For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

इक तेरे तसव्वुर ने महबूब यूं संवार दी ज़िन्दगी

कि तेरे बगैर भी हमने हँस कर गुजार दी ज़िन्दगी

राहें -मुहब्बत में दर्दो -ग़म देने वाले बेदाद सुन

तेरी इस सौगात के बदले हमने निसार दी ज़िन्दगी

तमाम उम्र यूं रखा हमने अपनी साँसों का हिसाब

जैसे किसी सरफ़िरे ने ब्याज़ पर उधार दी ज़िन्दगी

बात मुक़दर की जब आये शिकवा -गिला बेमानी है

जिसने तुझे गुल बनाया उसी ने मुझे ख़ार दी ज़िन्दगी

तूं ही बता ऐ ख़ुदा उसकी आतिश -अफ़सानी कैसे बुझे

चाह-ऐ-सुकूं में जिस शख्स को तूने अंगार दी ज़िन्दगी

हर इक ग़म को बड़े करीने से हँसी में छुपा लिया हमने

ऐ ख़ुदा तेरा शुक्रिया ,क्या खूब हमें फनकार दी ज़िन्दगी

किनारों की खफगियों से इस दर्ज़ा शिकस्त हुआ दिल

आख़िरकार "आशा " ने गिर्दाब में उतार ली ज़िन्दगी

Views: 172

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by vijay nikore on March 6, 2013 at 2:34pm

आदरणीया आशा जी:

 

हर इक ग़म को बड़े करीने से हँसी में छुपा लिया हमने
ऐ ख़ुदा तेरा शुक्रिया ,क्या खूब हमें फनकार दी ज़िन्दगी

 

इस बेहद खूबसूरत और दिलकश गज़ल के लिए बधाई।

 

सादर,

विजय निकोर

Comment by anupama shrivastava[anu shri] on January 14, 2011 at 1:03pm
तमाम उम्र यूं रखा हमने अपनी साँसों का हिसाब

जैसे किसी सरफ़िरे ने ब्याज़ पर उधार दी ज़िन्दगी
bahut khoob................asha ji.
Comment by jagdishtapish on August 7, 2010 at 7:47pm
माननीय आशा जी
तमाम उम्र हमने रखा अपनी सांसों का यूँ हिसाब --
जैसे किसी सरफिरे ने ब्याज पर दी उधार ज़िन्दगी |
वैसे तो ज़िन्दगी पर बहुत कुछ कहा सुना जाता रहा है
लेकिन आपने अपने एक अलग से ही अंदाज में ज़िन्दगी और सांसों
के बीच के रिश्ते को ब्याज से जोड़कर परिभाषित किया बहुत अच्छी रचना
ह्रदय से धन्यवाद आपको --सादर
Comment by asha pandey ojha on July 18, 2010 at 1:49pm
@ Baban bhaiya @ Ganesh ji bhaiya @ Miraz bhiya @ satish Ji Bhiya W mere parm aadrniy Bhaisaahb Yograaj ji saahb aap sabhee ka sneh mere liye duniya kee sabse kimtee doulat hai .. aap sabhee ne mujhe padha w daad dee uske liye aap sabhee ke prti dil kee ghrai se aabharee hun ..bahut bahut ,shukriya ..aabhar
Comment by asha pandey ojha on July 18, 2010 at 1:45pm
main O B O ke tamam bhaiyon w bahno se haathjod kar mafee mangtee hun ki mera G mail kaam n kar pane kee wazh se main bahut dino se mere pariwaar ke sadsyon se milne se wanchit rahee aaj kam se kam do ghante tak koshish karne par G mail khula tab main punh aap logon ke beech hazir hui hun ..umeed hai aap sab log mujhe maaf karenge

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on July 10, 2010 at 10:31pm
Bahut badhiya gazal likhi hai aasha didi, aaj kal aap ka aana nahi ho raha hai OBO par kyaa baat hai, aap thik hai na ?

