For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Hilal Badayuni
  • Male
  • Badaun u.p.
  • India
Share

Hilal Badayuni's Friends

  • deepti sharma
  • Kiran Arya
  • Prabha Khanna
  • Aradhana
  • Tapan Dubey
  • jahir
  • Rajendra Swarnkar
  • wasim
  • vivek varshney
  • priyanka rastogi
  • Mazhar Masood
  • shyama singh
  • mohsin khan
  • dr mandeep
  • Anita Maurya
 

Hilal Badayuni's Page

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर left a comment for Hilal Badayuni
"ओपन बुक्स परिवार की ओर से आपको जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें."
Apr 14, 2019

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर left a comment for Hilal Badayuni
"ओपन बुक्स परिवार की ओर से आपको जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें."
Apr 14, 2019
Hilal Badayuni updated their profile
Apr 14, 2019

Profile Information

Gender
Male
City State
Uttar Pradesh
Native Place
Badaun (U.P.)
Profession
Shayar, Nazim e Mushaira /Jornalist/Teacher
About me
Urdu poet, If u want to furter info abt me and my poetreis , kindly search hilal badayuni in google

Hilal Badayuni's Photos

  • Add Photos
  • View All

Hilal Badayuni's Videos

  • Add Videos
  • View All

Hilal Badayuni's Blog

एक तवायफ की दास्तान

कितनी बदली हुई तकदीर नज़र आती है--ये जवानी मेरी तस्वीर नज़र आती है !!



                    
                                                         हमने सोचा न था हालात कुछ ऐसे होंगे !…
Continue

Posted on October 31, 2011 at 12:30am — 16 Comments

क्यों अदीब अब तक है खोये ज़ुल्फ़ और रुखसार में !!

हमको  रहना  चाहिए  अब  सोह्बते  तलवार  में !

क्यों अदीब अब तक है खोये ज़ुल्फ़ और रुखसार  में !!


जब  तलक  उलझा  रहेगा  दामने  दिल  खार  में !
हम  सुकू  से  रह  नहीं  पाएंगे  इस  गुलज़ार  में  !!


नकहते  गुल  सुबहे  नौ शम्सो  कमर  अंजुम  जिया ! 
नेमतें  क्या  क्या  छुपी  है  यार  के  दीदार  में !!


मुद्दतो  जिस …
Continue

Posted on October 15, 2011 at 5:00pm — 9 Comments

बेवफाई भी ज़रूरी है वफ़ा से पहले !!

मर्ज़  जिस  तरह  से  लाजिम  है  दवा  से  पहले  !

बेवफाई  भी  ज़रूरी  है  वफ़ा  से  पहले  !!
ख्वाहिश  ऐ   दीद  है  यूँ   दिल  को  क़ज़ा  से  पहले  !
तुमसे  मिलने  की  तमन्ना  है  खुदा  से  पहले  !!
आरजू  तो  है  चरागों   को  जलाने  की  मगर  !
मुझको  मालूम  तो  करने  दो  हवा  से  पहले  !!
जब  मेरा  साथ  निभाना  ही  नहीं  था  तुमको  !
क्यों  दिए  मुझको  मुहब्बत  में  दिलासे  पहले  !!
सिर्फ  खिलअत  से  नहीं…
Continue

Posted on October 7, 2011 at 12:30pm — 3 Comments

तेरी आँखों से लड़ गयीं आँखें !

तेरी आँखों से लड़ गयीं आँखें !

कितनी उलझन में पड़ गयीं आँखें !!



आँख से जब बिछड़ गयीं आँखें !

आंसुओ में जकड़ गयीं आँखें !!



तू जो आया बहार लौट आयी !

तू गया तो उजड़ गयीं आँखें !!



तेरे आने की इन्तेज़ारी में !

घर की चौखट पे जड़ गयीं आँखें !!



आज फिर ज़िक्र छिड गया उसका !

आज फिर से उमड़ गयीं आँखें !!



रौशनी… Continue

Posted on June 15, 2011 at 10:30pm — 1 Comment

Comment Wall (18 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:12am on July 31, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ओपन बुक्स परिवार की ओर से आपको जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें.

At 4:10pm on August 1, 2011,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

हिलाल अहमदभाई, बधाई हो.

