For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

tiwary baba aaya....hasne ki guarantee laya.....

1... एक पठान बिना छीले केला खा रहा था, किसी ने उसे कहा- इसे छील तो लो।
पठान - छीलने की क्या जरुरत है हमें मालूम है इसमें केला है।

2... एक भिखारी की लॉटरी लगी तो वो एक मंदिर बनवाता है।
दूसरा भिखारी- यार तू मंदिर क्यों बनवा रहा है।
भिखारी- क्योंकि इसके सामने मैं अकेला भीख मांगूंगा।

3... बॉस ने एक मेहनती कर्मचारी को बुलाकर कहा- ये लो 5000 रुपये का चेक, अगर इसी तरह मेहनत से काम करते रहोगे तो साइन भी कर दूंगा

4... एक भारतीय युवक ने चाइनीज लड़की से शादी की।
एक साल बाद ही वो मर गयी उसे रोता देख उसका दोस्त बोला- यार दुख की बात तो है, पर सोच चाइना का माल और कितना चलेगा।

5... संता (बंता से)- मेरे दादा ने 1947 की जंग में दुश्मन की टांग काट दी थी।
बंता (संता से)- गर्दन क्यों नही काटी..
संता- वो पहले से ही कटी पड़ी थी।

6... संता (बंता से)- मेरी बकरी ने अंडा दिया है।
बंता (संता से)- बकरी कैसे अंडा दे सकती है।
संता- अबे गधे मैंने अपनी मुर्गी का नाम बकरी रखा है।

7... संता को बड़ी मुश्किल से एक नौकरी मिली। वह बहुत खुश हुआ। पहले दिन जब वह ऑफिस पहुंचा तो उसे उसका काम बता कर उसके बैठने की जगह बता दी गई। वह रात के ग्यारह बजे तक अपनी सीट पर बैठ कर काम करता रहा। उसके बॉस बहुत खुश हुए कि बंदा बहुत मेहनती है।
जब वह बॉस के पास यह कहने गया कि अब वह घर जा रहा है तो बॉस ने पूछा- आज तो तुमने बहुत काम किया। जरा अपने काम के बारे में बताओ। संता झल्लाता हुआ बोला- खाक काम करता। की-बोर्ड का सारा बटन उल्टा-पुल्टा था। ए, बी, सी..ठीक करते-करते ही ग्यारह बज गए।

8... डॉक्टर (मरीज से)- कमजोरी है फल खाया करो छिलके सहित।
एक घंटे बाद..
मरीज- डॉक्टर साहब मेरा पेट दर्द हो रहा है।
डॉक्टर- क्या खाया था?
मरीज- नारियल छिलके सहित

9... डॉक्टर- ये मर चुका है..
तभी मरीज बोल पड़ा- मैं जिंदा हूं..!
मरीज की पत्नी- तुम चुप रहो जी, हमेशा अपनी चलाते हो, इतना बड़ा डॉक्टर क्या झूठ बोलेगा?

10... मां- बेटा तुम अपने बाल क्यों नही कटवाते?
बेटा- क्यों मां?
मां- बेटा लोग रिश्ते के लिए तुम्हारी बहन को देखने आते हैं और पसंद तुम्हें कर जाते हैं।

11... चिंटू- पापा आप प्रेस क्यों कर रहे हो।
पापा- प्रेस करने से सलवटें निकल जाती हैं।
चिंटू- फिर तो अच्छा है पापा मैं दादाजी के गाल की भी सलवटें निकाल दूंगा।

12... राजू अपनी मां से स्कूल ना जाने की जिद कर रहा था। मां उसे समझाते हुए बोली, बेटे स्कूल जाओगे तो बड़ा आदमी बनोगे। तुम्हारे पास बहुत पैसे होंगे, कार होगा। राजू मां की बात मान कर स्कूल चला गया।
क्लास में टीचर ने पूछा- बच्चों बताओ, किताबें कहां मिलती हैं?
एक बच्चा- बुक स्टोर में।
टीचर- कार कहां मिलती है?
राजू- स्कूल में।

13... पुलिस हाई अलर्ट के टाइम शर्मा जी के घर तलाशी लेने गयी।
पुलिस- खबर है कि आपके घर में विस्फोटक सामग्री है।
शर्मा जी- सर वो मायके गयी हुई है।

14... पति भागा-भागा होटल मैनेजर के पास गया, जल्दी चलो! मेरी बीवी खिड़की से कूदकर जान देना चाहती है।
होटल मैनेजर- तो इसमें मैं क्या करूं?
पति- खिड़की नही खुल रही है।

