For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ajay Kumar Sharma's Blog (27)

मन में ही हार, जीत मन में..

मन में ही हार, जीत मन में,

मन में ही अर्थ-अनर्थ लिखा,

लेखनी बदल दे मनोभाव,

तो समझो सत्य, समर्थ लिखा !



यदि प्रेम प्रस्फुटित हो मन में,

अनुराग परस्पर संचित हो,

नि:स्वार्थ भावना हो शाश्वत,

कोई भी नहीं अपवंचित हो,

जब हो समाज में रामराज्य,

तो समझो सार्थक अर्थ लिखा !



यदि छद्म भेष, छल दम्भ द्वेष,

मानव में ही घर कर जाये,

यदि राम कृष्ण की जन्मभूमि,

पर मानवता ही मर जाये,

यदि मन मलीन हो, जड़वत हो,

तो लगा, कदाचित् व्यर्थ… Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on August 10, 2018 at 10:27am — 12 Comments

जमकर नींद सताये रे

इम्तहान के दिन में काहे ,

जमकर नींद सताये रे.

पुस्तक पर जब नजर पड़े ,

तो दुविधा से मन काँप उठे ,

काश,कहीं मिल जाती सुविधा,                                     नइया पार कराये रे .

हर पन्ना पर्वत सा लागे ,

लगे पंक्तियां भी भारी ,

प्रश्नों की तलवार दुधारी ,

रह रह आँख दिखाये रे.

चार दिनों में होना ही है ,

दो दो हाथ पुस्तिका से ,

क्या लिक्खूंगा उत्तर उस पर ,

मन मेरा भरमाये रे…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on May 5, 2018 at 4:54pm — 3 Comments

कैसे करे व्यंग रे...

बीत गई सर्दी , बीत गई ठंड रे ,

दिनभर लुआर बहे गर्मी प्रचंड रे ,

चार दिन की चाँदनी सा प्यारा बसंत था,

पसीने की बूंदों से भीगा अंग-अंग रे ,

स्वेटर,कमीज,कोट लिपटे कई असन वस्त्र,

छोड़छाड़ देह को हुए खंड-खंड रे ,

गर्मी की चुभन से हाल बेहाल हुआ ,

"अज्ञात" कैसे ! कैसे करे व्यंग रे .

मौलिक एवं अप्रकाशित

Added by Ajay Kumar Sharma on February 3, 2018 at 10:30pm — 4 Comments

तिरंगे की खातिर

तिरंगे की खातिर....



इस शुभ दिन पर मैं गाता हूँ,

एक गान तिरंगे की खातिर,

हर एक युवा के दिल में है,

सम्मान तिरंगे की खातिर,

उस माटी पर श्रद्धा अगाध,

उस माटी का यशगान सदा,

अनगिनत वीर हो गये जहाँ,

कुर्बान तिरंगे की खातिर.

हम जहर हलाहल पी सकते,

हम तिल तिल कर मर सकते हैं,

सह सकते हैं सारे हम,

अपमान तिरंगे की खातिर.

कुछ पाने की चाहत भी नहीं,

गर मिले बादशाहत भी नहीं,

कदमों के नीचे रखते हैं,

अरमान तिरंगे की… Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on August 13, 2017 at 10:29am — 4 Comments

'अजय' बीते जमाने में कहीं कुछ छोड़कर आया,

जरा सा सोंचकर देखा तो मुझको याद कर आया,

'अजय' बीते जमाने में कहीं कुछ छोड़कर आया,



सजी यारों की महफिल थी बड़ा बेखौफ बचपन था,

बड़ी मजबूरियों ने रास्तों पर जाल बिछवाया,



ज़माने को समझने की बड़ी पुरजोर कोशिश की,

ज़माने की नसीहत ने ही मुझको और भरमाया,



जिन्हें अपना समझ बैठे थे सारी भूलकर शर्तें,

उन्हीं के कारनामों ने ही मुझको और तड़पाया,



सिवा तेरे जहाँ में और कोई है नहीं मेरा,

मेरे मौला , मेरे मौला तू मेरी रूह में… Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on July 5, 2017 at 11:57pm — 6 Comments

21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर विशेष

21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर विशेष.....



प्रतिदिन योग करे जो कोई,

वो रोगों से दूर रहे,

तन मन में स्फूर्ती आये ,

चेहरे पेे चमकता नूर रहे,

जो सुबह सुबह भस्त्रिका करे,

और शुद्ध वायु तन मन में भरे,

जो करे नित्य प्रति शशकासन,

उत्साह से वो भरपूर रहे,

अनुलोम विलोम , कपालभाति,

सुखमय जीवन की थाती है,

ना उदर रोग ना तन मन में,

कोई पीड़ा रह पाती है,

रह खाली पेट करें योगा ,

बस इतना ध्यान जरूर रहे.

