For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सांस उनको देख कर के है इधर चलने लगी

2122 - 2122 - 2122 - 212 

सांस उनको देख कर के है इधर चलने लगी

कब मिले वो रोज मुझको आरजू रहने  लगी

.

फ़िक्र में हर दम ये दिल डूबा मुझे अब है लगे

उनको अपना है बनाना सोच ये जगने लगी

.

प्यार की गलियाँ बड़ी बदनाम दुनिया में मगर

क्या करें अपनी तबियत जो अगर सजने लगी

.

आप तो हैं हुस्न की तस्वीर जो अनमोल है

ये करिश्मा देख कर दुनिया भी अब जलने लगी

.

ख़ुद खुदा भी सोच के अब है परेशां हो रहा

के बनाकर आपको क्यूँ है कलम रुकने लगी

.

मुनीश “तन्हा” 9882892447

मौलिक व्  अप्रकाशित

आदरणीय समर कबीर साहिब का दिल से शुक्रिया

Views: 302

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Madan Mohan saxena on May 6, 2016 at 2:45pm

सांस उनको देख कर के है इधर चलने लगी

कब मिले वो रोज मुझको आरजू रहने लगी


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on May 6, 2016 at 12:10am

आदरणीय मुनीश जी, निवेदन है कि इस ग़ज़ल को थोड़ा और समय दीजिये. बहुत कच्ची ग़ज़ल प्रस्तुत हुई है. मिसरों का सब्द विन्यास अभी समय चाहता है. काफ़िया निर्धारण में सजगता की कमी भी महसूस हो रही है. बहरहाल इस प्रयास पर हार्दिक बधाई.

Comment by Samar kabeer on May 5, 2016 at 2:33pm
जनाब मुनीश तन्हा साहिब आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है बधाई स्वीकार करें।

चौथे शैर में तक़ाबुल-ए-रदीफ़ का दोष है और सानी मिसरा बह्र में नहीं है देख लीजियेगा।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अजेय replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-126
"अच्छे दोहे कहे हैं लक्मण भाई"
1 hour ago
अजेय replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-126
"क्षमा चाहूंगा चेतन जी। किन्तु जितना मैं जितना समझ पा रहा हूँ, इसमें मात्राएँ हीं हैं। कृपया इस संशय…"
1 hour ago
Aazi Tamaam commented on सालिक गणवीर's blog post ( बेजान था मैं फिर भी तो मारा गया मुझे......(ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"सहृदय बधाई स्वीकारें आदरणीय गनवीर जी बेहद खूबसूरत ग़ज़ल हुई है"
1 hour ago
Usha Awasthi shared their blog post on Facebook
2 hours ago
Usha Awasthi shared their blog post on Facebook
2 hours ago
Usha Awasthi shared their blog post on MySpace
2 hours ago
Usha Awasthi posted a blog post

कुछ उक्तियाँ

कैसी फ़ितरत के लोग होते हैं ?दूसरे की आँखों में धूल झोंकने हेतुनम्बर वही मोबाइल परनाम कुछ और जोड़…See More
2 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: जैसे जैसे ही ग़ज़ल रुदाद ए कहानी पड़ेगी
"सहृदय शुक्रिया आदरणीय ब्रज जी हौसला अफ़ज़ाई के लिये दिल से आभार सादर"
5 hours ago
Admin posted a discussion

"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-130

परम आत्मीय स्वजन,ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरे के 130वें अंक में आपका हार्दिक स्वागत है| इस बार का मिसरा…See More
6 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post नग़मा: इक रोज़ लहू जम जायेगा इक रोज़ क़लम थम जायेगी
"आदरणीय अमीर जी एक मिसरा कोई22  भटकाता222  है1 सफ़र12  याँ2  पूछो22 …"
7 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-मेरी  उदासी  मुझे अकेला  न छोड़  देना
"ग़ज़ल पे आपकी शिरक़त के लिए बहुत बहुत शुक्रिया भी तमाम जी..."
7 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल : मनोज अहसास
"बढ़िया कहा भाई मनोज जी...बधाई कुबूल करें..."
7 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service