For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

प्रेमियों केे प्रेम केे निशान बन गए (पूरी ग़ज़ल)

वो फख्र से जुदा हुए अनजान बन गए
प्यार का क़तल किया दीवान बन गए (1)

देते कभी थे इश्क़ में जन्मो के वास्ते
वो चार रोज़ में ही बेगान बन गए (2)

वादों की और इरादों की लम्बी कतार थी
फहरिस्त उन इरादों के अरमान बन गए (3)

अक्सर वफ़ा की कसमें जो खाते थे बार बार
कल तोड़ के कसम वो बेईमान बन गए (4)

महफ़िल कभी जिनके लिए हमने सजाई थी
आज उनकी महफ़िलों के महमान बन गए (5)

एहसास जिनकी कश्ती में महफूज़ था हमें
साहिल के आस पास ही तूफ़ान बन गए (6)

मिलते वहीं थे घाट पे करते थे गुफ्तगू
तेरे बगैर घाट भी वीरान बन गए   (7)

उस पार रेत से जो हमने घर बनाए थे
वो प्रेमियों केे प्रेम केे निशान बन गए (8)

अक्सर बिताईं शामें हमने विश्वनाथ में
अब पूजते हैं उनको वो भगवान् बन गए (9)

चर्चे हमारे इश्क़ के गलियों में खूब थे
ख़बरों में थे कभी अभी गुमनाम बन गए (10)

किस मोड़ पर ये इश्क़ हमको लेके आ गया
जलकर तुम्हारे प्यार में शमशान बन (11)

मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 569

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Vinay Prakash Tiwari (VP) on June 27, 2020 at 6:01am

आदरणीय ज़नाब रवि भसीन 'शाहिद'' साहब आपकी बातों का आगे पूरा ख्याल रखने की कोशिश करूँगा आपका तहे दिल से शुक्रिया और ओपन बुक्स ऑनलाइन का तहे दिल से शुक्रिया कि हमें सीखने का मौका आप जैसे गुणीजनो के सानिध्य में मिल रहा है सादर प्रणाम स्वीकार करें

Comment by Vinay Prakash Tiwari (VP) on June 27, 2020 at 5:57am

आदरणीय मोहतरमा Dimple Sharma जी नमस्ते तहे दिल से माफ़ी चाहता हूँ देर से जवाब दे पाने के लिए
आपने मनोबल बढ़ाया इसके लिए सादर धन्यवाद

Comment by Vinay Prakash Tiwari (VP) on June 27, 2020 at 5:54am

आदरणीय ज़नाब सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' साहब तहे दिल से माफ़ी चाहता हूँ देर से जवाब दे पाने के लिए
मैं एक छात्र हूँ और आप सभी गुणीजनों की बातों का ख्याल रखने की कोशिश कर रहा हूँ आपका सादर धन्यवाद

Comment by Vinay Prakash Tiwari (VP) on June 27, 2020 at 5:52am

आदरणीय ज़नाब Ravi Shukla साहब तहे दिल से माफ़ी चाहता हूँ देर से जवाब दे पाने के लिए
मैं एक छात्र हूँ आपके मनोबल बढ़ाने के लिए तहे दिल से आभार

Comment by Vinay Prakash Tiwari (VP) on June 27, 2020 at 5:51am

आदरणीय ज़नाब Samar kabeer साहब तहे दिल से माफ़ी चाहता हूँ देर से जवाब दे पाने के लिए
जी मैं नित्य ग़ज़ल के नए पाठ पढ़ रहा हूँ और सीखने की कोशिश कर रहा हूँ आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार हूँ की आप अपने कीमती वक़्त में से कुछ हम जैसे छात्रों को सीखने के लिए दे रहे हैं इस बार के तरही में कोशिश करूँगा खामियों को बहुत हद तक दूर कर्रूँ आशा रहेगी की आप ऐसे ही सिखाते रहेंगे
दिल से शुक्रिया