हो नाम देश का ऊँचा…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on June 28, 2017 at 9:30pm — 2 Comments

मरना भी हो देश पे मरना। "अज्ञात "

राम कृष्ण की जन्मभूमि,                       

है कर्म-स्थली वीरों की,                           

भारत की पावन माटी सी,                      

होगी कहीं जमीन कहाँ ।      

                 

यूँ  तो रंग अनेकों होंगे,                            

दुनिया में सब देशों के,                                            

मगर तिरंगे के रंग जैसा,                      

होगा भी रंग तीन कहाँ।

                     

शिरोधार्य कर माँ की…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on December 6, 2015 at 1:36pm — 3 Comments

जिन्दगी की ठोकरों ने मुस्कुरा कर ये कहा। " अज्ञात "

जिन्दगी में जीत का तब,                              

कुछ नहीं संशय रहा,                                 

धैर्य का जब जब सहारा,                             

हर घड़ी , हरशय रहा ।

जिन्दगी में दिन सितम के,                        

भी सभी  कट जायेंगे ।                                       

जिन्दगी की ठोकरों ने ,                          

जब मुस्कुरा कर ये कहा।                                              

रात काली भी गुजर…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 22, 2015 at 11:52am — 3 Comments

बढ़ती हुई महंगाई में हाल बुरा है। " अज्ञात "

बढ़ती हुई महंगाई में हाल बुरा है,             

कुछ पूछो तो कहते हैं, सवाल बुरा है।

पेट्रोल, डीजल, सब्जियां आकाश छू रहीं,

कम होने की उम्मीद का, खयाल बुरा है।



संसद में अमन चैन है, धमाल हो रहा,      

जनता की रसोई में अब, बवाल बुरा है।

      

ठोकते हैं ताल, अपने राग में तल्लीन,        

उठा पटक का इनका सब, चाल बुरा है।



दुश्मन हैं ये आपसी, दुनिया की नज़र में,     

नेता की शकल में हर, दलाल बुरा है…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 20, 2015 at 9:05pm — No Comments

अज्ञात था अज्ञात हूँ अज्ञात रहने दे मुझे।

मौन रहकर साज भी,                            

हैं ध्वनित होते नहीं,                                    

कुछ बोलने दे आज,                                      

मन की बात कहने दे मुझे ।                  

है नहीं ख्वाहिश कि,                        

सुन्दर सा सरोवर मैं बनूँ,                           

धार हूँ नदिया की मैं,                             

मत रोक बहने दे मुझे ।                                                            हर एक पल भी…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 19, 2015 at 8:08pm — 5 Comments

इंसानियत का जनाज़ा देखा । "अज्ञात "

हाँ, कल एक समाचार ताजा देखा,        

इंसानियत का जनाज़ा देखा,            

आतंक की भाषा क्या,                          

परिभाषा क्या,                                       

चीख, चीत्कार,                                 

रक्त रंजित मानव शरीर ,                      

बिखरी मानवता,                              

ध्वस्त होते स्वप्न,                                 

बिलखते नौनिहाल, कराहती  ममता,       

असहाय सुरक्षा एजेंसियां…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 15, 2015 at 2:00pm — 1 Comment

अन्तर्मन के दीप जलाकर। " अज्ञात "

अंतर्मन के दीप जलाकर,                                               

जग में उजियारा कर दो।                                                             

जले प्रेम का दीपक जगमग,                                            

जगमग जग सारा कर दो।                   

शीतलता का घृत हो अनुपम,                     

अति सनेह का दीपक हो,                                       

ज्ञान की बाती उल्लासित कर,                 

पुलकित मन प्यारा कर…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 11, 2015 at 7:56am — 1 Comment

नर- नारी से बली नहीं। " अज्ञात "

पुरुष प्रधान देश में कोई,                         

'नर' नारी से बली नहीं ,                            

सदियों से है अब तक घर में,                     

दाल किसी की गली नहीं।

त्रेता युग में दशरथ जी ने ,                          

दुष्टों का संहार किया,                          

धर्म परायण रघुवंशी ने,                            

अपनी प्रजा से प्यार किया,                      

पर कैकेई के सम्मुख उनकी,                    

चाल एक भी चली…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 9, 2015 at 3:44pm — 1 Comment

वर्तमान में जियो। " अज्ञात "

क्षण कठिन हो या सरल,                 

एक समान में जियो,                         

भूल कर अतीत को,                          

वर्तमान  में जियो।                              

हो सुखों की संपदा,                           

दु:ख का पहाड़ हो,                          

नेक नियति मानकर,                                  

तुम गरल-सुधा पियो।                      

जीत है कभी तो,                             

कभी हार भी मिले,…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 7, 2015 at 5:46pm — No Comments

औकात बेटों ने दिखाई। "अज्ञात "

आँधियों के थपेड़े और,                                        

गर्मी की तपिश ने,                           

उगते हुए पौधे की जड़ हिलाई,                          

वट वृक्ष की तब याद आई।               

कर दिया क्यों दूर,                        

जिसने जन्म दे, पाला तुझे,                       

कर बड़ा काबिल बनाया,                     

सारी लगाकर पाई पाई ।                   

चलते हुए घुटनों के बल,                   

पहले पहल था जब…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 6, 2015 at 7:47pm — 2 Comments

