For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

अइसन होले नेता

आईल जब चुनाव त नेता जी दिहले दिखाई ।
हाथ जोड़ के सबसे कहले वोट हमरे के दिहजा भाई।। दिन मे हाथ जोड़ पाव पड़ सबसे वोट मंगीहे भाई। राती मे घरे घरे नोट , दारु के गंगा दिहे बहाई।।
करिहे वादा कि बिजली हैन्डपम्प घरे घरे देब लगवाई।
सड़क नाली स्कूल तलाब नहर सब कुछ देब बनवाई।।
आप सब मिल के हमके सांसद दिही बनाई।
सब कर मनरेगा मे काम देब लगवाई।।
अगर बन जाइब मंत्री त अफसर लोग के दिमाग देब ठिक कराई।
आप सब के अन्नपुर्णा योजना के कार्ड घरे घरे देब पहुचाई।।
दारु गुन्डागर्दी के बल पर नेता जी सांसद भइले भाई। आ नोट के बल पर मंत्रीओ बनगइले भाई।।
पहुचते दिल्ली कइल सब वादा गइले भुलाई।
आ गद्दी पर बइठके खुबे खातरन मलाई।।
आज कल के नेतन के इहे बा कहानी।
"जी" के दुख हम आप से केतना बताई।।

Views: 367

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Rash Bihari Ravi on May 15, 2010 at 11:32am
jeta aisan jiw ha jawan tabe dikhai di jab okar jarurat hoi ,
Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 18, 2010 at 3:29pm
bus bahut badhiya rachna ba,yeh me kawno sak naikhe,aaj ke kuchh netawo ka yah katchha chittha prstut kiya hai apne.thanks to share .
Comment by Admin on April 18, 2010 at 3:16pm
Bahut badhiya hai, Aaj kal Rajnetawoo key liyey aam logo key man mey aisaa hi vichaar hai, jo aapkey kavita mey saaf dikh raha hai,

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 18, 2010 at 1:30pm
Bahut badhiya kavita ba, aa aajkal key rajniti key sajiv chitran kail gail ba, bahut badhiya rachna,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-87 (विषय: मार्गदर्शन)
"                        बाई…"
2 minutes ago
vibha rani shrivastava replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-87 (विषय: मार्गदर्शन)
"गद्य में काव्य की अनुभूति हो रही है..."
7 minutes ago
vibha rani shrivastava replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-87 (विषय: मार्गदर्शन)
"बन्धु का तो पता नहीं... मेरी कोशिश"
9 minutes ago
vibha rani shrivastava replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-87 (विषय: मार्गदर्शन)
"'मार्गदर्शन' विभा रानी श्रीवास्तव "आप क्या सोच रहे हैं पिताजी?"पिता को बड़े…"
10 minutes ago
Chetan Prakash posted blog posts
28 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी posted blog posts
28 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आदरणीय लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब, अच्छी ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद क़ुबूल फ़रमाएं। 'एक…"
8 hours ago
Chetan Prakash commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आदाब, भाई, लक्ष्मण लिंह धामी मुसाफिर साहब, बह्र रमल मुसद्दस सालिम (2122 2122 2122 ) में कहीं अचछी…"
9 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

एक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

२१२२/२१२२/२१२*जो नदी की  आस  लेकर जी रहे हैंएक अनबुझ प्यास लेकर जी रहे हैं।१।*है बहुत धोखा सभी की…See More
12 hours ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-87 (विषय: मार्गदर्शन)
"लघुकथा गोष्ठी का आज अंतिम दिन उम्मीदों से पूर्ण है।"
15 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Saurabh Pandey's blog post खत तुम्हारे नाम का.. लिफाफा बेपता रहा // सौरभ
"आदरणीय चेतनप्रकाशजी, आपका रचना पर स्वागत है.  आपके बिंदु विचारणीय हैं.  आप भी तनिक और…"
yesterday
नाथ सोनांचली commented on नाथ सोनांचली's blog post मदिरा सवैया आधारित दो छन्द
"आद0 सौरभ पाण्डेय जी सादर प्रणाम रचना पर आपकी उपस्थिति किसी पुरस्कार से कम नहीं। हृदयतल से आभार…"
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service