प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on June 28, 2010 at 12:16pm
मोतियों की तरह पिरो पिरो कर शेयर कहे हैं आपने आशा जी , गज़ल पढ़ कर आनंद आया ! मतला और मक़ता दोनों ही निहायत खूबसूरत हैं ! यूँ तो हर शेअर आला मयारी है मगर ये दो शेअर दिल में उतर गए :

//तमाम उम्र यूं रखा हमने अपनी साँसों का हिसाब
जैसे किसी सरफ़िरे ने ब्याज़ पर उधार दी ज़िन्दगी//
//हर इक ग़म को बड़े करीने से हँसी में छुपा लिया हमने
ऐ ख़ुदा तेरा शुक्रिया ,क्या खूब हमें फनकार दी ज़िन्दगी//

इस उम्दा गज़ल के लिए आपको दिल से बधाई देता हूँ !
Comment by satish mapatpuri on June 28, 2010 at 11:50am
राहें -मुहब्बत में दर्दो -ग़म देने वाले बेदाद सुन

तेरी इस सौगात के बदले हमने निसार दी ज़िन्दगी

तमाम उम्र यूं रखा हमने अपनी साँसों का हिसाब

जैसे किसी सरफ़िरे ने ब्याज़ पर उधार दी ज़िन्दगी

बात मुक़दर की जब आये शिकवा -गिला बेमानी है

जिसने तुझे गुल बनाया उसी ने मुझे ख़ार दी ज़िन्दगी
फ़क़त मैं आपको दाद ही दे सकता हूँ , लाजबाब आशा जी.
Comment by baban pandey on June 27, 2010 at 11:12pm
तमाम उम्र यूं रखा हमने अपनी साँसों का हिसाब

जैसे किसी सरफ़िरे ने ब्याज़ पर उधार दी ज़िन्दगी......lajawaw...asha ji.

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post करता रहा था जानवर रखवाली रातभर - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें ।"
32 minutes ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय बबिता गुप्ता जी। बेहतरीन लघुकथा। अभी निकट भविष्य में घटी एक मार्मिक घटना पर…"
33 minutes ago
Samar kabeer commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल -मनोज अहसास
"जनाब मनोज अहसास जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें । 'लाख कोशिशें कर के माना…"
37 minutes ago
Samar kabeer commented on Ram Awadh VIshwakarma's blog post ग़ज़ल-आ गई फिर से मुसीबत मेरे सर पर कम्बख्त
"जनाब राम अवध जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें । कमबख्त बन के तूफान चला आया शहर…"
42 minutes ago
Samar kabeer commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post टिड्डियाँ चीन नहीं जायेंगी
"जनाब डॉ. गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी आदाब, अच्छी रचना हुई है,बधाई स्वीकार करें ।"
48 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"आ. भाई गणेष जी बागी जी, बेहतरीन कथा हुई हैै ।  हार्दिक बधाई। "
1 hour ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिल के ज़ख़्म को शे'र सुनाकर सीता है
"अमीरुद्दीन खा़न "अमीर साहब जी आपका बहुत शुक्रिया जो आपने यह बताया, इतनी गहराई से कोई उस्ताद ही…"
1 hour ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"समझने  के लिए समय लेती है यह लघु कथा i परन्तु गंभीर कटाक्षI  आदरणीया "
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय नमिता सुन्दर जी। बेहतरीन लघुकथा।आपने प्रदत्त विषय मर्यादा को इतने कम शब्दों में…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय इं गणेश जी बागी जी। बेहतरीन लघुकथा।आपने प्रदत्त विषय मर्यादा को बहुत ही…"
1 hour ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिल के ज़ख़्म को शे'र सुनाकर सीता है
"अज़ीज़म रूपम कुमार जी, बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है, बधाई स्वीकार करें। मतले का ऊला मिसरा "दिल के…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय मोहन बेगोवाल जी। बेहतरीन लघुकथा।"
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service