For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

एक राजस्थानी मुसल्सल ग़ज़ल -यादड़ल्याँ रा घोड़ां ने थे पीव लगावो एड़ |

एक राजस्थानी मुसल्सल ग़ज़ल 
***
यादड़ल्याँ रा घोड़ां ने थे पीव लगावो एड़ | 
सुपणे मांयां आय पिया जी छोड़ो म्हासूँ छेड़ | १| 
***
इंया तो म्हें गेली प्रीतड़ली में थांरी भोत 
चालूँ थांरे लारे लारे ज्यूँ सीधी सी भेड़ | २| 
***
नींदड़ली रो काम उचटणों हो ग्यो नित रो खेल 
जद जद दरवाजो रात्यां ने देवे पून भचेड़ |३ | 
***
एक महीनो के'र गया अब साल हुयग्या तीन 
गाँव उडीके,बेगा आओ , सगळा काम निवेड़ | ४ | 
***
हूक उठे जद कागलिया नित बैठे आ'र मुँडेर 
दिन में सौ सौ बारी जाऊँ निरखूँ साजण मेड़ | ५ | 
***
धान घणो चढ़ ग्यो खेताँ में रीशाँ बळता लोग 
देख धणी बिन सूनी खेती देवे ऊँट घुसेड़ | ६| 
***
कित्ता दिन धीरज रा पौधा राखूँ रोज सँभाळ 
आँधी हिवड़े में उट्ठे जद उखड़े सगळा पेड़ |७ | 
***
ई चिन्ता में बळती रेऊं कांईं हो ग्यी बात 
सौतण कोई घाल रई ना हिवड़ा माँय तरेड़ | ८ | 
***
आया क्यूँ नी जाण खबर थे समझी कोनी बात 
जेठ घरां जद पड़ी पुलिस री पिछले हफ़्ते रेड़ | ९ | 
***
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' बीकानेरी

भावार्थ 
=====
(१) यादों के घोड़ों को मेरे प्रियतम एड़ लगाइये और सपने में आकर मुझ से छेड़ मत कीजिये | 
(२) वैसे तो मैं आपके प्यार में बहुत पागल हूँ और एक सीधी भेड़ की तरह आपके पीछे पीछे चलती हूँ | 
(३)नींद उचटना तो रोज का खेल हो गया है | रात को जब जब हवा दरवाजे पर दस्तक देती है | 
(४) एक महीने का कह कर गए थे और तीन साल हो गए हैं ,पूरा गाँव आपकी प्रतीक्षा कर रहा है जल्दी आइये सारा काम समाप्त कर के | 
(५) कौआ जब मुँडेर पर आकर बैठता है तो हूक सी उठती है ,दिन में सौ सौ बार मेड़ पर जाकर देखती हूँ | 
(६) खेत में धान खूब चढ़ा हुआ है और लोग जलन के मारे और बिना मालिक के सूने खेत देखकर ऊंट घुसेड़ देते हैं | 
(७ ) धीरज के पौधों को अभी तक सम्भाल रखा है लेकिन ह्रदय में आंधी उठने पर ये पेड़ उखड़ने की संभावना है | 
(८) इस चिंता में जलती रहती हूँ कि क्या बात है आप आते क्यों नहीं ,कहीं ऐसा तो नहीं कोई सौतन हमारे दिलों के बीच दरार डाल रही हो | 
(९) एक बात समझ नहीं आई कि ये खबर जान कर भी आप क्यों नहीं आये जब जेठ जी के घर पुलिस का पिछले हफ्ते छापा पड़ा था |

Views: 165

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

सतविन्द्र कुमार राणा replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"क़ायदा मतलब का "देख रे, भले ही कितनी पढ़ी-लिखी हो, प्राइबेट स्कूल में नौकरी करन तो बहू भेजी न…"
6 minutes ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( ये नया द्रोहकाल है बाबा...)
"आदरणीय अमीरुद्दीन ख़ान साहब. आदाब. ग़ज़ल पर उपस्थिती तथा हौसला अफजाई के लिए आपका तहे-दिल से शुक्रिया…"
10 minutes ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
" बढिया लघुकथा के लिए हार्दिक बधाई आ. Sheikh Sahjad Usmani जी"
37 minutes ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"जबरदस्त कटाक्ष करती लघुकथा के लिए हार्दिक बधाई आ. Manan Kumar Singh जी "
41 minutes ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
" आ. Veena Sethi जी , प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई। आपकी कथा विषय को कैसे परिभषित कर रही हैं?…"
52 minutes ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"गागर में सागर सी आपकी लघुकथा के लिए हार्दिक बधाई आ. Namita Sunder जी "
58 minutes ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"ओह ! यह भी एक रास्ता हैं पता नही था।उम्दा कथा के लिए हार्दिक बधाई आ Tej Veer Singh जी"
1 hour ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
" उम्दा कथा आ. गणेश बागी जी , आपने एक पुराने समय को कथा द्वारा जीवित कर दिया। एक समय था जब…"
1 hour ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
" कथा पर अमूल्य समय देने के लिए आ. Er Ganesh Jee Bagi जी हार्दिक आभार"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"हार्दिक आभार आदरणीय गणेश जी बागी जी ।लघुकथा पर आपकी उपस्थिति मेरे लिये गर्व और प्रोत्साहन की बात…"
1 hour ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"कथा पर अमूल्य समय देने के लिए आ. Manan Kumar Singh जी आपका हार्दिक आभार "
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"हार्दिक आभार आदरणीय मनन कुमार सिंह जी ।"
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service