For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...

ओपन बुक्स ऑनलाइन के सभी सदस्यों को प्रणाम, बहुत दिनों से मेरे मन मे एक विचार आ रहा था कि एक ऐसा फोरम भी होना चाहिये जिसमे हम लोग अपने सदस्यों की ख़ुशी और गम को नजदीक से महसूस कर सके, इसी बात को ध्यान मे रखकर यह फोरम प्रारंभ किया जा रहा है, जिसमे सदस्य गण एक दूसरे के सुख और दुःख की बातो को यहाँ लिख सकते है और एक दूसरे के सुख दुःख मे शामिल हो सकते है |

धन्यवाद सहित
आप सब का अपना
ADMIN
OBO

Views: 71394

Reply to This

Replies to This Discussion

शायद कल थी ठोकी देशी, तभी बहकते फिरें गणेशी
मेरे परदादा के भाई,  इनको लाज तनिक नहि आई   

तुम सबके पोतों के पोते - काहे इंतना व्याकुल होते
अब जो चुप ना बैठे भाऊ, चाचा से कर दूँगा "ताऊ"  

जय हो, जय हो गांजा घोलें । ’परदादा के भाई’ बोलें ॥
परम पूज्य हैं सदा प्रभाकर । मगन गनेसी बबुआ पाकर ॥

’तुम’ का मतलब समझ न आया । पर ’पोते का पोता’ पाया ॥
चाहे  कोई  रिश्ता  मानो ।  नेह  हृदय  में  बहता  जानो ॥

जो कहना हो पहले तोलो, तोल मोल कर ही कुछ बोलो  
जाने दिल्ली और दोआबा, "बेबी" को भी कहते "बाबा" 

भई मिरासी सुत जो होता, रोता भी तो सुर में रोता
जो छंदों की काया माया, ओबीओ से है सब पाया,

ऐसा  काहे  कहें  गुसाईं । गुड़ही नहीं, भले ही झाईं ॥
लेकिन जीम 'जबेली' आली । योगी खाली करते थाली॥
हा हा हा हा...

भोजपुरिन की बात निराली। खुद तो खाते भर भर थाली
योगी मांगे जभे जलेबी ! बागी सौरभ भएँ फरेबी !

खाने पर क्या साहब ताना । हमने देखे हैं भट नाना ॥
अधध पसेरी चखना करते । तिसपर हाँड़ी चावल धरते ॥
बल्टी बुनिया दही कनस्तर । कढ़ी-फुलौरे छइँटी भर-भर ॥
गिने जलेबी या रसगुल्ला । समझो पाहुन हैं दुमदुल्ला ||
:-))

मैं भी पहुँची पार्टी में लेट, ओ बी ओ का खुला था गेट  

कर रही थी बकरी एक जुगाली, बजा रहे गणेश थे ताली

थी बात बड़ी नाइंसाफी वाली, सभी रखी थीं खाली थाली   

एक और बात बेतुकी हुई, न ही कोई जबेली बची थी मुई 

खाकर चले गये सब यार, तब योगी पहुँचे टपकाते लार

टेबिल के नीचे देख रसगुल्ले, हो गई उनकी वल्ले-वल्ले

एक उठाकर खाली प्लेट, सब रसगुल्ले उसमे लिये समेट 

मैं भी लपकी पर स्लो था नेट, नहीं कर सके वह मेरा वेट

योगी भाई ने छुपकर खाया, पर गणेश को नहीं बताया l

:):)

शन्नोजी आशीष दें, हृदय कहे आभार
बनी रहे शुभकामना, औ’ आपस में प्यार

सादर आभार आदरणीया शन्नोजी..

सौरभ जी के जन्मदिवस की खुशी में मुँह भी मीठा करती चलूँ....मुफ्त की जलेबियाँ रोज तो मिलती नहीं :):):):) 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"आ. भाई शेख शहजाद जी, अभिवादन। अच्छी लघुकथा हुई है। हार्दिक बधाई।"
26 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"तब इसे थोड़ी दूसरी तरह अथवा अधिक स्पष्टता से कहें क्योंकि सफ़ेद चीज़ों में सिर्फ़ ड्रग्स ही नहीं आते…"
56 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"आदाब। बहुत-बहुत धन्यवाद उपस्थिति और प्रतिक्रिया हेतु।  सफ़ेद चीज़' विभिन्न सांचों/आकारों…"
1 hour ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"रचना पटल पर आप दोनों की उपस्थिति व प्रोत्साहन हेतु शुक्रिया आदरणीय तेजवीर सिंह जी और आदरणीया…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"हार्दिक बधाई आदरणीय शेख़ शहज़ाद जी।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"हार्दिक आभार आदरणीय प्रतिभा जी।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"हार्दिक आभार आदरणीय महेन्द्र कुमार जी।"
1 hour ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"समाज मे पनप रही असुरक्षा की भावना के चलते सामान्य मानवीय भावनाएँ भी शक के दायरे में आ जाती हैं कभी…"
1 hour ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"हार्दिक बधाई इस लघुकथा के लिए आदरणीय तेजवीर जी।विस्तार को लेकर लघुकथाकार मित्रों ने जो कहा है मैं…"
2 hours ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"//"पार्क में‌ 'सफ़ेद‌ चीज़' किसी से नहीं लेना चाहिए। पता नहीं…"
2 hours ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"अच्छी लघुकथा है आदरणीय तेजवीर सिंह जी। अनावश्यक विस्तार के सम्बन्ध में आ. शेख़ शहज़ाद उस्मानी जी से…"
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-107 (विषय: इंसानियत)
"टुकड़े (लघुकथा): पार्क में लकवा पीड़ित पत्नी के साथ वह शिक्षक एक बैंच की तरफ़ पहुंचा ही था कि उसने…"
3 hours ago

© 2024   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service