For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी'
  • Male
Share on Facebook MySpace

राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी''s Friends

  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • MANISHI SINGH
  • arunendra mishra
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • Dr.Rajendra Tela
  • अरुण कान्त शुक्ला
  • Ashok Kumar Raktale
  • RAJEEV KUMAR JHA
  • Dr. Shashibhushan
  • मनोज कुमार सिंह 'मयंक'
  • PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA
  • JAWAHAR LAL SINGH
  • MAHIMA SHREE
  • minu jha
  • Santosh Kumar Singh
 

राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी''s Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Mumbai
Native Place
Allahabaad
Profession
Engineer
About me
राख सा दिखता हूँ, कभी आग बन जाऊंगा. टूटा हुआ सितार हूँ, कभी साज बन जाऊंगा. कलम टूटने के बाद स्याही बिखर जाती है, चुपचाप लिखता हूँ आज, कभी आवाज बन जाऊंगा.

राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी''s Photos

  • Add Photos
  • View All

राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी''s Blog

माँ का प्यार (लघु-कथा)

माँ मुझे बचपन में मेरी उम्र के हिसाब से कुछ ज्यादा ही रोटियां दिया करती थीं. इंटरवल में सारे बच्चे जल्दी जल्दी खाना ख़त्म करके खेलने चले जाते थे. और मै अपना खाना ख़त्म नहीं कर पता था. तो डब्बे में हमेशा ही कुछ न कुछ बच जाता था, और मुझे रोज़ डांट पड़ती थी. मेरी बहन भी घर आ के शिकायत करती थी कि उसे छोड़ के इंटरवल में मै खेलने भाग जाता हूँ.

.

एक दिन मेरी बहन मेरे साथ स्कूल नहीं गई. मै ख़ुशी ख़ुशी घर आया और माँ को बताया की मैंने आज पूरा खाना खाया है. माँ को यकीन नहीं हुआ, उन्होंने…

Continue

Posted on April 20, 2012 at 4:00pm — 20 Comments

मै भी लड़ना चाहती हूँ!

मै भी लड़ना चाहती हूँ! मुझे लड़ने दो!

हार का मै स्वाद चखना चाहती हूँ.

जीत का अभ्यास करना चाहती हूँ.

.

प्रेयसी बन बन के हो गई हूँ बोर!

मै नए किरदार बनना चाहती हूँ.

मै भी जिम्मेदार बनना चाहती हूँ.

.

सीता-गीता मेरे अब नाम मत रखो!

धनुष का मै तीर बनाना चाहती हूँ,

गरल पीकर रूद्र बनना चाहती हूँ.

.

अपने पास ही रखो हमदर्दी अपनी!

खड़े होकर सफ़र करना चाहती हूँ,

'बसो' का मै ड्राइवर बनना चाहती हूँ.

मै…

Continue

Posted on April 12, 2012 at 11:03am — 10 Comments

हम पंछी एक डाल के

हम पंछी एक डाल के

Disclaimer:यह कहानी किसी भी धर्म या जाती को उंचा या नीचा दिखाने के लिए नहीं लिखी है, यह बस विषम परिस्थितियों में मानवी भूलों एवं संदेहों को उजागर करने के उद्देश्य से लिखा है. धन्यवाद.…

Continue

Posted on April 6, 2012 at 10:00am — 19 Comments

सीधा लड़का

मेरे बचपन के एक मित्र के बड़े भैया पढ़ने में बड़े तेज़ थे, और पूरे मोहल्ले में अपनी आज्ञाकारिता और गंभीरता के लिए प्रसिद्ध थे. भैया हम लोगो से करीब 5 साल बड़े थे तो हमारे लिए उनका व्यक्तित्व एक मिसाल था, और जब भी हमारी बदमाशियो के कारण खिचाई होती थी तो उनका उदहारण सामने जरूर लाया जाता था.  सभी माएं अपने बच्चो से कहती थी की कितना 'सीधा लड़का' है. माँ बाप की हर बात मानता है. कभी उसे भी पिक्चर जाते हुए देखा है?

मेधावी तो थे ही, एक बार में ही रूरकी विश्वविद्यालय में इन्जिनेअरिंग में…

Continue

Posted on April 2, 2012 at 12:30pm — 18 Comments

Comment Wall (10 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 3:05pm on December 7, 2012, Admin said…

अंतिम स्मार पत्र 
प्रिय सदस्य, अंतिम रूप से स्मारित करते हुए कहना है कि पूर्व में स्मारित करने के पश्चात भी आप का पत्राचार का पता एवं नाम (चेक / ड्राफ्ट निर्गत करने हेतु ) अभी तक अप्राप्त है, जिसके कारण प्रमाण पत्र एवं पुरस्कार राशि नहीं भेजा जा सका है, कृपया दिनांक 15 दिसंबर -12 तक उक्त विवरण admin@openbooksonline.com पर अवश्य उपलब्ध कराये जिससे अग्रेतर कार्रवाही कि जा सके | ध्यान रहे मेल उसी इ-मेल आई डी से भेजे जिस आई डी से आपने अपना ओ बी ओ प्रोफाइल बनाया है | यदि उक्त तिथि तक आपका प्रतिउत्तर अप्राप्त रहता है तो पुरस्कार राशि व प्रमाण पत्र भेजना संभव नहीं होगा और भविष्य में आपका दावा अमान्य होगा ।
सादर 
एडमिन 
ओपन बुक्स ऑनलाइन डाट कॉम

