For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सोमेश्वर मंदिर ( संस्मरण)

सन १९८२ , बी वाय के कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स, शरणपुर रोड, नाशिक , यह उनदिनों की बात है जब मैं इस कॉलेज में पढ़ती थी |

हमारी कॉलेज के पैरेलल दो सड़के जाती थी, एक त्रम्बकेश्वर रोड, और दूसरी गंगापुर रोड , और इन दोनों के बीच पड़ता है हमारा कॉलेज रोड|
हमारे कॉलेज से एक रास्ता कट जाता है जो गंगापुर रोड की तरफ जाता है , कॉलेज से करीब ४.८ किलोमीटर की दुरी पर है यह सोमेश्वर मंदिर | महादेव जी का यह एक प्राचीन मंदिर है , गोदावरी नदी के तट पर बसा यह मंदिर अपनी सुंदरता लिए हुए है | उनदिनों गंगापुर रोड के दोनों किनारों पर खेत खलियान हुआ करते थे | बारिश के मौसम में हरी धरा को देखने का आनंद कुछ और ही होता था | सड़क पर चलते हुए , कहीं होते थे भुट्टे ( मक्के) बेचने वाले और कहीं होते थे लाल अमरुद बेचने वाले लोग जो चटपटा मसाला लगाकर अपना सामान बेचते थे |

सावन के महीने में सोमेश्वर के मंदिर में पूजा आराधना विशेष होती थी , क्योकि शिव जी का ही मंदिर है | कॉलेज से वहां तक पैदल जाने का जैसे मुझे और मेरे साथियों को जूनून था , अक्सर हम वहां चले जाते थे , वहां एक और चीज थी जो हम सभी को पसंद थी , वो थी गोदावरी नदी का निर्मल जल , और उसके थोड़ी दूर पर के झरना है भदभदा के नाम से , सोमेश्वर मंदिर के पास जो नदी है वहां से एक पगडण्डी जाती थी इस भदभदा की और , चट्टानों पर चलते हुए , गीली मिटटी पर चलते हुए कभी फिसलते हुए , पानी में अठखेलियां करते हुए हम भदभदा चले जाते थे |

उस झरने का बहाव इतना खूबसूरत लगता था की मानो दूध बह रहा है, वहीँ पानी से कटी हुई एक छोटी सी गुफा भी है , जो बरसात में और भी सुन्दर दिखती थी | ऊपर से इस झरने को देखना मानो स्वर्ग का एहसास होता था , यहाँ से इसी पानी से पत्थर कटे और कुछ सीढियाँ भी बन गयीं थी , जिसको अब शायद व्यवस्थित बना दिया गया है , उस दौरान बड़ी छोटी , आड़ी तीरछी सीढ़ियों से हम नीचे पहुँच जाते थे , वहां एक बड़ी सी चट्टान पर बैठकर घंटो पानी के खेल किया करते थे, कभी कभी पानी के सांप दिखाई दे जाते थे , पानी में उनको तैरते हुए देखकर बड़ा मज़ा आता था |

वहां से जब थक हार जाते तो दोबारा सोमेश्वर मंदिर की तरफ आ जाते , पूजा अर्चना करके , बाहर आते तो वहां एक अम्मा बैठी हुई दिखाई देती थी, दुबली पतली, नव वारि साड़ी में एक टूटी फूटी टोकरी में पत्ते बिछा कर अमरुद बेचा करती थी वो ,उनसे हमारी दोस्ती हो गयी थी क्योकि अक्सर हम वहां जाया करते थे , कभी लम्बे अंतराल पर जाते तो वे पूछती , " क्यों बच्चों बहुत दिनों में आना हुआ , देखो तुम्हारे मनपसंद लाल अमरुद तैयार कर के रखे है , तुम्हारा शोर दूर से ही सुन लिया था | उस दौरान ५० पैसे या ज्यादा से ज्यादा १ रुपये का एक अमरुद आता था | हम करीब ३० से ४० बच्चों का ग्रुप एक साथ जाता था वहां | आप सोच रहे होंगे इतना बड़ा ग्रुप ? पर हाँ हम सब एक ही ग्रुप के बच्चे थे , कहीं भी जाते थे इक्कठे जाया करते थे कभी कोई एब्सेंट होता था तो प्रयास करते थे की न जाएँ , पर सावन में पूजा करने जाने का हमारा नियम ही था , कभी कभी होता था कुछ लोग नहीं आ पते थे तो उनके घर हम उनके हिस्से का अमरुद शाम को पहुंचा देते थे |

जब तक कॉलेज में पढ़े यह नियम रहा , या तो त्रम्बकेश्वर मंदिर जाना , त्रम्बकेश्वर के लिए तो हमे बस से जाना पड़ता था , वहां मंदिर के दर्शन करने के बाद वहां के बाजार के बीच से एक सड़क जाती है , उसपर थोड़ी दूर चल कर पथरीली सीढियाँ हैं , उसपर छोड़कर एक गौमुखी है जो दक्षिण गोदावरी का उद्गम स्थल है , उसके दर्शन कर पूजन कर हम लौट आते थे |