हार्दिक शुभकामनाएँ.

At 12:48pm on July 31, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 11:15am on June 15, 2011, Deepak Sharma Kuluvi said…
Hilal Bhai
लाजबाब बस लाजबाब 
.....................
मुझे अपनी खता मालूम नहीं
पर तेरी खता  पे हैराँ हूँ
कैसे भुला दूँ दिल से तुझे
जैसा भी हूँ बस तेरा हूँ
 
दीपक शर्मा 'कुल्लुवी'
09136211486
At 7:23pm on October 17, 2010, SYED BASEERUL HASAN WAFA NAQVI said…
aankhon pai jab se pad gayin.........bhai zinda bad buht achche misre kahe hain aap ne mubarak ho.
At 9:34pm on October 16, 2010, SYED BASEERUL HASAN WAFA NAQVI said…
salam bhai buht shukrya aapnki muhabbat ka dua main yad rakhen.
At 6:49pm on October 9, 2010, moin shamsi said…
देखिये मियां, आप ज़बर्दस्त लिखते हैं इसमें कोई दो राय नहीं है । माशा-अल्लाह ख़ानदानी शायर हैं । मगर मैं शायर नहीं हूं । हालांकि लिखता बहुत हूं । आंवला के जिन शोरा का ज़िक्र आपने किया उन्हें मैं जानता हूं । दिल्ली में कहां रहते हैं आप?
At 12:21am on October 5, 2010, आशीष यादव said…
hilal sahab aapka blog mahine ka sarwashresht blog chuna gaya. badhai swikar kare,
At 11:24pm on October 4, 2010,
सदस्य टीम प्रबंधन
Rana Pratap Singh
said…
हिलाल भाई इस सम्मान के लिए मुबारकबाद.
At 11:18pm on October 4, 2010,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
हिलाल भाई साहब,नमस्कार,
आपकी ग़ज़ल को महीने का सर्वश्रेष्ठ ब्लॉग (Best Blog of the Month) चुने जाने पर मुबारकवाद कबूल करे, उम्मीद है कि आगे भी आप कि रचनायें और अन्य रचनाओं पर आपकी बहुमूल्य टिप्पणियाँ पढ़ने को मिलती रहेगी,
आपका
गनेश जी "बागी"
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसके हिस्से में क्यों रास्ता कम है- लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"//क्या इस बह्र को किसी और प्रचलित बह्र में बदला जा सकता है?// बिल्कुल बदला जा सकता है, आपका मतला…"
5 hours ago
Deepanjali Dubey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"मात शारदे वंदन करती रोज आपको शीष नवाय धार लेखनी मे तुम भरदो,बैठो अब लेखन मे आय। बैठे-बैठे पाती…"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"आकाश लाल है सूर्य उदित, जनता उठी सवेरा जान।सत्ता के सारे झूठ मिटा, वो गढ़ने अब नव प्रतिमान।।पाये…"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर अभिवादन.."
6 hours ago
Samar kabeer posted a blog post

एक ताज़ा ग़ज़ल

ग़ज़ल2212 1122 1212 22/112सुख़न में पैदा तेरे किस तरह कमाल हुआसुख़न में तेरे बता कैसे ये कमाल हुआहज़ार…See More
6 hours ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"आल्हा   / वीर छंद  :  विषय  :जनसंख्या विस्फोट  जनसंख्या सीमित …"
8 hours ago
सालिक गणवीर commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसके हिस्से में क्यों रास्ता कम है- लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सादर अभिवादन अच्छी  ग़ज़ल  हुई…"
14 hours ago
सालिक गणवीर commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"भाई अनीस अरमान जी आदाब बहुत उम्दः ग़ज़ल कही है आपने. बधाइयाँँ स्वीकार करें."
14 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय  Chetan Prakash जी सादर प्रणाम ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और सराहना के लिए आपका शुक्रगु़ज़ार…"
14 hours ago
Chetan Prakash commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदाब,  सालिक गणवीर साहब,  छोटी  सी किन्तु  खूबसूरत ग़ज़ल  कही आपने,…"
16 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"हार्दिक स्वागत है, सुधीजनो !"
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . .
"वाह .. आपकी छांदसिक यात्रा के प्रति साधुवाद  शुभातिशुभ"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service