For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

हाँ, तुम बंट गए उस दिन कबीर

 

अहो कबीर !

कही पढा था या सुना

तम्हारी मृत्यु पर

लडे थे हिन्दू और मुसलमान 

जिनको तुमने

जिन्दगी भर लगाई फटकार

वे तुम्हारी मृत्यु पर भी

नहीं आये बाज

और एक

तुम्हारी मृत देह को जलाने   

तथा दूसरा दफनाने  

की जिद करता रहा

और तुम

कफ़न के आवरण में बिद्ध

जार-जार रोते इस  मानव प्रवृत्ति पर 

अंततः हारकर मरने के बाद भी  

तुमने किया था स्वरुप परिवर्तन  

क्योंकि हटाया गया

कफ़न जब तुम्हारा

नहीं था वहां पर कोई मृत शरीर

केवल पड़े थे दो ताजे फूल 

जिन्हें दो समुदायों ने

आपस मे बाँट लिया

हाँ, तुम बंट गए उस दिन कबीर  

और यह बंटवारा

किया तुम्हारे शिष्यों ने 

साक्षी है वह भूमि

जहां तुमने त्यागे प्राण

 

आज भी वहां पर हैं

दिखती दो समाधियाँ

करती हुयी ऐलान

कि वह मन्त्रदाता, वह योगी, वह संत

जिसने किया था पाखण्ड का विरोध   

बंट गया मगहर में   

लोगों की जिद से

आमी का अमिय जल

हुआ उसी क्षण कसैला

जहां स्नान-पान कभी

करते थे तुम कबीर ! 

 

(मौलिक व् अप्रकाशित)

Views: 417

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on December 27, 2015 at 9:18pm

आ० समर कबीर जी - बहुत उत्साहवर्धन हुआ , सादर . 

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on December 27, 2015 at 9:17pm

आ० रवि शुक्लजी - आपकी विस्तृत टीप से  आत्ममुग्ध हूँ , सादर . 

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on December 27, 2015 at 9:16pm

आ० मुकेश जी - बहुत बहुत शुक्रिया , 

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on December 27, 2015 at 9:16pm

आ० तेजवीर सिंह जी - आभार .

Comment by kanta roy on December 22, 2015 at 4:45pm
भावनाओं का उमगता हुआ , छलकता हुआ तो कहीं स्वंय को ही संभालता हुआ कथ्य निर्वाह की ओर बहुत ही संयमित रहा है । जाति की थाती बचाये मुल्यों को तिरोहित करना ।बहुत सुंदर अनुभूति हुई रचना को पढकर । बधाई आपको इस कालजयी रचना के लिए ।
Comment by jaan' gorakhpuri on December 16, 2015 at 7:09pm
यथार्थ लिए बहुत ही बेहतरीन रचना आ.नमन.
Comment by vijay nikore on December 16, 2015 at 3:28pm

ऐसी अच्छी रचना कम ही मिलती है। हार्दिक बधाई, आदरणीय गोपाल नारायन जी।

Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on December 8, 2015 at 11:34am

कबीर के साहित्य  ने समाज को दिशा दी है, साहित्य को समृद्ध  किया है, चिन्तन प्रस्तुत किया है | इस पर नित  कुछ न  कुछ लिखा  जा रहा है | एक  हिन्दू  घर में पैदा होना और मुस्लिम जुलाहे के घर पलना इन्हें मृत्यु तक विवादित  बनाएं रखा | एक सुंदर अतुकांत रचना  के  लये  हार्दिक बधाई आ. डॉ. गोपाल नारायण जी 

Comment by Dr. Vijai Shanker on December 6, 2015 at 6:54pm
बहुत सुन्दर प्रस्तुति, संत कबीर को नमन , आदरणीय डॉ o गोपाल नारायण जी , बधाई , सादर।

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on December 6, 2015 at 4:02pm

कबीर के सापेक्ष बहुत कुछ कहा जा सकता है. उनसे हो कर कई विन्दु विमर्श का आह्वान करते आगे आते हैं. यह अलग बात है कि काव्य शिल्प के आधार पर आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने उन्हें उनके समय के एक ’सधुक्कड़’ से अधिक नहीं माना था. यह तो भला हो आचार्य हज़ारी प्रसाद द्विवेदीजी का, कि कबीर साधुओं की जमात से उठकर एकदम से साहित्यिकों और समाज सुधारकों की श्रेणी में तथा प्रसंग के केन्द्र में आ गये.

