For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सडक एक नदी है। बस स्टैण्ड एक घाट।

 

 सडक एक नदी है।
बस स्टैण्ड एक घाट।
इस नदी मे आदमी बहते हैं। सुबह से शाम तक। शाम से सुबह तक। रात के वक्त यह धीरे धीरे बहती है। और देर रात गये लगभग रुकी रुकी बहती है। पर सुबह से यह अपनी रवानी पे रहती है। चिलकती धूप और भरी बरसात मे भी बहती रहती है । भले यह धीरे धीरे बहे। पर बहती अनवरत रहती है।

सडक एक नदी है इस नदी मे इन्सान बहते हैं। सुबह से शाम बहते हैं। जैसा कि अभी बह रहे हैं।
बहुत से लोग अपने घरों से इस नदी मे कूद जाते हैं। और बहते हुये पार उतर जाते हैं। कुछ लोग अपने अपने जहाज ‘कार व मोटर’ मे बैठ कर इस नदी को पार करते हैं।

जैसे यह चौडा मोड इस नदी का एक घाट है। उसी तरह इस नदी के किनारे किनारे तमाम घाट हैं। लोग इस घाट पे इकठठा होते हैं फिर बहुत सी नावें आती हैं। जिसमे लद के ये लोग पार उतर जाते हैं या दूसरे घाट लग जाते हैं।

मै जब सुबह इस घाट पे अपनी नाव याने की बस पे बैठने के लिये पहुंचूंगा। तब तक न जाने कितनी नावें आके जा चुकी हांगी। न जाने कितने आदमी बह चुके होंगे इस नदी से इस घाट से इस चौडा मोड के घाट से। और न जाने कितने लोग बहने के लिये या उस पार जाने के लिये या कि किसी और घाट से लगने के इंतजार मे होंगे।
सब हबबडी मे होंगे जल्दी मे होंगे।
सिर्फ जल्दी नही होगी तो सडक की इस नदी से लगे चौडा मोड के इस घाट से लगे।
पानी के रेहडी वाले को, जिसकी रेहडी गर्मी मे पानी की टंकी मे तब्दील हो जाती है। और जाडे मे मूंगफली व भेलपूरी के ठेले मे।
नदी के किनारे यह पान वाला भी खडा रहेगा अपनी पान की गुमटी लगाये। इसे भी जल्दी नही रहती बल्कि यह दोनो तो किसी और घाट से बह के यहां आये होते हैं।

तीसरे उस ए टी एम संेटर के चौकीदार को जल्दी नही रहती। कहीं बहने की कहीं जाने की किसी घाट लगने की।
दूर चौडा मोड के चौराहे पे खडे ट्ैफिक पुलिस वाले को भी कोई जल्दी नही रहती बहने की पर वह चाहता है कि बहने वाले जल्दी जल्दी बहते रहें और इसके लिये वह सीटी बजाता रहता है हाथ की पतवार चलाता रहता है।

इसके अलावा भूरे कुत्ते को भी जल्दी नही रहती, यानी की हडबडी नही रहती क्यूं की उसे कहीं आफिस, स्कूल या काम से जाना नही होता है। लिहाजा वह इसी बस स्टैंण्ड के आस पास, नही इस घाट के आस पास जमे कूडे को सूंघता भभोडता रहता है और अगर भरे पेट होगा तो आराम से आते जाते राहगीरों को जीभ निकाल के ताकता रहेगा और पूंछ हिलाता रहेगा। और शायद यह सोचता रहेगा कि तुम लोगों से तो अच्छा मै हूं जिसे कोई हडबडी नही है या कि कहीं भी बह के जाना नही है।

हॉ। इन सब के अलावा एक पागल अधबूढा है जिसे जल्दी नही रहती वो अपने कपडों पे तमाम चीथडे लपेटे ध्ूामता रहता है। कभी कभी राहगीरों से कुछ उल जलूल बक झक करता रहता है। और पान वाले से एक आध बीडी या सिगरेट ले के शहनशाहों की तरह पीता रहता है।
कुछ लोग कहते हैं कि यह चौडा मोड का बस स्टैड जहां बना है और यह जो सडक है यह सब किसी जमाने मे इसके बाप दादों की थी जो मुआवजे मे चली गयी। यह करोडो का इकलौता वारिस था। और इसकी यह दशा इसकी प्रेमिका की वजह से हुयी है जो इसका सारा पैसा ले के किसी और प्रेमी के साथ भाग गयी है।
यह पागल प्रेमी अक्सर इस चौडे घाट का इतिहास भी बताता है।
बहर हाल लोग इसे पागल समझते हैं परे मुझे बातचीत मे पागल नही लगा। हालाकि वह भी अपने आपको ‘हिला हुआ स्टेशन’ मानता है।