15... बहू की विदाई के बाद घर आने पर सास ने कहा- बेटी आज से मुझे मां और अपने ससुर को पापा कहना...
शाम को पति के आने पर पत्नी बोली, मां भैया आ ये...

aur ab antim me ek ganesh bhaiya ke liye special........(maaf karab ganesh bhaiya lekin hamar hak baa)

16... ganesh bhaiya(bhabhi jee se)- विद्वानों ने कहा है कि मूर्खो की बीवी बहुत सुंदर होती है।
bhabhi jee(ganesh bhaiya se)- आपके पास तो हमारी तारीफ करने के सिवा कोई काम ही नही है।

Views: 495

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Mahesh Jee on April 30, 2010 at 11:31pm
Bhut achchha lagl aap ke jok lekin antim vala ke bare me ka khyal ba khi anubhv vali vat t na h. Hahahahahaha..,.
Comment by Mahesh Jee on April 30, 2010 at 11:30pm
Bhut achchha lagl aap ke jok lekin antim vala ke bare me ka khyal ba khi anubhv vali vat t na h. Hahahahahaha..,.
Comment by Mahesh Jee on April 30, 2010 at 11:29pm
Bhut achchha lagl aap ke jok lekin antim vala ke bare me ka khyal ba khi anubhv vali vat t na h. Hahahahahaha..,.

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 23, 2010 at 12:59pm
हा हा हा हा हा हा हा पेट दुखाने लगा भाई, बहुत बढ़िया चुटकुला है , सब एक से बढ़कर एक, ३,४,७,१४,१६ तो बेजोड़ है भाई,
Comment by Admin on April 23, 2010 at 12:54pm
hahahahahahaha, bahut badhiyaa, khas kar key 3,7,10 aur 16, bahut badhiya collection hai,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Admin posted a discussion

"ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-148

आदरणीय साहित्य प्रेमियो, जैसाकि आप सभी को ज्ञात ही है, महा-उत्सव आयोजन दरअसल रचनाकारों, विशेषकर…See More
9 hours ago
PHOOL SINGH posted a blog post

महाराणा प्रताप

महाराणा प्रताप चितौड़ भूमि के हर कण में बसता जन जन की जो वाणी थीवीर अनोखा महाराणा थाशूरवीरता जिसकी…See More
13 hours ago
जगदानन्द झा 'मनु' commented on जगदानन्द झा 'मनु''s blog post मैं कौन हूँ
"हार्दिक धन्यवाद भाई आदरणीय लक्ष्मण धामी जी और भाई आदरणीय Samar Kabeer जी, आप का मार्गदर्शन इसी तरह…"
17 hours ago
जगदानन्द झा 'मनु' posted a blog post

मैं कौन हूँ

मैं कौन हूँअब तक मैं अपना  पहचान ही नहीं पा सका भीड़ में दबा कुचला व्यथित मानवदड़बे में बंद…See More
yesterday
Zaif commented on Zaif's blog post ग़ज़ल - थामती नहीं हैं पलकें अश्कों का उबाल तक (ज़ैफ़)
"आ. बृजेश जी, बहुत आभार आपका।"
Sunday
Usha Awasthi posted a blog post

मन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?

उषा अवस्थीमन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?वे घर ,जो दिखते नहींमिलते हैं धूल में, टिकते नहींपर "मैं"…See More
Sunday
Rachna Bhatia posted a blog post

सदा - क्यों नहीं देते

221--1221--1221--1221आँखों में भरे अश्क गिरा क्यों नहीं देतेहै दर्द अगर सबको बता क्यों नहीं देते2है…See More
Sunday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर् आपके कहे अनुसार ऊला बदल लेती हूँ। ईश्वर आपका साया हम पर…"
Sunday
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा पंचक. . . . .

दोहा पंचक. . . .साथ चलेंगी नेकियाँ, छूटेगा जब हाथ । बन्दे तेरे कर्म बस , होंगे   तेरे  साथ ।।मिथ्या…See More
Saturday
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .
"जी सृजन के भावों को मान देने और त्रुटि इंगित करने का दिल से आभार । सहमत एवं संशोधित"
Saturday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"'सच्चाई अभी ज़िन्दा है जो मुल्क़ में यारो इंसाफ़ को फ़िर लोग सदा क्यों नहीं देते' ऊला यूँ…"
Saturday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर्, "बिना डर" डीलीट होने से रह गया।क्षमा चाहती…"
Saturday

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service