Comment by Vinay Prakash Tiwari (VP) on June 27, 2020 at 5:47am

आदरणीय रवि भसीन 'शाहिद' साहब तहे दिल से माफ़ी चाहता हूँ देर से जवाब दे पाने के लिए
आपको तहे दिल से शुक्रिया ज़नाब अपना कीमती वक़्त देने के लिए
आप से बहुत कुछ सीखने को मिला, अभी सीख रहा हूँ कृपया आशीर्वाद बनाए रखें
अगली ग़ज़ल में गलतियों को सुधरने की कोशिश करूँगा
सादर धन्यवाद

Comment by Ravi Shukla on June 16, 2020 at 2:46pm

आदरणीय विनय प्रकाश जी अच्छा प्रयास है ग़ज़ल का ,बधाई स्‍वीकार करें । आपकी गजल के हवाले से काफी कुछ सीखने को मिला है

Comment by नाथ सोनांचली on June 14, 2020 at 8:26am

आद0 विनय प्रकाश जी सादर अभिवादन। गुणीजनों की बातों का संज्ञान लीजिये। सादर

Comment by रवि भसीन 'शाहिद' on June 13, 2020 at 11:14pm

दूसरे शे'र में सहीह लफ़्ज़ है 'बेगाना'। हो सकता है आप ने इस लफ़्ज़ को किसी शे'र में इस्तेमाल होते हुए पढ़ा या सुना हो जहाँ मात्रा पतन किया गया है या इज़ाफ़त इस्तेमाल की गई है, और वहाँ ये आपको 'बगान' जैसा प्रतीत हुआ हो, जैसे कि जाँ निसार अख़्तर साहिब की मशहूर ग़ज़ल है:
   बेमुरव्वत बेवफ़ा बेगाना-ए-दिल आप हैं
   आप मानें या न मानें मेरे क़ातिल आप हैं
लेकिन फिर भी लफ़्ज़ 'बेगाना' ही रहेगा, और इस लफ़्ज़ को इस ग़ज़ल में क़ाफ़िया नहीं लिया जा सकता।

Comment by रवि भसीन 'शाहिद' on June 13, 2020 at 10:57pm

आदरणीय प्रकाश तिवारी जी,
आपको इस ग़ज़ल पर हार्दिक बधाई। आशा है कि आप उस्ताद-ए-मुहतरम समर कबीर साहिब की बातों का संज्ञान लेंगे। आप को ओ बी ओ पर 'ग़ज़ल की कक्षा' ही कई ज्ञानवर्धक लेख मिल जाएँगे। मैं कुछ तकनीकी त्रुटियों की ओर हल्का सा इशारा कर देता हूँ।

1. बह्र
आप जब भी ग़ज़ल post करें, कृपया उसकी बह्र ज़रूर लिखें, ताकि सीखने और सिखाने वालों को आसानी हो।
आपके मतले के पहले मिस्रे (यानी मिस्रा-ए-ऊला) से मालूम होता है कि आपने ग़ज़ल के लिए ये बह्र चुनी है:
/वो फख्र से जुदा हुए अनजान बन गए/
221 / 2121 / 1221 / 212
लेकिन फिर दूसरे ही मिस्रे (यानी मिस्रा-ए-सानी):

/प्यार का क़तल किया दीवान बन गए/

का पहला लफ्ज़ 'प्यार', जिसका वज़्न 21 है, वो बह्र में नहीं है। मिसरे के पहले रुक्न में तो 221 के वज़न का लफ्ज़ या अलफ़ाज़ चाहिए।

देखिये ये मिस्रा किस तरह बह्र में आ सकता था:
221 / 2121 / 1221 / 212
उल्फ़त का क़त्ल कर के वो दीवान बन गए
(मैंने ये सिर्फ़ आपको बह्र की जानकारी देने के लिए लिखा है; इस मिसरे का अर्थ मैं नहीं समझ पाया हूँ)

