For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

 

सफ़र को हसीं - सा इक मोड़ दीजिए ,
मंजिलें दो दिलों की जोड़ दीजिए |
 
ऐ खुदा ! करने ग़ैरों की भलाई ,
दुनियावालों में कभी होड़ दीजिए |  
 
भरे जो कड़वाहट कभी यूँ दिल में ,
धोकर इसे प्यार से निचोड़ दीजिए |
 
कब तक हमें बाँटोगे सरहदों में ,
मिटाकर लकीरें अब जोड़ दीजिए |
 
मिटाने गरीबी जो सच्ची हो मंशा ,
रखे परदेस में गुल्लक फोड़ दीजिए |
 
क्या हुआ जो सौ में बस दस ही मिली ,
बन किंगमेकर एक गठजोड़ दीजिए |
 
हिम्मत की आग में मेहनत तपाकर ,
तकदीर की लकीरें मोड़ दीजिए |
 
जकड़े कदम बेड़ियाँ जो बनकर ,
रुढियों को ऐसी तोड़ दीजिए |
 
निकल आएंगे राम अंदर से उसके ,
रावण को इक दफा झंझोड़ दीजिए |
 
करे जो कोई चोट अपने वतन पे ,
तो दुश्मन को जवाब मुंह-तोड़ दीजिए |

Views: 421

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Veerendra Jain on February 5, 2011 at 9:32pm
 Anu Shri...gazal pasand karne aur hausla afzai ke liye bahut bahut aabhar... aage bhi apni beshkimati raay avashya dijiyega...dhanyawad...
Comment by Veerendra Jain on February 5, 2011 at 9:31pm
 Tiwari Sir... bahut bahut dhanyawad...ashirwad banaye rakhiyega...
Comment by Veerendra Jain on February 5, 2011 at 9:29pm
 Sharda ji...hausla afzai ke liye bahut bahut shukriya....sneha banaye rakhiye...
Comment by Veerendra Jain on February 5, 2011 at 9:27pm
 Ashish ji...aap to mujhe VEERENDER SEHWAG bana rahe hain...jabki main VEERENDRA JAIN bankar bahut khush hoon...hahaha.... bahut bahut dhanyawad aapka gazal pasand karne aur apni bahumulya raay dene ke liye...
Comment by Veerendra Jain on February 5, 2011 at 9:25pm
 Arun ji...Bahut bahut shukriya.. aap logon ke protsahan se hi likhne ki prerna milti hai...
Comment by anupama shrivastava[anu shri] on February 4, 2011 at 10:52am
मिटाने गरीबी जो सच्ची हो मंशा ,
रखे परदेस में गुल्लक फोड़ दीजिए |
bahut khoob , veerendra ji............sachhi ko bayan karti ,ek sachii kavita........dhanyavad...........age bhi isi tarah share karte rahein......badhai.
Comment by आशीष यादव on February 2, 2011 at 2:55pm
वीरेंदर सर, एक बार फिर  आप की अच्छी रचना हमें पढने को मिली| अच्छे ख्यालों  से सुसज्जित शेरों से सजी सुन्दर ग़ज़ल के लिए आप को बधाई|
Comment by Abhinav Arun on February 2, 2011 at 1:38pm

बहुत अच्छी गज़ल हर शेर अर्थपूर्ण और संदेशपरक !

जकड़े कदम बेड़ियाँ जो बनकर ,
रुढियों को ऐसी तोड़ दीजिए |
 
निकल आएंगे राम अंदर से उसके ,
रावण को इक दफा झंझोड़ दीजिए |
 
इन खूबसूरत शेरो के लिये विशेष बधाई !!
Comment by Veerendra Jain on February 2, 2011 at 12:49pm
Navin bhaiya... bahut dhanyawad...per is gazal me meri pragati kuch hui hai ya nai..is per aapki raay jaanana chahta hoon...!!!
Comment by Veerendra Jain on February 2, 2011 at 12:47pm

Ganesh ji... is baar ke MAHA EVENT me chahkar bhi hissa nahi le pa raha hoon.... darasal pichle dino "retinal haemorrhage" ka shikar bana hua hoon... to computer access band hai... kshma chahta hoon....

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post करने को नित्य पाप जो-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति, सराहना व मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद। इस मिसरे को यूँ…"
12 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"सादर प्रणाम आ धामी सर हौसला अफ़ज़ाई के लिये सहृदय शुक्रिया सर ख़तम की जगह बे दम और वहम की जगह सितम…"
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई आजी तमाम जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थित व उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद।"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थित व उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद।"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कहता था हम से देश को आया सँभालने-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व उत्साहवर्धन के लिए आभार ।"
19 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"आ. भाई आजी तमाम जी, सादर अभिवादन । गजल का प्रयास अच्छा है । हार्दिक बधाई।  भाई नीलेश जी की बात…"
19 hours ago
Aazi Tamaam commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -ख़ुद को ऐसे सँवार कर जागा
"सादर प्रणाम नीलेश सर बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है सहृदय बधाई"
21 hours ago
Aazi Tamaam commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"सादर प्रणाम धामी सर खूबसूरत ग़ज़ल हुई है सहृदय बधाई"
21 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"सादर प्रणाम आ नीलेश जी सहृदय शुक्रिया हौसला अफ़ज़ाई के लिये जी सर मात्राएँ 21 हैं दोनों की लेकिन…"
21 hours ago
Nilesh Shevgaonkar posted blog posts
21 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. लक्ष्मण जी.ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है.बधाई "
21 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"आ. आज़ी भाई,अच्छा प्रयास हुआ है ग़ज़ल का...खतम और वहम की मात्राएँ देख लें..सादर "
22 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service