से प्रेरित/... यह कोष्ठक में न भी लिखा जाता, तो भी रचना का कथानक और कथ्य सुस्पष्ट है।…"
5 hours ago
नाथ सोनांचली replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"आद0 मनन कुमार सिंह जी सादर अभिवादन। क्या कहने,, प्रतीकों में कोई बात कहना आप से सीखे। मैं तो एकदम…"
6 hours ago
नाथ सोनांचली replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-94
"आद0 प्रतिभा पांडेय जी सादर अभिवादन। बेहद गम्भीर विषय पर उत्तम लेखनी। क्या कहने। वाह वाह। बधाई इस…"
6 hours ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service