For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सनेहिया लगावल बहुत बात नइखे................

ee gaana hum 2 saal pahile sunle rahni aur abhi singer ke naam humra yaad naikhe....hamar ego aadat ha ki jaun gaana humra thik lag jala wo ek baar sunla me hi humra hamesha khatir yaad ho jala aure vishesh parishthiti me yaad aawt rahela....jaise aaj ee gaana yaad aail aur hum ehja post kar rahal bani......
jab bhi singer ke naam yaad aayi hum likh deb......tab tak raua log ee padhi aur kuch aapan bahumulya samay nikal kar kuch comments kar deb sabhe......
abhi hum e naikhi batawat ki kahe hum aisan gaana likh rahal bani lekin humra touch me rahi sabhe bahtu jald hi pata chal jayi raua sab ke......
dhanyabaad.........PREETAM TIWARY


सनेहिया लगावल बहुत बात नइखे
नजरिया चोरावल बहुत बात होला
केहू के मुआवल बहुत बात नइखे
मुआ के जीआवल बहुत बात होला

समझी ना बनी ताहार असली इरादा
रूपवा के जाल में धरा गइनी दादा
केहू के रोआवल बहुत बात नइखे
रोवा के हसावल बहुत बात होला
सनेहिया लगावल बहुत बात नइखे
नजरिया चोरावल बहुत बात होला

लायी के सनेह तू ता चल गेलु जब से
सुरुज के घाम हम ता देखनी ना तबसे
दिल दह्कावाल बहुत बात नइखे
जीयरा जुरावल बहुत बात होला
सनेहिया लगावल बहुत बात नइखे
नजरिया चोरावल बहुत बात होला

Views: 3363

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Mahesh Jee on April 8, 2010 at 12:51am
Hamni ke t khol ke rkh deni ja kitab bhra, lekin aap chhupavt bani kvno raj ghra.aap ke post kel e gana bhute aacha lagl h (थ थ थेँकू)
Comment by ISHIKA MISHRA on April 8, 2010 at 12:28am
bahut acchhe.........
सनेहिया लगावल बहुत बात नइखे
नजरिया चोरावल बहुत बात होला
केहू के मुआवल बहुत बात नइखे
मुआ के जीआवल बहुत बात होला
waise baat kya hai jo itna dard chalak raha hai...
anyway's song acchha hai.............
Comment by Admin on April 7, 2010 at 1:09pm
बहुत ही बढ़िया, प्रीतम जी रहते रहते है , और एक ही बार गर्दा उड़ा देते है , अच्छी रचना है, लिखते रहिये, अगले रचना का इंतजार रहेगा .

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 7, 2010 at 7:16am
गीत बड़ा सुंदर लिखलS ए प्रीतम बाबू,
पर राज छुपावल बहुत बात ना होला,
अब जल्दी से खोल द दिल के राज,
इंतजार मे छछनावल बहुत बात होला,
Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 7, 2010 at 12:02am
preetam bhai jee sabse pahile ta raua ke bata dihi ki e gana bhojpuri star PAWAN SINGH ke gawal ha.aur sayad album ke naam PAWA KE SACHHAI HA.
gana ta bahut badhiay lagela lekin sabse bada baat e ba ki eija e gaana kahe likhle hai ,u raaz tani jaldi kholab.
ratnesh raman pathak

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Admin posted a discussion

"ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-148

आदरणीय साहित्य प्रेमियो, जैसाकि आप सभी को ज्ञात ही है, महा-उत्सव आयोजन दरअसल रचनाकारों, विशेषकर…See More
9 hours ago
PHOOL SINGH posted a blog post

महाराणा प्रताप

महाराणा प्रताप चितौड़ भूमि के हर कण में बसता जन जन की जो वाणी थीवीर अनोखा महाराणा थाशूरवीरता जिसकी…See More
12 hours ago
जगदानन्द झा 'मनु' commented on जगदानन्द झा 'मनु''s blog post मैं कौन हूँ
"हार्दिक धन्यवाद भाई आदरणीय लक्ष्मण धामी जी और भाई आदरणीय Samar Kabeer जी, आप का मार्गदर्शन इसी तरह…"
16 hours ago
जगदानन्द झा 'मनु' posted a blog post

मैं कौन हूँ

मैं कौन हूँअब तक मैं अपना  पहचान ही नहीं पा सका भीड़ में दबा कुचला व्यथित मानवदड़बे में बंद…See More
yesterday
Zaif commented on Zaif's blog post ग़ज़ल - थामती नहीं हैं पलकें अश्कों का उबाल तक (ज़ैफ़)
"आ. बृजेश जी, बहुत आभार आपका।"
Sunday
Usha Awasthi posted a blog post

मन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?

उषा अवस्थीमन कैसे-कैसे घरौंदे बनाता है?वे घर ,जो दिखते नहींमिलते हैं धूल में, टिकते नहींपर "मैं"…See More
Sunday
Rachna Bhatia posted a blog post

सदा - क्यों नहीं देते

221--1221--1221--1221आँखों में भरे अश्क गिरा क्यों नहीं देतेहै दर्द अगर सबको बता क्यों नहीं देते2है…See More
Sunday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर् आपके कहे अनुसार ऊला बदल लेती हूँ। ईश्वर आपका साया हम पर…"
Sunday
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा पंचक. . . . .

दोहा पंचक. . . .साथ चलेंगी नेकियाँ, छूटेगा जब हाथ । बन्दे तेरे कर्म बस , होंगे   तेरे  साथ ।।मिथ्या…See More
Saturday
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .
"जी सृजन के भावों को मान देने और त्रुटि इंगित करने का दिल से आभार । सहमत एवं संशोधित"
Saturday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"'सच्चाई अभी ज़िन्दा है जो मुल्क़ में यारो इंसाफ़ को फ़िर लोग सदा क्यों नहीं देते' ऊला यूँ…"
Saturday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर्, "बिना डर" डीलीट होने से रह गया।क्षमा चाहती…"
Saturday

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service