For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

मेरी पुस्तक "प्रेम के पथ पर" का लोकार्पण संपन्न हुआ

मेरी पुस्तक "प्रेम के पथ पर" का विमोचन

दिनांक १९/६/२०१२ को अखिल भारतीय कवि सम्मेलन रालामऊ, सीतापुर में मेरी पुस्तक "प्रेम के पथ" का लोकार्पण श्री विजय कुमार मिश्र 'बाबा जी' चेयरमैन रामगढ़ सुगर केन सोसायटी के द्वारा हुआ.जिसमे देश के तमाम प्रसिद्ध कविगण उपस्थित रहे.

Views: 1212

Attachments:

Reply to This

Replies to This Discussion

शलेन्द्र कुमार म्रदु जी हार्दिक बधाई बहुत अच्छा लगा देख कर इसी तरह उन्नति के शिखर पर चढ़ते जाएँ यही मेरी शुभकामनाएं हैं 

आदरणीया राजेश कुमारी मैम आपका स्नेह मिला बहुत बहुत आभार आपका सादर नमन

अनुज शैलेन्द्र को मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ.  प्रेम के पथ पर अनवरत अग्रसरित रहें.. .

शुभेच्छा.. .

आदरणीय सौरभ सर सादर प्रणाम, आपका आशीर्वाद पाकर मन में एक नया उत्साह नयी उमंग जगी, आप लोगो के बीच रहकर कविता सीख रहा हू ऐसे ही स्नेह का हाँथ हमेशा मेरे सिर रहे, कोटि कोटि नमन उत्साहवर्धन के लिए

म्रदु जी इस उपलब्धि के लिए हार्दिक बधाई । ईश्वर आपको इसी तरह उन्नति के शिखर पर पहुंचाएँ !!!

आदरणीय डॉ. सूर्या बाली "सूरज  sir सादर प्रणाम, आपका आशीर्वाद पाकर नयी उमंग जगी,कोटि कोटि नमन उत्साहवर्धन के लिए

आदरनीय मृदु जी इस महान उपलब्धि पर आपको हार्दिक बधाई , माँ शारदे आपको नित नए शब्द दें जिन्हें आप कविता में पिरो सकें

भाई अरविन्द तिवारी जी आपका बहुत बहुत आभार उत्साहवर्धन  के लिए

भाई शैलेन्द्र कुमार मृदु जी, बहुत ही ख़ुशी की खबर सुनाई है. बहुत बहुत बधाई हो आपको. ये बताएं की आपकी यह पुस्तक कहाँ से मिलेगी?

आदरणीय प्रभाकर सर सादर नमन आपका स्नेह एवं आशीर्वाद मिला मै धन्य हुआ,उत्साहवर्धन के लिए के लिए कोटि कोटि नमन एवं ह्रदय से बहुत बहुत आभार. सर पुस्तक  अभी मार्केट में उपलब्ध नहीं करा पाया हूँ.  मै दो पुस्तकें ओ बी ओ के एड्रेस पर पोस्ट कर दूंगा. सादर 

प्रिय मृदु  जी , सस्नेह 

प्रेम के पथ के विमोचन से मुझे अपार हार्दिक प्रसन्नता है. इस पथ पर चलते हुए सर्वोच्च  शिखर पर विजय पताका फहराएँ. बधाई एवं शुभ कामना. 

आदरणीय प्रदीप  सर सादर नमन आपका स्नेह एवं आशीर्वाद मिला मै धन्य हुआ,उत्साहवर्धन के लिए के लिए कोटि कोटि नमन एवं ह्रदय से बहुत बहुत आभार.

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity


सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-129 in the group चित्र से काव्य तक
"जय-जय"
2 hours ago

मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi" replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-129 in the group चित्र से काव्य तक
"स्वागतम"
2 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' posted blog posts
10 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी .....
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन।  सुन्दर दोहावली हुई है । हार्दिक बधाई।"
13 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी .....
"आदरणीय सुशील सरना जी आदाब, सुंदर दोहा त्रयी हुई है, हार्दिक बधाई स्वीकार करें।  "कभी जीत…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो)
"आदरणीय सुशील सरना जी आदाब, ख़ाकसार की ग़ज़ल पर आपकी पुर-ख़ुलूस नवाज़िशों का तह-ए-दिल से शुक्रिया…"
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा त्रयी .....

दोहा त्रयी...दुख के जंगल हैं घने , सुख की छिटकी धूप ।करम पड़ेंगे भोगने , निर्धन हो या भूप ।।धन वैभव…See More
yesterday
Sushil Sarna commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शिशिर के दोहे -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"वाह आदरणीय लक्ष्मण धामी जी मौसम के अनुकूल बहुत सुंदर दोहावली का सृजन हुआ है सर ।हार्दिक बधाई सर"
yesterday
Sushil Sarna commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो)
"वाह आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब बहुत खूबसूरत गज़ल बनी है सर ।हार्दिक बधाई सर"
yesterday
Aazi Tamaam commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शिशिर के दोहे -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"वाह वाह वाह आ धामी सर बेहद खूबसूरत दोहे हुए बधाई स्वीकार करें"
yesterday
Aazi Tamaam commented on Anita Maurya's blog post एक साँचे में ढाल रक्खा है
"अच्छी रचना हुई आ अनीता जी बधाई स्वीकार करें"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो)
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल का मतला कुछ आपत्तियों के बाद मूल रूप से बदल दिया गया है, इसलिए…"
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service