कबीर के नाम पर चली आ अरही किंवदंतियाँ यही साबित करती हैं कि कबीर का होना और समाज का बने रहना सनातन सत्य हैं. परम्पराओं का होना और उनका ढोया जाना दोनों दो तरह की बातें हैं.

वस्तुतः कोई परम्परा अपने आप में हठात त्याज्य नहीं होती. अन्यथा माता, पत्नी, बहन आदि में भेद मुश्किल हो जायेगा. परम्पराओं के कारण ही समाज के सात्विक कर्म चलते हैं. कबीर ने तथाकथित तौर पर ढोयी जाती परम्पराओं पर आघात किया था और खुल कर किया था. फिर, क्या कारण है कि परम्पराओं के नाम पर उनमें से अधिकांश ढोंग आज भी जारी हैं ? ये विन्दु ऐसे हैं जो विमर्श का आह्वान करते हैं और कबीर की प्रासंगिकता को बनाये रखने के बावज़ूद उनके प्रयासो और उनकी तमाम प्रक्रियाओं पर प्रश्नचिह्न खड़ा करते हैं. 

प्रस्तुत कविता कबीर के प्रति उत्साह और श्रद्धा के भावों का सहज प्रतिफल है. साहित्यिक प्रतिफल होने के लिए अभी बहुत प्रयास की आवश्यकता है. अतुकान्त वैचारिक कविताओं की शैली के सापेक्ष भी प्रस्तुत प्रयास अभी और प्रयास की मांग करता है. 

अकबत्ता, विशेष तरह की प्रस्तुति के लिए आदरणीय गोपाल नारायणजी के प्रति साधुवाद !

शुभेच्छाएँ 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Chetan Prakash commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post ग़ज़ल -पुराने गाँव की अब भी कहानी याद है हमको
"प्रिय सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप, बह्रे हजज मुुसम्मन सालिम में अच्छी साफ- सुथरी ग़जल प्रस्तुत…"
38 minutes ago
Chetan Prakash commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post ग़ज़ल -पुराने गाँव की अब भी कहानी याद है हमको
"प्रिय सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप, बह्रे हजज मुुसम्मन सालिम में अच्छी साफ- सुथरी ग़जल प्रस्तुत…"
39 minutes ago
Chetan Prakash commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post ग़ज़ल -पुराने गाँव की अब भी कहानी याद है हमको
"बह्रे हजज मुुसम्मन सालिम में अच्छी साफ- सुथरी अच्छी, ग़जल प्रस्तुत की, बधाई स्वीकार करें, इति !"
41 minutes ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"  आपका अशेष धन्यवाद, मित्र, सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप !"
55 minutes ago
Chetan Prakash posted a blog post

रोटी.....( अतुकांत कविता)

रोटी का जुगाड़ कोरोना काल में आषाढ़ मास में कदचित बहुत कठिन रहा आसान जेठ में भी नहीं था. पर, प्रयास…See More
1 hour ago
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय वासुदेव अग्रवाल जी,  प्रदत्त विषय पर सुंदर सर्जन के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें।"
1 hour ago
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय मनन कुमार जी, प्रदत्त विषय पर अति सुंदर रचना के लिए बधाई स्वीकार करें।"
1 hour ago
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी, प्रदत विषय पर अति सुंदर दोहों के लिए बधाई स्वीकार करें।"
1 hour ago
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"रोटी पर गज़ल खेल रोटी का निराला है बहुत संसार मेंरोटी सबको चाहिए इस भूख के बाजार में जो कभी झुकता…"
1 hour ago
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post रोटी
"बहुत बहुत शुक्रिया जी,पहले मुझे पता नहीं था ,जैसे ही पता चला मैंने वहां पोस्ट कर दी,"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आद0 चेतन प्रकाश जी सादर अभिवादन। विषयानुकूल बढ़िया हाइकू और कुण्डलिया सृजित हुए हैं। बधाई स्वीकार…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' posted a blog post

ग़ज़ल -पुराने गाँव की अब भी कहानी याद है हमको

था सब आँखों में मर्यादा का पानी याद है हमको पुराने गाँव की अब भी कहानी याद है हमको।भले खपरैल छप्पर…See More
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service