पान वाला, रेहडी वाला, चौकीदर कुत्ता पागल और ट्रैफिक वाले के अलावा एक बूढी भिखारन भी इस घाट पे देखी जा सकती है या कि पयी जाती है। जो अपने आप को कभी बिहार तो कभी बंगाल तो कभी उडीसा की बताती है। सुना है उसका लडका उसे तीरथ कराने के लिये ले जा रहा था कि यह अपने बेटे से इसी सडक या कहें नदी के इसी घाट पे यानी की चौडा मोड के घाट पे बिछुड गयी थी। कुछ लोगों का मानना है कि इसका बेटा जान बूझ के अपनी इस बूढी मॉ से पिण्ड छुडाने के लिये यहां छोड के चला गया है। तब से यह यहां भीख मॉग के पेट भरती है। और रात जाने कहां सो रहती है। और दिन भर इस चौडा मोड के स्टैण्ड यानी कि घाट से अगले बस स्टैंड यानी की घाट के बीच मे बहती रहती है। जो कभी कभी किसी बस मे भी चढ जाती है और अगले स्टैड से उतर के फिर वापस आ जाती है। और इस तरह से यह बूढी भिखारन दो घाटों के बीच बहती रहती है। और इसे भी कोई जल्दी नही रहती बहने की।
खैर ...
इन सब के अलावा बस स्टैंण्ड के पास खडे आटो वाले इस इंतजार मे रहते हैं कि कोई तो उनकी नाव मे यानी की स्कूटर मे बैठे और वह भी बहना शुरु कर दें।
अब मै भी चौडा मोड के बस स्टैंड पे, नही नही सडक की नदी के किनारे बने इस घाट पे पहुंच गया हूं। बहने के लिये।
मेरे आने के पहले बहुत से बह चुके हैं। और कुछ बहने के इंतजार मे हैं। इनमे से ज्यादा तर जाने पहचाने चेहरे हैं। जो इसी घाट से रोज नदी पे उतरते है। और दूसरे घाट जा लगते हैं। फिर शाम उस घाट से इस घाट फिर लग जाते हैं।
सुबह का वक्त है सभी हडबडी मे है। हडबडी मे तो शाम को भी होते हैं पर तब वे थके थके से होते हैं। पर बह अब भी रहे होते है। एक द्याट से दूसरे घाट के लिये।

इनमे ये जो छाता लिये बालों मे जूडा बनाये छोटे कद की पर सलोनी सी कुछ कुछ मोटी से लडकी है। यह मुझे अच्छी लगती है जितनी देर यह इस घाट पे अपने बस का या कहें नाव का इंतजार करती है। मै इसे कनखियों से देखा करता हू। यह एक साफटवेयर की कम्पनी मे रिसेप्सनिस्ट है। मै जानता हूं। एक दिन इत्तफाकन उसके आफिस पहुंच गया था। इसने मुझे पहचाना था। मै तो खैर पहचानता ही था। पर इसने मुझसे सिर्फ औपचारिक बात की और मैने भी। पर यह जरुर है कि उस दिन के बाद से कभी नजरे मिल जाती हैं तो ऑखों से और होंठों को हल्का जुम्बिस दे के एक दूसरे को पहचानने की बात करते हैं। बस । बस इतना ही है। परिचय। जबकि मै इस परिचय को और आगे बढाना चाहता हूं पर शायद यह कुछ कुछ मोटी सी सांवली सी और मुझे अच्छी लगने वाली लडकी ऐसा नही चाहती।
खैर इसके जाने के पहले दो लडकियॉ या यूं कहें की सहेलियॉं या यूूूं कह सकते हो कि साथ पढने वाली लडकियां। जो कभी जीन्स टाप मे रहती तो कभी सलवार सूट मे आपस मे हसंती खिलखिलाती आती हैं और चली जाती हैं इनकी कालेज की बस आती है जो अपने वक्त से आ जाती है इन्हे ज्यादा देर इंतजार नही करना पडता जब कि मेेरी चाहत रहती है कि इनकी बस मेरी बस से देर से आया करे ताकि इनकी हंसी सुनते हुये इनकी बाते सुनते हुये इनको निहारते हुय इंतजार का वक्त कट जाये।

खैर इन सब के अलावा एक अधेड और उदास से चेहरे वाली औरत भी आयेगी इसी घाट पे इसी स्टैण्ड पे जो शायद किसी अस्पताल मे नर्स है।
ऐसा नही है कि सर्फ स्त्रियॉ या लडकियॉ ही इस स्टैड पे आती हैं बल्कि वह मोटा सा थुलथूल और अधेड भी आयेगा जो कि पहले पान खायेगा फिर गुटका खरीदेगा फिर स्टैड पे खडा हो के उस उदास औरत को मतलब बेमतलब देखेगा। फिर बस आने पे बैठ के फुर्र हो जायेंगे। वह उदास औरत और वह आदमी देानो कई बार एक ही बस से आते जाते दिखें हैं।
हालाकि आजकल ये उदास औरत कम उदास रहती है। शायद उस अधेड के साथ का असर है। हालाकि हमको इस सब से क्या। हमारी इस कविता से उस औरत की जिंदगी से क्या ?
अक्सर इस घाट पे आने वाले लडके लडकियों और औरतों को देखते रहते हैं। औरतें कहीं और देखती रहती हैं। लडकियां अपने मोबाइल से खेलती रहती हैं। कुछ लडके कान मे इयर फोन लगा के गाना सुनते रहते हैं। और कुछ हम जैसे बेवजह इधर उधर देखते रहते हैं और तमाम होडिंग और साइन बोर्ड पढा करते हैं।
खैर अब मेरी बस आ चुकी है। नही नही नाव आ चुकी है।
जिसमे चढ के अपने घाट चलदूंगा।
कल फिर इसी नदी मे बहने के लिये।

