For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")


लता,फूल,रज के हर कण में,नभ से झाँक रहे घन में,
राधे-कृष्णा की छवि दिखती,वृन्दावन के निधिवन में।

प्रेम अलौकिक व्याप्त पवन में,प्रणय गीत से बजते हैं,
राधा-माधव युगल सलोने,निशदिन वहाँ विचरते हैं।

छन-छन पायल की ध्वनि गूँजे, मानो राधा चलती हों,
या बाँहों में प्रिय केशव के,व्याकुल होय मचलती हों।

बनी वल्लरी लिपटी राधा,कृष्ण वृक्ष का रूप धरे,
चाँद सितारे बनकर चादर,निज वल्लभ पर आड़ करे।

मधुर दिव्य लीला प्रभु करते,सकल सृष्टि मधुपान करे,
कुहक पपीहा बेसुध नाचे,कोयल सुर अति तीव्र भरे।

रसिक श्याममय कुञ्ज गलिन में,हँसी-ठिठोली की बातें,
प्रेम सुधा रस पीते-पीते,बीते दिन बीते रातें।

जग ज्वालाएं जलती पल में,दिव्य धाम वृन्दावन में,
परम प्रेम आनंद बरसता,कृष्ण प्रिया के आँगन में।

'शुचि' मन निर्मल है तो जग यह,कृष्णमयी बन जाता है।
प्रेम भाव ही आठ याम नित,सकल जगत पर छाता है।


मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 356

Replies to This Discussion

वाह शुचि बहन लावणी छंद में निधिवन की अपार महिमा का सुंदर वर्णन।.बधाई हो।

प्रोत्साहन हेतु आभार भैया।

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Ashok Kumar Raktale added a discussion to the group पुस्तक समीक्षा
9 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on Ashok Kumar Raktale's blog post ग़ज़ल
"नमस्ते जी, बहुत ही सुंदर प्रस्तुति, हार्दिक बधाई l सादर"
15 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय प्रतिभा जी। बेहतरीन लेखन शैली में अद्भुत लघुकथा।"
26 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक आभार आदरणीय प्रतिभा जी।"
28 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक आभार आदरणीय महेन्द्र कुमार जी।"
29 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक आभार आदरणीय मनन कुमार सिंह जी।"
30 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक आभार आदरणीय योगराज प्रभाकर जी।आपकी बधाई से अभिभूत हो गया।"
31 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक आभार आदरणीय रवि भसीन शाहिद जी।"
34 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय रवि भसीन शाहिद जी। बेहतरीन सन्देश प्रद लघुकथा।"
35 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय मनन कुमार सिंह जी। लाजवाब लघुकथा।"
38 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"आ. प्रतिभा पाण्डेय जी, पौराणिक कथ्य का आधार बना कर विषयानुकूल बढ़िया लघुकथा लिखी है आपने। मेरी तरफ़…"
2 hours ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-90 (विषय: प्रतीक्षा)
"प्रणाम सर ! अनुमोदन हेतु दिल से आभारी हूँ। सादर।"
2 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service