For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

धीरे-धीरे समझे हम

इस दुनिया के तौर तरीके

धीरे धीरे समझे हम

गुलदस्तों की ओट में खंजर

धीरे-धीरे समझे हम|  

जोश बड़ा था होश नहीं था

हद से आगे गुजरे हम

हद से आगे जो होता है  

धीरे-धीरे समझे हम|

 

जो भी मिल गए

अपने बन गए

रिश्ते खूब निभाये हम

रिश्तेदारों की हकीकत     

धीरे-धीरे समझे हम|

बीत गयी हर बात पुरानी

एक कहानी बन गए हम

 फंतासी हैं रिश्ते नाते

धीरे-धीरे समझे हम|

शहद समझकर हंसकर पी गए

जहर के कितने प्याले हम

किश्तों में फिर मौत का आना

धीरे-धीरे समझे हम| 

 

दर्पण का दिल चटक गया

जब इसके भीतर झांके हम

हजार मुखोटे एक चेहरे पर

धीरे-धीरे समझे हम| 

मेहनत करके हारा है जो

उसे नकारा समझे हम

मेहनतकश की पीर कहां है

धीरे-धीरे समझे हम| 

(मौलिक और अप्रकाशित) 

Views: 340

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on August 11, 2017 at 5:36pm

बहुत सुंदर प्रस्तुति |

Comment by Gul Sarika Thakur on February 1, 2014 at 7:18am

प्रबुद्ध सुधीजनो के इस मार्ग दर्शन से अभिभूत हूँ, लम्बे समय तक मुक्त छ्न्द में लिखने के उपरांत अनुभव हुआ कि काव्य में छ्न्द भी अति महत्वपूर्ण है, सहमत हूँ शिल्प दोष अवश्य होंगे... बहुत ही आभारी रहूँगी अगर सुधीजन भूल सुधार भी कर दें... . आभार


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on February 1, 2014 at 2:00am

बहुत दिनों पर आपकी रचना से गुजर रहा हूँ. आपके भावशब्दों में रुहानी ताकत है लेकिन रचनाकर्म प्रस्तुति के अलावे एक साधना भी है जिसमें कुछ कहने का ढंग यानि शिल्प भी अर्थ रखता है. तब तो और, जब रचनाकार शाब्दिक प्रवाह के व्यामोह में दिखे.
अरुन अनन्तभाई के कहे से मैं भी सहमत हूँ.
शुभेच्छाएँ


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on January 27, 2014 at 3:53pm

दुनियादारी, रिश्ते नातों, अपनों परायों के उलझे जाल को समझने की चेष्टा करती अभिव्यक्ति...

शिल्प के स्तरपर अभी कुछ और वक़्त दिए जाने की ज़रुरत है इस रचना पर.

शुभकामनाएं  

Comment by अजय कुमार सिंह on January 26, 2014 at 2:21am

भाई अरुन शर्मा 'अनन्त' जी की बात से सर्वथा सहमत हूँ. पहले पद का प्रवाह यदि सम्पूर्ण रचना में होता तो क्या ही उत्तम रचना होती. फिलहाल, भावपूर्ण रचना के सृजन पर बधाई स्वीकारें आदरणीया |

Comment by ajay sharma on January 25, 2014 at 9:58pm

इस दुनिया के तौर तरीके

धीरे धीरे समझे हम

गुलदस्तों की ओट में खंजर

धीरे-धीरे समझे हम|  .....wah wah kya kahan hai apka ..........bahut hi sunder 

Comment by Priyanka singh on January 25, 2014 at 6:49pm

जोश बड़ा था होश नहीं था

हद से आगे गुजरे हम

हद से आगे जो होता है  

धीरे-धीरे समझे हम|

दर्पण का दिल चटक गया

जब इसके भीतर झांके हम

हजार मुखोटे एक चेहरे पर

धीरे-धीरे समझे हम| 

मेहनत करके हारा है जो

उसे नकारा समझे हम

मेहनतकश की पीर कहां है

धीरे-धीरे समझे हम| ........आदरणीया सारिका जी ....बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना कही अपने...... बहुत बहुत बधाई आपको 

Comment by अरुन 'अनन्त' on January 24, 2014 at 11:32am

आदरणीया सारिका जी रचना ने बहुत ही सुन्दर भाव पिरोये हैं आपने प्रथम दो पंक्तियों में जो प्रवाह है यदि वही सम्पूर्ण रचना में होता तो आनंद आ जाता. खैर इस रचना पर ढेरों बधाइयाँ स्वीकारें.

Comment by Gul Sarika Thakur on January 23, 2014 at 10:59pm

Abhaar Nadir Khan Sahab...

Comment by नादिर ख़ान on January 23, 2014 at 9:48pm

शहद समझकर हंसकर पी गए

जहर के कितने प्याले हम

किश्तों में फिर मौत का आना

धीरे-धीरे समझे हम| 

 

दर्पण का दिल चटक गया

जब इसके भीतर झांके हम

हजार मुखोटे एक चेहरे पर

धीरे-धीरे समझे हम| 

 आदरणीया   सारिका जी इस उम्दा रचना के लिए आपको कोटिशः बधाईयाँ..

दिल को छू लेने वाली शानदार अभिव्यक्ति ....

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"जनाब आज़ी तमाम साहिब आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई का तह-ए-दिल से शुक्रिया।…"
13 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
" आदरणीय राजेश कुमारी जी सादर प्रणाम  ग़ज़ल तक आने और मार्गदर्शन करने के लिये दिल से…"
13 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का उम्दा प्रयास है मुबारकबाद पेश करता…"
14 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय चेतन जी खूबसूरत ग़ज़ल और मुशायरा प्रारंभ के लिये दिल से बधाई स्वीकार करें"
28 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"2122 1122 1122 22 अपने ही दिल को सज़ा हमसे सुनाई न गई बे-वफ़ा से तो वफ़ा हमसे निभाई न…"
32 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"जनाब मुनीश तन्हा जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही है आपने मुबारकबाद पेश करता हूँ।"
36 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"शानदार ग़ज़ल के लिये आदरणीय अमीर जी मुबारकबाद कुबूल करें"
38 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही है आपने मुबारकबाद पेश करता…"
39 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आरणीय रचना जी अच्छी ग़ज़ल हुई है बधाई स्वीकार करें"
39 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब मुनिश तन्हा जी अच्छी ग़ज़ल के लिये बधाई स्वीकार करें"
41 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब सालिक जी खूबसूरत ग़ज़ल के लिये धन्यवाद स्वीकार करें"
43 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब धामी जी बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है बधाई स्वीकार करें"
44 minutes ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service