For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Yamit Punetha 'Zaif'
  • Male
  • Uttarakhand
  • India
Share

Yamit Punetha 'Zaif''s Friends

  • अमीरुद्दीन 'अमीर'
  • harivallabh sharma
  • atul kushwah
  • गिरिराज भंडारी
 

Yamit Punetha 'Zaif''s Page

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' and Yamit Punetha 'Zaif' are now friends
Feb 2
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"भावनात्मक दृष्टि से ये ग़ज़ल बहुत अच्छी लगी यमित जी...बधाई"
Oct 10, 2021
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post ग़ज़ल - कैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो
"बढ़िया ग़ज़ल कही भाई यमित जी...आदरणीय कबीर साहब की इस्लाह हमेशा कुछ सिखाती है।मुझे '"तो" शब्द भर्ती का लग रहा है।इसके बगैर ग़ज़ल में रवानगी अच्छी आएगी।"
Oct 10, 2021
Yamit Punetha 'Zaif' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"एडमिन जी, एक सवाल या फिर ये कह लीजिए अनुरोध है, क्या कभी भविष्य में OBO का android APP बनेगा? ये WEBSITE कितनों के MOBILE पर ठीक से नहीं चलती है। SMART PHONES में भी यही समस्या है, DESKTOP VIEW करके SITE देखनी पड़ती है, फिर हर एक पोस्ट पे जूम करके…"
Oct 7, 2021

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"एक सद्प्रयास के लिए बधाइयाँ !  आदरणीय अमरुद्दीन जी ने कई बिन्दुओं पर चर्चा की है.  शुभ-शुभ"
Oct 5, 2021
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"आ. भाई यमित जी, अभिवादन। गजल का प्रयास अच्छा है। गुणीजनों की बात का संज्ञान लेकर यह और बेहतर हो सकती है । फिलहाल इस पर बधाई स्वीकारें। "
Oct 4, 2021
Samar kabeer commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post ग़ज़ल - कैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो
"जनाब यमित पुनेठा जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें I  'इक भी आंसू क्यों गिरे जब आंख शोला-बार हो तोकैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो' मतले के दोनों मिसरों में रब्त नहीं है ग़ौौर करें I  'क्या किसी…"
Sep 30, 2021
Samar kabeer commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"जनाब यमित पुनेठा 'ज़ैफ़' जी आदाब, ओबीओ के तरही मिसरे पर ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है, बधाई स्वीकार करें I  बाक़ी जनाब अमीरुद्दीन साहिब सब बता ही चुके हैं I "
Sep 30, 2021
Yamit Punetha 'Zaif' posted a blog post

ग़ज़ल - कैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो

2122 2122 2122 2122 इक भी आंसू क्यों गिरे जब आंख शोला-बार हो तो कैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो आपसे है जंग तो मंज़ूर है ये सरफ़रोशी क्या करें जब आपके ही हाथ में तलवार हो तो लग रही है ज़िंदगी भी कुछ दिनों से अजनबी सी लौट आना तुमको मुझसे थोड़ा सा भी प्यार हो तो क्या किसी के सामने अब राज़े-ज़ख़्मे-पिन्हां खोलें आपका ग़म-ख़्वार ही जब दुश्मनों का यार हो तो तूने गरचे तोड़ डाले सारे नाते एक पल में एक वहशी को तिरा गर आज भी इंतिज़ार हो तो? © मौलिक व अप्रकाशितSee More
Sep 30, 2021
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"'सर पीटते ही रह गए उस आस्ताँ से हम'   इस मिसरे का वाक्य विन्यास सही नहीं है 'आस्ताँ से हम' 'आस्ताँ पे हम' हो रहा है इसलिए रदीफ़ से इन्साफ़ नहीं हो रहा है। देखियेगा, सादर। "
Sep 30, 2021
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"जनाब यमित पुनेठा 'ज़ैफ़' जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है बधाई स्वीकार करें। भागें कहाँ तलक ग़मे-आहो-फ़ुगाँ से हम जाऐंगे तेरे इश्क़ में इक रोज़ जाँ से हम      मतले के मिसरों में रब्त का अभाव है, ऊला मिसरे का…"
Sep 29, 2021
Yamit Punetha 'Zaif' commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"शुक्रिया अमन जी। आभार।"
Sep 29, 2021
AMAN SINHA commented on Yamit Punetha 'Zaif''s blog post तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
"आज कुछ नए लफ्ज़ सिखा मैने। आपका शुक्रिया "
Sep 29, 2021
Yamit Punetha 'Zaif' posted a blog post

तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)

221 2121 1221 212भागें कहाँ तलक ग़मे-आहो-फ़ुगाँ से हमजाऐंगे तेरे इश्क़ में इक रोज़ जाँ से हमबोला था सच, पलट नहीं पाए बयाँ से हमअब तंग आ चुके हैं ख़ुद अपनी ज़बाँ से हमलो देखते ही देखते सब सफ़्हे जल पड़ेक्या लिख गए सियाही-ए-सोज़े-निहाँ से हम!इक फूल था कि मुरझा गया सर-ए-गुलसिताँइक उम्र थी कि गुज़रे थे दौरे-ख़िजाँ से हमआओ सिखा दूं तुमको निगाहों की गुफ़्तगूअब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हमआना नहीं था उसको नहीं आया 'ज़ैफ़' वोसर पीटते ही रह गए उस आस्ताँ से हम© मौलिक व अप्रकाशितSee More
Sep 28, 2021
Yamit Punetha 'Zaif' updated their profile
Sep 26, 2021

Profile Information

Gender
Male
City State
Almora Uttrakhand
Native Place
Almora
Profession
Working
About me
Passionate writer

(तरही ग़ज़ल - अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)
221 2121 1221 212

भागें कहाँ तलक ग़मे-आहो-फ़ुगाँ से हम
जाऐंगे तेरे इश्क़ में इक रोज़ जाँ से हम

बोला था सच, पलट नहीं पाए बयाँ से हम
अब तंग आ चुके हैं ख़ुद अपनी ज़बाँ से हम

लो देखते ही देखते सब सफ़्हे जल पड़े
क्या लिख गए सियाही-ए-सोज़े-निहाँ से हम!

इक फूल था कि मुरझा गया सर-ए-गुलसिताँ
इक उम्र थी कि गुज़रे थे दौरे-ख़िजाँ से हम

आओ सिखा दूं तुमको निगाहों की गुफ़्तगू
अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम

आना नहीं था उसको नहीं आया 'ज़ैफ़' वो
सर पीटते ही रह गए उस आस्ताँ से हम

© मौलिक व अप्रकाशित

Yamit Punetha 'Zaif''s Blog

ग़ज़ल - कैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो

2122 2122 2122 2122



इक भी आंसू क्यों गिरे जब आंख शोला-बार हो तो

कैसे कोई ख़ुश रहे जब दिल ही में आज़ार हो तो



आपसे है जंग तो मंज़ूर है ये सरफ़रोशी

क्या करें जब आपके ही हाथ में तलवार हो तो



लग रही है ज़िंदगी भी कुछ दिनों से अजनबी सी

लौट आना तुमको मुझसे थोड़ा सा भी प्यार हो तो



क्या किसी के सामने अब राज़े-ज़ख़्मे-पिन्हां खोलें

आपका ग़म-ख़्वार ही जब दुश्मनों का यार हो तो



तूने गरचे तोड़ डाले सारे नाते एक पल में

एक वहशी…

Continue

Posted on September 29, 2021 at 7:30pm — 2 Comments

तरही ग़ज़ल - (अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम)

221 2121 1221 212



भागें कहाँ तलक ग़मे-आहो-फ़ुगाँ से हम

जाऐंगे तेरे इश्क़ में इक रोज़ जाँ से हम



बोला था सच, पलट नहीं पाए बयाँ से हम

अब तंग आ चुके हैं ख़ुद अपनी ज़बाँ से हम



लो देखते ही देखते सब सफ़्हे जल पड़े

क्या लिख गए सियाही-ए-सोज़े-निहाँ से हम!