2. दोष
a) तक़ाबुल-ए-रदीफ़
ग़ज़ल के अशआर कहते समय इस बात का ध्यान रखना होता है कि मतले को छोड़ कर किसी भी शे'र के पहले मिसरे का आख़िरी हर्फ़ रदीफ़ के आख़िरी हर्फ़ से मेल खाता ना हो। आप की ग़ज़ल में रदीफ़ है 'बन गए' इसलिए किसी भी शे'र के पहले मिसरे के अंत में 'ए' नहीं आना चाहिए, जो कि 2, 8, और 10 नंबर के अशआर में हो रहा है।

b) तनाफ़ुर
जब किसी लफ़्ज़ का आख़िरी अक्षर और अगले लफ्ज़ का पहला अक्षर एक ही होता है, तो बोलने में कठिनाई होती है, जिससे सुनने वाले को कई बार शे'र समझ ही नहीं आता, जैसे कि 2 नंबर शे'र में 'चार रोज़' और 8 नंबर शे'र में 'पार रेत'। कोशिश करना चाहिए कि आपकी ग़ज़ल में ये दोष न हो।

3. टंकण
साहित्यकार की सबसे पहले पहचान उसके लफ़्ज़ों के spelling देते हैं, इसलिए इस नुक़्ते पर विशेष ध्यान देना चाहिए। कुछ टंकण त्रुटियाँ शे'र के नंबर के साथ इंगित कर रहा हूँ:
1. फ़ख़्र, क़त्ल
2. जन्मों ('बेगान' कोई लफ़्ज़ नहीं है)
3. क़तार, फ़हरिस्त,
4. क़समें, क़सम
7. गुफ़्तगू
10. ख़ूब

4. व्याकरण
जैसे कि आपके 6 नंबर शे'र का ऊला है:
/एहसास जिनकी कश्ती में महफूज़ था हमें/
व्याकरण की दृष्टी से देखा जाए तो ये इस तरह सहीह होगा:
'एहसास जिनकी कश्ती में महफूज़ होने का था हमें'
या
'महसूस जिनकी कश्ती में महफूज़ करते थे हम'
आदरणीय, ये मिसरे इस ग़ज़ल की बह्र में नहीं हैं। ये सिर्फ़ आप तक व्याकरण वाली बात पहुँचाने के लिए लिखे हैं।


आशा करता हूँ कि आप इन बिंदुओं पर ग़ौर करेंगे, अध्यन करेंगे, और इस बेहतरीन मंच के साथ जुड़े रहेंगे। सादर

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"जी !  -लोग पथ बेचैन दिखते आन्दोलित हैं अभी.....इस चरण में आपने शब्द 'आन्दोलित' को…"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया प्रतिभा पाण्डे जी सादर, मैं आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर साहब से सहमत हूँ. यह छंद कुछ शीघ्रता में…"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया प्रतिभा पाण्डे जी सादर, गीतिका छंद की इस प्रस्तुति पर उत्साहवर्धन हेतु आपका अतिशय आभार.…"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय भाई लक्ष्मण धामी जी सादर, प्रदत्त चित्र पर गीतिका छन्द की यह प्रस्तुति आपको पसंद आयी,रचना…"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव साहब सादर, प्रदत्त चित्र पर गीतिका छंद में रची प्रस्तुति पर…"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर साहब सादर, प्रदत्त पर रचे छन्दों की सराहना के लिए आपका हृदय से आभार. सादर"
1 hour ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. प्रथम छंद की तुकांतता में कोई दोष नहीं है, आप स्वयं देखिएगा! न, वो यहाँ कोई मात्रा दोष ही है, न…"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"जी, प्रथम छंद की तुकांतता पर विचार करें । सादर..."
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अखिलेश जी, उपस्थिति व स्नेह के लिए आभार।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. प्रतिभा बहन , छंदो की प्रशंसा के लिए आभार।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अशोक जी, सादर अभिवादन। छंदों पर आपकी मनभावन प्रतिक्रिया से उत्साहित हूँ। लेखन का प्रयास सफल…"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक 137 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, सादर अभिवादन।छंदों पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद।"
3 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service