For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ये धरती कब क्या कुछ कहती है

सब कुछ अपने पर सहती है,

तूफान उड़ा ले जाते मिटटी,

सीना फाड़ के नदी बहती है !

सूर्यदेव को यूँ देखो तो,

हर रोज आग उगलता है,

चाँद की शीतल छाया से भी,

हिमखंड धरा पर पिघलता है !

ऋतुयें आकर जख्म कुदेरती,

घटायें अपना रंग जमाती,

अम्बर की वो नीली चादर,

पल पल इसको रोज़ सताती !

हम सब का ये बोझ उठाकर,

परोपकार का मार्ग दिखाती,

सहन शीलता धर्मं है अपना,

हमको जीवन जीना सिखाती !

- रचना - राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'

Views: 260

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी' on February 15, 2013 at 1:16pm

सभी मित्रों का बहुत बहुत धनयवाद आप का स्नेह और आशीर्वाद सदा यूँ ही बना रहे 

Comment by Poonam Matia on February 15, 2013 at 2:31am

सुंदर भाव एवं शब्द 

Comment by upasna siag on February 14, 2013 at 6:20pm

बहुत बढ़िया जी 

Comment by SANDEEP KUMAR PATEL on February 14, 2013 at 1:53pm
आदरणीय फरियादी जी सादर 
बहुत सुन्दर द्वीपदियाँ रची हैं आपने बधाई हो 
Comment by राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी' on February 14, 2013 at 10:25am

सभी मित्रों का बहुत बहुत धनयवाद आप का स्नेह और आशीर्वाद सदा यूँ ही बना रहे 

Comment by vijay nikore on February 14, 2013 at 8:35am

हम सब का ये बोझ उठाकर,

परोपकार का मार्ग दिखाती,

बहुत अच्छे भाव हैं।

विजय निकोर

Comment by आशीष नैथानी 'सलिल' on February 13, 2013 at 11:23pm

तूफान उड़ा ले जाते मिटटी,

सीना फाड़ के नदी बहती है .......  बहुत सुन्दर राजेन्द्र भाई....


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on February 13, 2013 at 8:44pm

सुन्दर द्विपदियाँ हेतु बधाई फरियादी जी ।


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on February 13, 2013 at 7:48pm

पृथ्वी की सहनशीलता को आपके नज़रिए से पढना रुचिकर है..

हार्दिक बधाई 


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on February 13, 2013 at 6:04pm

धरती के ऊपर बहुत अच्छी भावपूर्ण रचना लिखी है हार्दिक बधाई 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"हसरत-ए-दीद कभी उनसे जताई न गई;आज तक हम से भी चिलमन ये हटाई न गई। वो समंदर में चलाएंगे सफीने…"
1 minute ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल ~ " है स्याही सुर्ख़ फिर अपनी क़लम है ख़ूँ-चकाँ अपना "
"सादर प्रणाम गुरु जी गौर फरमायियेगा चले जाता है अक्सर डूबकर मस्ती में कुछ ऐसे नहीं रोके रुका है फिर…"
1 minute ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय चेतन जी नमस्कार खूब ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार कीजिए।"
24 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय आज़ी जी नमस्कार खूब ग़ज़ल हुई बढ़ी स्वीकार कीजिए।"
26 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय नीलेश जी नमस्कार खूब ग़ज़ल हुई। बधाई स्वीकार कीजिए।"
28 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय नाथ जी नमस्कार बहुत खूब ग़ज़ल हुई,बधाई स्वीकार कीजिये। चश्मे वाले शेर पे ख़ास दाद।।"
29 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय संजय जी नमस्कार बहुत ही खूब ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार कीजिये।"
32 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय रवि जी नमस्कार बहुत खूब ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार कीजिए।"
34 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"2122 1122 1122 22/112 चोट जो दिल पे लगी हमसे दिखाई न गईबात जो सच थी कभी उनसे बताई न गई1 बेवफ़ाई तो…"
37 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय रुपम जी सादर प्रणाम कोई बात नहीं "कभी भी" को "कभी यूँ" कर सकते…"
1 hour ago
Ravi Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"गर्द आईने से क्यूँ आज हटाई न गई क्यूँ हक़ीक़त तेरे इजलास में लाई न गई हुस्न का रौब मेरे दिल पे पड़ा…"
1 hour ago
Sanjay Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"2122 1122 1122 112 माल मिल जाएगा ये आस लगाई न गई और चोरी की रपट हम से लिखाई न गई /1 सोचता था कि…"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service