मुकेश इलाहाबादी ---------------------


मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 499

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by MUKESH SRIVASTAVA on June 24, 2015 at 3:16pm

bahut bahut aabhar Aditya Kumar jee - sarahnaa ke liye

Comment by Aditya Kumar on June 24, 2015 at 2:51pm

Sundar Prastuti... Badhai sweekar karen aadarneey shri  MUKESH SRIVASTAVA JI

Comment by MUKESH SRIVASTAVA on May 11, 2015 at 1:53pm

  BAHUT BAHUT AABHAAR - ARTICLE PASANDGEE KE LIYE Dr Vijay shanker jee - jee filhaal mai Chaudaa mod ke paas hee rah rahaa hoon -

 

Comment by Dr. Vijai Shanker on May 2, 2015 at 6:20am
चौड़ा मोड़ यानी नोएडा सेक्टर बाइस, पचपन के आसपास , इलाहाबाद छोड़ कहाँ पहुंच गए आप , वैसे यह हाल तो सभी छोटी बड़ी नदियों और उनकें घाटों का है।
जीवन तो एक प्रवाह है, और प्रवाह पर किसका वश या अधिकार होता है , प्रवाह अनुकूल हो तो हम अपने को बहुत काबिल मान लेते हैं, न हो तो भाग्य को दोष देते हैं। प्रवाह में रहना नियति है, जीवन है , प्रवाह थम जाए तो सद्गति है.
एक अलग सी अच्छी प्रस्तुति , बधाई, आदरणीय मुकेश श्रीवास्तव जी , सादर।
Comment by MUKESH SRIVASTAVA on May 1, 2015 at 4:51pm

JEE BAHUT BAHUT AABHAR - AALEKH PASANDGEE KE LIYE Giriraj Bhandari jee


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on May 1, 2015 at 3:54pm

बहुत सुन्दर !! आलेख बहुत रोचक है , आदरणीय मुकेश भाई , दिल्ली बधाई स्वीकार करें ॥

Comment by MUKESH SRIVASTAVA on May 1, 2015 at 2:18pm

AABHAR MITRA AALEKH PASANDGEE KE LIYE BAHEE Krishna Mishra jee

Comment by Krish mishra 'jaan' gorakhpuri on May 1, 2015 at 2:03pm

सडक एक नदी है।
बस स्टैण्ड एक घाट।

सुन्दर आलेख पर बधाई आ० मुकेश इलाहाबादी जी!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"धन्यवाद आ. नादिर खान साहब ,इंसान जब जज़्बाती होता है तो रोता है .. आँख में दरिया क्या कोई क़तरा…"
1 hour ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आ. अमीरुद्दीन अमीर साहब , //वैसे आपने इसी मुशायरे में अपनी ग़ज़ल में अरबी भाषा के लफ़्ज़…"
2 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"अदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी उम्दा गज़ल हुयी बधाई । तीसरे शेर को यूँ किया जा…"
2 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय नीलेश जी अच्छी गज़ल हुयी बधाई स्वीकारें...दूसरे शेर के साथ कनेक्ट नहीं हो पा रहा हूँ (माज़रात…"
2 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय dandpani जी उम्दा गज़ल की बधाई "साँप में औ नेवले में दोस्ताने हो गए" मिसरे में दो…"
2 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीया रिचा जी बहुत शुक्रिया आपका "
2 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"जनाब अमीरुद्दीन साहब बहुत शुक्रिया आपका हमने नोट कर लिया है आरिजिनल कॉपी में सुधार कर लेंगे…"
3 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय लक्ष्मण धामी साहब गज़ल तक आने और हौसला अफ़ज़ाई का शुक्रिया आपने सही कहा नीलेश जी की इस्लाह…"
3 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय नीलेश जी इस्लाह का बहुत  शुक्रिया ... आपने सही कहा गज़ल में अभी और मशक़्क़त की…"
3 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"//मैं अब भी मानता हूँ कि बिगाने सहीह नहीं है..// आपके मानने या न मानने से अरूज़ के क़ाइदे नहीं…"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आ. भाई आशीश जी, हार्दिक धन्यवाद।"
3 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय इस शे'र को ऐसे कह सकते हैं -  ऐब दुर्योधन में और रावण में इक अभिमान था दम्भ के…"
4 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service