For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

यह वर्ष हम सभी को हर तरह रास आये

यह वर्ष हम सभी को हर तरह रास आये--घर घर में शांति हो हर बच्चा मुस्कुराये

कठिनाइयों में अब तक गुज़रा हो जिसका जीवन
उम्मीद के गुलो से भर जाये उसका दमन
यह वर्ष हम सभी को जीवन नया दिखाए--घर घर में शांति हो हर बच्चा मुस्कुराये
हर आदमी के मन से हो जाये दूर नफरत
इंसान के हो दिल में इंसान की मुहब्बत
नफरत की आँधियों से परमात्मा बचाए-घर घर में शांति हो हर बच्चा मुस्कुराये
सन  २०१० में जो कुछ भी हो चुका है
सोचो अगर बहुत कुछ इंसान खो चुका है
यह वर्ष अब अमन का पैग़ाम लेके आये --घर घर में शांति हो हर बच्चा मुस्कुराये
कैसी ही उलटी सीधी आ जाये घर में दौलत
खुश हो रहा है दिल में ले लेके खूब रिश्वत
हर एक कर्मचारी मालिक का खौफ खाए--घर घर में शांति हो हर बच्चा मुस्कुराये
इस पर अमल भी करना जो कुछ कहा सुना है 
देखो "हिलाल " की ये सबसे प्राथर्ना  है
हर इक मनुष्य अपने कर्तव्य को निभाए --घर घर में शांति हो हर बच्चा मुस्कुराये
 

 

Views: 268

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Sanjay Rajendraprasad Yadav on May 14, 2011 at 9:58am
//खूबसूरत रचना के लिये बधाई हिलाल भाई.........
Comment by Sanjay Rajendraprasad Yadav on May 14, 2011 at 9:58am
//खूबसूरत रचना के लिये बधाई हिलाल भाई.........
Comment by Sanjay Rajendraprasad Yadav on May 14, 2011 at 9:57am
मेरी आवाज़ में कुछ ऐसा असर हो जाये !

याद जिसको मै करूँ उसको खबर हो जाये !!
Comment by Sanjay Rajendraprasad Yadav on May 14, 2011 at 9:57am
मेरी आवाज़ में कुछ ऐसा असर हो जाये !

याद जिसको मै करूँ उसको खबर हो जाये !!
Comment by Hilal Badayuni on January 2, 2011 at 5:17pm

aadarniya ganesh ji arun ji mazhar sahab

aap sabko naya saal bahut bahut mubarak ho

aur meri haunsla afzaai ka bahut bahut shukriya 

Comment by Mazhar Masood on January 2, 2011 at 11:40am
बहुत अछे विचार हैं आपके हिलाल साहेब , मेरी दुआ है की खुदा आपकी दुआ कबूल करे
Comment by Mazhar Masood on January 2, 2011 at 11:39am
बहुत अछे विचार हैं आपके हिलाल साहेब , मेरी दुआ है की खुदा आपकी दुआ कबूल करे

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on January 2, 2011 at 10:36am

नव वर्ष पर नई उम्मीदों को दिखाती यह नज्म काफी खुबसूरत बनी है हिलाल भाई , इन्तजार के बाद मे नये वर्ष पर आपका आगमन निश्चित हमे उर्जन्वित करता है |

नव वर्ष और खुबसूरत नज्म हेतु बधाई स्वीकार करे |

Comment by Abhinav Arun on January 2, 2011 at 10:13am
खूबसूरत रचना के लिये बधाई हिलाल भाई |हम सब आपके साथ हैं , अच्छी कामना है आमीन !!!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post प्रश्न .....
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी कविता हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
"जनाब सौरभ पाण्डेय जी आदाब, बहुत दिनों बाद ओबीओ पर आपकी ग़ज़ल पढ़ने का मौक़ा मिला है । ग़ज़ल हमेशा की तरह…"
1 hour ago
Chetan Prakash commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
"नमस्कार, आदरणीय  सौरभ  साहब,  ग़ज़ल प्रथम श्रेणी  का काव्य  है, आपकी…"
1 hour ago
Chetan Prakash commented on Sushil Sarna's blog post प्रश्न .....
" नमन,  सुशील  सरना  साहब,  अंतस की विवरणिका  है, आदरणीय आप की …"
2 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
" आ० चेतन प्रकाश जी आप ग़ज़ल को समझें.  ओबीओ की पाठकीयता इतनी निरीह नहीं है. या…"
2 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हमको समझ नहीं-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"जनाब अनीस अरमान जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post फ़र्ज़ ......
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी क्षणिकाएँ हुई हैं, बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'मंज़िल की जुस्तजू में…"
3 hours ago
Om Parkash Sharma shared their blog post on Facebook
4 hours ago
Chetan Prakash commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
"आदरणीय सौरभ साहब, नमन! प्रश्न सूर्य जैसे जीवन की धुरी के रुपक पर, मान्यवर आप, अपनी ग़ज़ल के माध्यम…"
4 hours ago
Md. Anis arman commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"जनाब समर कबीर साहब ग़ज़ल तक आने और पसंद कर हौसला बढ़ाने का बहुत बहुत शुक्रिया "
8 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service