इक फूल था कि मुरझा गया सर-ए-गुलसिताँ

इक उम्र थी कि गुज़रे थे दौरे-ख़िजाँ से हम



आओ सिखा दूं तुमको निगाहों की गुफ़्तगू

अब तुमसे दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से… Continue

Posted on September 28, 2021 at 6:46pm — 8 Comments

कोई ऐसा मिला प्यार की राह में

कोई ऐसा मिला प्यार की राह में,

इक नज़र में ही उसपर फ़िदा हो लिए..

क्या कशिश थी उन आंखों में, हम क्या कहें?

देखते ही वो मेरे ख़ुदा हो लिए..

-

उनकी सूरत की जो रोशनी मिल गयी

शायरी के लिए, शायरी मिल गयी.

एक पल में न जाने ये क्या हो गया?

हमको ऐसा लगा हर ख़ुशी मिल गयी.



इस नज़ाकत से उनकी निगाहें झुकीं,

दिल के अहसास सारे फ़ना हो लिए..

(कोई ऐसा मिला प्यार की राह में,

इक नज़र में ही उसपर फ़िदा हो लिए..)

**

शाम ढल-सी गयी, रात होने… Continue

Posted on April 7, 2017 at 11:03am — 7 Comments

ग़ज़ल - चींटियों को देखना तुम

2122 2122 2122 212



होंठ पर अटकी सदा की लर्ज़िशें* क्या होती हैं?

छोड़ दें जब साथ अपने, गर्दिशें क्या होती हैं?



आपने दिल तोड़ डाला खेलकर जज़्बात से,

मेरे टूटे दिल से पूछो, ख़्वाहिशें क्या होती हैं?



क्यों हुई घर में लड़ाई, ये बड़ों से पूछिये!

बच्चों से मत पूछिये के रंजिशें* क्या होती हैं?



छूटने की, मौत से, होती हैं सौ गुंजाइशें,

ज़िंदगी से बचने की गुंजाइशें क्या होती हैं?



दो दिलों में प्यार होना सर्द बूँदों के तले,

इश्क़ वालों… Continue

Posted on February 8, 2015 at 2:40pm — 8 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:35pm on March 18, 2014,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

स्वागत है , भाई यमित आपका ओ बी ओ मे ॥

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post गज़ल - ज़ुल्फ की जंजीर से ......
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब, आदाब - सृजन पर आपकी समीक्षात्मक प्रशंसा का एवं मार्गदर्शन का दिल से आभार…"
24 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post गज़ल - ज़ुल्फ की जंजीर से ......
"आदरणीय सुशील सरना जी आदाब, ग़ज़ल विधा में भी अपनी काव्यात्मक योग्यता साबित करने के लिए हार्दिक बधाई…"
1 hour ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय दिनेश  भाई इस लम्बी और सार्थक छंद के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें|  इस जगत का सार…"
1 hour ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय दिनेश  भाई हार्दिक धन्यवाद आभार आपका"
2 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय दयाराम  भाई हार्दिक धन्यवाद आभार आपका"
2 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय लक्षमण भाई हार्दिक धन्यवाद आभार आपका"
2 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय लक्षमण भाई सुन्दर छंद  के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें|  १ अंतिम छंद के दूसरे चरण…"
2 hours ago
Aazi Tamaam posted a blog post

ग़ज़ल: सुरूर है या शबाब है ये

12112 12112सुरूर है या शबाब है येके जो भी है ला जवाब है येफ़क़ीर की है या पीर की हैके चश्म जो…See More
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई दयाराम जी, सादर अभिवादन। छंदों पर उपस्थिति व प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
4 hours ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर अभिवादन धामी जी। छंद पर प्रोत्साहित करने हेतु बहुत बहुत आभार आपका।"
5 hours ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर नमन आपको आदरणीय । बहुत बहुत आभार आपका ।"
5 hours ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 133 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय धामी sir। सादर अभिवादन स्वीकार करें। चित्र अनुरूप छंद पर बहुत अच्छी रचना है, आदरणीय।आपको…"
5 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service