For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कैसे भूलाऐ जा पाऐगे

बचपन की वो सुन्दर यादें
गांव की मिट्टी,पेड़ों के झूले
कैसे भूलाए जा पाऐगे
रोना,हसना,और मचलना
गिरना,गिरकर फिर से संभलना
कैसे भूलाए जा पाऐगे
पगडन्डी पर दौड़ लगना
खुली हवा से बातें करना
कैसे भूलाए जा पाऐगे
तितली,बन्दर और गिलहरी
मोदक,मक्खन और जलेबी
कैसे भूलाए जा पाऐगेम
माँ की रोटी,दादी की कहानी
छुटपन की सहेली मीना,रानी
कैसे भूलाऐ जा पाऐगे
बाबू जी का डान्ट लगाना
और प्यार से गोद उठाना
कैसे भूलाऐ जा पाऐगे
सावन के झूले ,अमवा की डाली
वो पनघट,वो हरियाली
कैसे भूलाऐ जा पाऐगो

मौलिक व अप्रकाशित

Views: 613

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on April 23, 2014 at 8:24am

आ० प्रज्ञा श्रीवास्तव जी ,

जिन पलों में श्वास लेती ज़िंदगी अपना सफ़र तय करती है, उन्हें भुलाया जा सकना मुमकिन ही नहीं .... फिर इस सपाटबयानी को कविता प्रारूप देने के लिए क्या कुछ और गहन एहसासों को संग ही संजो देना सही न होता,,,,

यानि... ये अभिन्न पल रचनाकार के लिए क्या मायने रखते हैं? या उन्हें भुला देने ऐसी की विवशता ही क्यों? या फिर क्या होगा यदि इनसे अलग हो जाना पड़े.... तो कविता अपने अर्थ में पूर्णता पाती...

इस प्रयास पर मेरी शुभकामनाएं 

Comment by Pragya Srivastava on April 16, 2014 at 11:48pm
आ.शरदिन्दु जी,शिज्जू जी क्षमा करें ।अब कविता लिखने के बाद एक बार ध्यान से पढ़ने के बाद ही पोस्ट करूँगी।
Comment by बृजेश नीरज on April 16, 2014 at 11:39pm

अच्छा प्रयास है! आपको बधाई!

//कैसे भूलाए जा पाऐगे// यह वाक्य सही नहीं है!


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on April 15, 2014 at 5:41pm

आदरणीया प्रज्ञा जी , भाव अभिव्यक्ति बहुत सुन्दर हुई है , आपको बधाइयाँ !! आ. शरदिन्दु जी की बातों का ज़रूर ख्याल कीजियेगा !!

Comment by Meena Pathak on April 15, 2014 at 2:18pm

सुन्दर ... पर वही बात मै भी कहूँगी जो आ० शरदिंदु  सर जी और आ० शिज्जू जी कह रहे हैं | सादर 


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by शिज्जु "शकूर" on April 15, 2014 at 7:49am

आदरणीया भाव अच्छे हैं, शेष मैं आदरणीय शरदिंदु सर की बातों से इत्तेफाक रखता हूँ भाषा या व्याकरण की अशुद्धि कविता के रस को फीका कर देते हैं।


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by sharadindu mukerji on April 15, 2014 at 12:55am
आदरणीया, आपके कवि मन के अंदर भावनाओं का जो अम्बार है उसे अभिव्यक्ति देने के समय आपकी लेखनी बेसब्र हो उठती है...ऐसा मुझे प्रतीत होता है. उदाहरणार्थ //कैसे भूलाए जा पाऐगे//...//रोना,हसना,और मचलना//.....//कैसे भूलाए जा पाऐगेम//.....//बाबू जी का डान्ट लगाना//.....//कैसे भूलाऐ जा पाऐगो// इन सभी उद्धृत पंक्तियों में कहीं न कहीं गलती है. इतनी ग़लती रहने से किसी भी रचना का आनंद फीका पड़ जाता है. आपसे अनुरोध है कि आराम से बैठकर अपनी रचना को पोस्ट करने से पहले अच्छी तरह पढ़ लें और अशुद्धियों को ठीक कर लिया करें....आपकी रचना का स्तर स्वत: कुछ ऊपर आ जाएगा. अपना प्रयास जारी रखें. हार्दिक शुभकामनाएँ.
Comment by जितेन्द्र पस्टारिया on April 14, 2014 at 11:36pm

सच! बचपन के वो मासूमीयत से भरे वो दिन, शायद उम्र के किसी भी पड़ाव पर नही भुलाए जा सकते. बहुत सुंदर रचना, बधाई स्वीकारें आदरणीया प्रज्ञा जी

Comment by Anurag Singh "rishi" on April 14, 2014 at 7:20pm

वाह सुन्दर रचना

Comment by Shyam Narain Verma on April 14, 2014 at 5:19pm

सुंदर रचना के लिए बहुत बधाई .........................

सादर....................

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post मन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?
"आदरणीय समर कबीर साहेब , हार्दिक आभार आपका।"
1 hour ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-रफ़ूगर
"दूसरी बात 'दो' शब्द की जगह "दे" शब्द उचित होगा ,देखिएगा I  दरअसल…"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-रफ़ूगर
"आदरणीय समर कबीर जी आपकी सूक्ष्म विवेचना से ग़ज़ल में निखार ही आएगा...जरूरी सुधार बिल्कुल किये जा सकते…"
3 hours ago
Gurpreet Singh jammu commented on Gurpreet Singh jammu's blog post ग़ज़ल - गुरप्रीत सिंह जम्मू
"जी, बहुत शुक्रिया आदरणीय समर सर जी"
4 hours ago
Samar kabeer commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"जनाब बलराम धाकड़ जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें I  'पाँव कब्र में जो…"
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post चन्दा मामा! हम बच्चों से (बालगीत) - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ . भाई समर जी सादर अभिवादन। गीत पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
15 hours ago
Samar kabeer commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-रफ़ूगर
"जनाब बृजेश कुमार 'ब्रज' जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें…"
15 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी प्र्स्तुति पर बधाई स्वीकार करें I "
15 hours ago
Samar kabeer commented on Usha Awasthi's blog post मन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?
"मुहतरमा ऊषा अवस्थी जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें I "
15 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post चन्दा मामा! हम बच्चों से (बालगीत) - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"जनाब लक्ष्मण धामी जी आदाब, अच्छा बाल गीत लिखा आपने, बधाई स्वीकार करें ।"
15 hours ago
Samar kabeer commented on Gurpreet Singh jammu's blog post ग़ज़ल - गुरप्रीत सिंह जम्मू
"जनाब गुरप्रीत सिंह जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । टंकण त्रुटियाँ देख लें ।"
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

चन्दा मामा! हम बच्चों से (बालगीत) - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

रूठे हो बहनों से या फिर,  मद में अपने चूर बताओ।चन्दा मामा! हम बच्चों से, क्यों हो इतने दूर…See More
23 hours ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service