इस बाज़ार में मीठी सेव गुड़ की बनी हुई बड़ी स्वादिष्ट मिलती थी | हम उसको खरीदकर खाते थे | गौमुखी के पास , कुछ जंगल जैसा भी हुआ करता था , वहां जटाधारी साधुओ को ध्यान में बैठा देखकर कौतुहल होता था | पर वो इलाका आम जनता के लिए वर्जित होता था | पर उनको देखकर कभी तो बहुत डर सा लगता था | अजीब होती थी उनकी वेश भूषा |

कॉलेज के बाद यानी १९८६ -८७ के बाद इन दोनों जगह पर जाना संभव नहीं हो पाया , नाशिक तो गयी , और गर सोमेश्वर गयी भी तो अपने पुराने दोस्तों को तलाशा जो अब सब अपने अपने जीवन में व्यस्त हो गए थे | समय के साथ साथ हर वो चीज़ छूट जाती है , दोस्त भी बिछड़ जाते हैं और रह जाती है सिर्फ यादें और उनके साथ बिताये हुए पल |

आज भी वह जगह मुझे बेहद पसंद है , और पुरानी यादों को याद कर आज भी उस पानी की लेहरो से अटखेलती करती हुई मैं और मेरे साथियों को देख लेती हूँ | क्या हुआ जो यह सिर्फ एक संस्मरण है पर उन पलों को आज भी अपने में ज़िंदा पाती हूँ |

मौलिक और अप्रकाशित

Views: 584

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Nita Kasar on July 25, 2017 at 8:57pm
बेहद रोचक और दिलचस्प संस्मरण है,हम अभी कुछ वर्ष पूर्व त्रामंबकेशवर हो कर आये पुरानी यादें ताज़ा हो गई ।कल्पना बहना बधाई संस्मरण साँझा करने के लिये ।
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on July 23, 2017 at 7:02pm

आदाब समर भाई जी , अभी कुछ दिनों पहले आपने मेरी एक कविता पर कहा था , पहली नदी है बाद में झरना क्यों ? असल में वो इसी जगह की यादे थी | इस जगह पर अनगिनित यादें है बेहद सुंदर जगह है , घंटो बिताया है समय मैंने | हसेंगे आप गर यह कहूँ की कई बार मैं किताबे ले कर जाया करती थी , वहां पत्थर पर बैठकर पढने में बड़ा मजा आता था | सादर | 

Comment by Samar kabeer on July 23, 2017 at 5:56pm
बहना कल्पना भट्ट जी आदाब,यादों पर मबनी आपकी याददाश्त के पन्नों से उभरे इस सृजन पर बधाई स्वीकार करें ।
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on July 23, 2017 at 8:29am
dhanyawad Adarniya Mohit ji
Comment by Mohit mishra (mukt) on July 23, 2017 at 8:21am

सरल शब्दों और साधारण वाक्यों में असाधारण अभिव्यक्ति | सुन्दर संस्मरण 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on रवि भसीन 'शाहिद''s blog post चीन के नाम (नज़्म - शाहिद फ़िरोज़पुरी)
"मुहतरम जनाब रवि भसीन 'शाहिद' जी। इस ज़बरदस्त प्रस्तुति और  जज़्बे के लिए आपको सलाम…"
7 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Usha Awasthi's blog post रिमझिम - रिमझिम बदरा बरसे
"आदरणीया ऊषा अवस्थी जी आदाब, इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई स्वीकार करें। सादर। "
22 minutes ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post वफ़ा के देवता को बेवफ़ा हम कैसे होने दें(११३ )
"भाई Rupam kumar -'मीत'  जी , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिली शुक्रिया | "
2 hours ago
Manoj kumar Ahsaas commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल: मनोज अहसास
" आदरणीय लक्ष्मण धामी मुसाफिर जी ग़ज़ल में शिरकत और हौसला अफजाई के लिए हार्दिक आभार"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted blog posts
3 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (क्या नसीब है)
"जनाब रूपम कुमार 'मीत' जी, ग़ज़ल पर आपकी हाज़िरी और हौसला अफ़ज़ाई के लिये बहुत बहुत…"
5 hours ago
Chetan Prakash left a comment for Rupam kumar -'मीत'
"मित्र, आपका स्वागत है !"
5 hours ago
Chetan Prakash and Rupam kumar -'मीत' are now friends
5 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मौत से कह दो न रोके -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी, ख़ूबसूरत ग़ज़ल हुई है, बधाई स्वीकार करें। चन्द टंकण…"
6 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post वफ़ा के देवता को बेवफ़ा हम कैसे होने दें(११३ )
"साहब, गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' जी आदाब, क़बूल कीजिए, हर शेर के लिए दाद और मुबारक बाद…"
6 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( आएगी कल वफ़ात भी तू सब्र कर अभी...)
"सर सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन क़ुबूल  किजीए। हम वो नहीं हुज़ूर जो डर जाए चोट सेहमने तो…"
7 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (क्या नसीब है)
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहिब, क्या ही  कहने वाह! बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है।"
7 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service