जो लक्ष्य से भटका नहीं

जो लक्ष्य से भटका नहीं,                       

जो हार पर अटका नहीं,                          

जीत पक्की है उसी की,                           

राह में खटका नहीं।                             

लगन है अटूट जिसकी,                             

और है पक्का इरादा,                                

पास उस रणवीर के,                                

काल भी फटका नहीं।                           

मजबूत हैं जिसके…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 5, 2015 at 8:30pm — 6 Comments

नजरें दीवारों पर क्यों। " अज्ञात "

बेकार हजारों कोशिश भी,                         

इन आँखों को समझाने की ,                    

रखती हैं समुंदर को वश में,                   

और धार बहाये रहती हैं।

                       

जबकि है मालूम इन्हें,                                     

वो दूर हैं नजरों से फिर भी,                   

नजरें दीवारों पर क्यों,                                   

टकटकी लगाये रहती हैं।

                     

है असर मुहब्बत का…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 3, 2015 at 5:26pm — 2 Comments

अच्छा तो ! हिन्दुस्तान के हो तुम " अज्ञात "

लकीरें खींच कर सब लोग,                        

मुझसे पूछते हैं जब,                               

असम के हो ,या जम्मू के,                    

या राजस्थान के हो तुम ,                      

मैं कहता हूँ, वहाँ का हूँ,                        

जहाँ की, सोना है माटी,                     

जहाँ सौहार्द का मेला,                        

जहाँ की प्रेम परिपाटी ,                         

वो कहते हैं…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on November 1, 2015 at 3:54pm — 2 Comments

आज मेरे गाँव से गली ओझल हो गयी। "अज्ञात "

जब थी उठी बरसात से,                        

पहले पहल भीनी महक,                         

था मन तरंगित हो उठा,                              

सुन पक्षियों की चह चहक,                                   

गुमशुदा, अब बाग से,                       

क्यों कली कोमल हो गयी।                       

बीते पलों को याद कर,                         

आँख, बोझल हो गयी।

पत्थरों की शगल में,                               

सड़क सौतन क्या…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on October 30, 2015 at 7:04pm — 3 Comments

हृदय को विक्षिप्त करते। " अज्ञात "

हृदय को विक्षिप्त करते,                    

शूल हैं, दंश हैं कुछ,                           

घावों को कुरेदते,                               

बीते पलों के अंश हैं कुछ।                   

अतीत की स्मृति भला,                         

मस्तिष्क से हो दूर कैसे,                        

कसक भी है, ठेस भी,                                

चुभन है भरपूर ऐसे,                        

वेदनाएं मिट रही हैं शनैः शनैः,                  

अभी भी पल…

Continue

Added by Ajay Kumar Sharma on October 30, 2015 at 8:09am — No Comments

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted blog posts
32 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post भोर सुख की निर्धनों ने पर कहीं देखी नहीं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"आ. भाई गुमनाम जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
10 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"//सुनहरे की मात्रा गणना 212 ही होगी ॥ शायद ॥ 122 नहीं  । // सु+नह+रा = 1 2 2 .. यगणात्मक शब्द…"
12 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post भोर सुख की निर्धनों ने पर कहीं देखी नहीं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"वाह अच्छा है मुसाफिर साहब ॥ वाह "
13 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"धन्यवाद दोस्तो ..   आपके सलाह सुझाव का स्वागत है । सुनहरे की मात्रा गणना 212 ही होगी ॥…"
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"आ. भाई गुमनाम जी , सादर अभिवादन। सुन्दर गजल हुई है। हार्दिक वधाई। हिन्दी में "वहम" बोले…"
14 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कालिख दिलों के साथ में ठूँसी दिमाग में - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"//कालिख दिलों के साथ में ठूँसी दिमाग में// यूँ पढ़े कालिख दिलों के साथ ही ठूँसी दिमाग में"
15 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा मुक्तक .....

दोहा  मुक्तक ........कड़- कड़ कड़के दामिनी, घन बरसे घनघोर ।    उत्पातों  के  दौर  में, साँस का …See More
23 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"जनाब गुमनाम पिथौरागढ़ी जी आदाब, एक ग़ैर मानूस (अप्रचलित) बह्र पर ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है बधाई…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (जबसे तुमने मिलना-जुलना छोड़ दिया)
"जनाब गुमनाम पिथौरागढ़ी जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद और ज़र्रा नवाज़ी का तह-ए-दिल से शुक्रिया।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

भोर सुख की निर्धनों ने पर कहीं देखी नहीं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'

२१२२/२१२२/२१२२/२१२*जब कोई दीवानगी  ही  आप ने पाली नहींजान लो ये जिन्दगी भी जिन्दगी सोची नहीं।।*पात…See More
yesterday
gumnaam pithoragarhi posted a blog post

गजल

212  212  212  22 इक वहम सी लगे वो भरी सी जेब साथ रहती मेरे अब फटी सी जेब ख्वाब देखे सदा सुनहरे दिन…See More
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service