At 12:44pm on October 3, 2012, Admin said…

प्रिय सदस्य / सदस्या

आप का पत्राचार का पता एवं नाम (चेक / ड्राफ्ट निर्गत करने हेतु ) अभी तक अप्राप्त है, जिसके कारण प्रमाण पत्र एवं पुरस्कार राशि नहीं भेजे जा सके है, कृपया शीघ्र उक्त विवरण admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध कराये जिससे अग्रेतर कार्रवाही कि जा सके | ध्यान रहे मेल उसी इ-मेल आई डी से भेजे जिस आई डी से आपने अपना ओ बी ओ प्रोफाइल बनाया है |
सादर 
एडमिन 
ओपन बुक्स ऑनलाइन डाट कॉम 
At 1:18pm on April 2, 2012, अरुण कान्त शुक्ला said…

राकेश भाई विधा की इस धरती पर नया हूँ , प्रेम बनाए रखियेगा .

At 12:46pm on April 1, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

स्नेही  , श्री राकेश  जी.

शुभाशीष.
ये सब आपकी मेहनत का प्रतिफल है. आप मेरा नाम रोशन कर रहे हैं.
शांति मिल रही है. 
धन्यवाद.  स्नेह बनाये रखियेगा.
At 7:03am on March 17, 2012, Mukesh Kumar Saxena said…
Rakesh ji meri kavita padne ke liye dhanybad
At 6:10am on March 15, 2012, JAWAHAR LAL SINGH said…

आदरणीय राकेश जी, आप सब लोग यहाँ आकार एक से एक जलवा बिखेर रहे हैं! बधाई!

At 3:33pm on March 14, 2012, MAHIMA SHREE said…
राकेश जी ,
नए उपनाम की बधाई .....अच्छी सोच है....और आपके नाम के साथ जच भी रही है
At 11:12am on March 2, 2012, MAHIMA SHREE said…
राकेश जी,
नमस्कार...आभारी हू..
At 4:05pm on March 1, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

aaiye milke nayee dunia banayen, dhanyvaad

At 8:20am on March 1, 2012, Admin said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Ashok Kumar Raktale's blog post गाड़ी निकल रही है
"आदरणीय अशोक रक्ताले जी आदाब, मुझे आपकी यह रचना गीत से ज़ियादा हिन्दी की ख़ूबसूरत नज़्म लगी है, बधाई…"
2 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Ashok Kumar Raktale's blog post ‘गुनगुन करता गीत नया है’
"आदरणीय अशोक रक्ताले जी आदाब, उदाहरणीय गीत की रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें।"
2 hours ago
Samar kabeer commented on Chetan Prakash's blog post ग़ज़ल : बहुत वो देर लगी आग दिल लगाने में
"बाक़ी टिप्पणियाँ कहाँ गईं भाई?"
2 hours ago
Samar kabeer commented on Chetan Prakash's blog post ग़ज़ल : बहुत वो देर लगी आग दिल लगाने में
"'उन्होंने खेल  जो  खेला उसे मिटाने में '---ये मिसरा अब बह्र में हो गया है…"
4 hours ago
Chetan Prakash commented on Chetan Prakash's blog post ग़ज़ल : बहुत वो देर लगी आग दिल लगाने में
"अफसोस, मतले के सानी में 'उसे' दो बार टाइप हो गया है, कृपया एक 'उसे' रद्द मान…"
4 hours ago
AMAN SINHA posted a blog post

ज़िंदा हूँ अब तक मरा नहीं

ज़िंदा हूँ अब तक मरा नहीं, चिता पर अब तक चढ़ा नहींसाँसे जब तक मेरी चलती है, तब तक जड़ मैं हुआ नहींजो…See More
6 hours ago
Ashok Kumar Raktale posted a blog post

गाड़ी निकल रही है

गीत*कच्चे रास्तों गडारों से,गाड़ी निकल रही है।*जा रहे हैं किधर कोई,बूझता ही नहीं।फूट रहे हैं सर…See More
6 hours ago
Chetan Prakash posted a blog post

ग़ज़ल : बहुत वो देर लगी आग दिल लगाने में

1212     1122     1212     22 / 122 बहुत  सी देर लगी आग दिल  लगाने  में उन्होंने खेल जो खेला उसे…See More
6 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post पाँच दोहे ......
"आदरणीय समर कबीर जी आदाब, सृजन आपकी स्नेहिल प्रशंसा का दिल से आभारी है सर ।अवश्य"
6 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post श्राद्ध पक्ष के कुछ दोहे. . . .
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभारी है सर"
6 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post श्राद्ध पक्ष के कुछ दोहे. . . .
"आदरणीय समर कबीर जी आदाब, सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार आदरणीय जी"
6 hours ago
Sushil Sarna commented on Ashok Kumar Raktale's blog post ‘गुनगुन करता गीत नया है’
"वाह अनुपम अभिव्यक्ति आदरणीय अशोक रक्ताले जी । हार्दिक बधाई सर"
6 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service