For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

पीछे हट जाने का डर है।

घोर तिमिर है, 
कठिन डगर है, 
आगे का कुछ नहीं सूझता,
पीछे हट जाने का डर है।

मन में इच्छाएं बलशाली 
शोणित में भी वेग प्रबल है,
रोज लड़ रहा हूँ जीवनसे
टूट रहा अब क्यों संबल है

मैंने अपनी राह चुनी है 
दुर्गम, कठिन कंटकों वाली 
जो ऐसी मंजिल तक पहुंचे 
जो लगे मुझे कुछ गौरवशाली

धूल धूसरित रेगिस्तानी हवा के छोंकें 
देते धकेल , आगे बढ़ने से रोकें 
सूखा कंठ, प्राण हैं अटके 
कब पहुंचूंगा निकट भला पनघट के

आगे बढ़ना भी दुष्कर है 
मन में मेरे अगर मगर है 
आगे का कुछ नहीं सूझता,
पीछे हट जाने का डर है।

किन्तु गीता में लिखा हुआ है 
तू फल की चिंता मत करना 
अपना कर्म किये जा राही 
निर्णय तो मुझको है करना

सूरज भी निर्बाध गति से चलता है 
निश्चित ही ये घोर तिमिर छटना है 
और साथ ही छट जाएगी घोर निराशा 
लक्ष्य हांसिल करने की सीढ़ी है आशा

मन में आशा 
और अधरों की प्यास 
इतना निश्चित है 
ले जाएगी मुझे लक्ष्य के पास

घोर तिमिर है, 
कठिन डगर है, 
पीछे मुड़कर नहीं देखना 
पीछे हट जाने का डर है।

"मौलिक व अप्रकाशित"

शब्दकार :  Aditya Kumar 

Views: 555

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on August 27, 2013 at 1:12am

सुन्दर प्रयास !

शुभ-शुभ

Comment by Aditya Kumar on August 26, 2013 at 11:50am

आदरणीय Dr.Prachi Singh जी आपका हार्दिक धन्यवाद ! यहाँ वास्तव में बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है ! 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on August 24, 2013 at 1:51pm

आ० आदित्य कुमार जी 

बहुत सुन्दर कथ्य प्रस्तुत किया है...

मन में निश्चय करके एक मंजिल तय करना.. फिर राह में आने वाली रुकावटों से घबरा जाना और गीता का उपदेश याद रख कर्म मार्ग पर चलते जाना... घोर निराशा में , आशा की किरणों के प्रस्फुटित होने की आस रखना...

बहुत महसूस करके लिखी गयी मर्म स्पर्शी अभिव्यक्ति के लिए हार्दिक बधाई 

अंतर्गेयता व तुक मिलान सब खूबसूरत है.... प्रयासरत रहिये, सह रचनाकारों की अभिव्यक्तियों को भी तन्मयता से पढ़िए... काव्य के आवश्यक तत्व रचना में स्वतः ही समाहित होने लगेंगे 

शुभेच्छाएँ 

Comment by Aditya Kumar on August 23, 2013 at 6:30pm

आदरणीय अग्रज Sheel Kumar  जी उत्साहवर्धन हेतु आपका  सादर धन्यवाद्।  कृपया मार्गदर्शन देते रहिये मुझे आपका आभारी रहूँगा 

Comment by Aditya Kumar on August 23, 2013 at 6:27pm

आदरणीय  विजय मिश्र जी आपका सादर धन्यवाद् 

Comment by Aditya Kumar on August 23, 2013 at 6:26pm

आदरणीय  Vinita Shukla जी आपका सादर धन्यवाद् 

Comment by Vinita Shukla on August 23, 2013 at 1:46pm

निराशा में आगे बढने को प्रेरित करतीं, भावयुक्त पंक्तियाँ. बधाई आदित्य जी.

Comment by विजय मिश्र on August 23, 2013 at 12:56pm
सुंदर आशय के साथ रची गयी एक क्लिष्ट तार्किक रचना , बधाई आदित्यजी .
Comment by Sheel Kumar on August 22, 2013 at 6:59pm

जिस तरह से आप लिख रहें हैं , शीघ्र ही परिमार्जित हो कर और भी परिष्कृत होंगे , यह सनातन नियम है 

लिखते रहिये , बडों से स्नेह व मार्ग दर्शन लीजिये , आप मे क्षमता है ........
Comment by Aditya Kumar on August 22, 2013 at 5:39pm

आदरणीय  Kewal Prasad जी , आपका हार्दिक आभार , यही चाहूँगा के आप समय समय पर मेरे प्रयासों को अपने सुझावों से सार्थक दिशा देते रहेंगे।  परन्तु मेरे लिए त्रुटियों को स्पष्ठ रूप से जानना आवश्यक है तो आपका आभारी रहूँगा यदि आप त्रुटियों को स्पष्ठ कर दें तो।  

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on JAWAHAR LAL SINGH's blog post मुखर्जी बाबू का विजयदसमी
"जनाब जवाहर लाल सिंह जी आदाब , सुंदर प्रस्तुति हेतु बधाई स्वीकार करें I "
4 minutes ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post वादे पर चन्द दोहे .......
"जनाब सुशील सरना जी आदाब , अच्छे दोहे लिखे आपने , इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें I  एक…"
6 minutes ago
Samar kabeer commented on Anjuman Mansury 'Arzoo''s blog post ग़ज़ल - फिर ख़ुद को अपने ही अंदर दफ़्न किया
"मुहतरमा अंजुमन `आरज़ू ` जी आदाब , ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है बधाई स्वीकार करें I  सीपी-आँखों में…"
14 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post हे राम (लघुकथा)-
"हार्दिक बधाई आदरणीय Rakshita Singh जी।"
42 minutes ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post अपने दोहे .......
"जनाब सुशील सरना जी आदाब , दोहों का प्रयास अच्छा है बधाई स्वीकार करें I  `पत्थर को पूजे मगर,…"
47 minutes ago
Anjuman Mansury 'Arzoo' posted a blog post

ग़ज़ल - इक अधूरी 'आरज़ू' को उम्र भर रहने दिया

वज़्न -2122 2122 2122 212ख़ुद को उनकी बेरुख़ी से बे- ख़बर रहने दिया उम्र भर दिल में उन्हीं का…See More
6 hours ago
Anjuman Mansury 'Arzoo' commented on Anjuman Mansury 'Arzoo''s blog post ग़ज़ल - मिश्कात अपने दिल को बनाने चली हूँ मैं
"आदरणीय बृजेश कुमार ब्रज जी आदाब, ,ग़ज़ल तक पहुंचने और हौसला अफ़जाई करने के लिए तहे दिल से…"
7 hours ago
Anjuman Mansury 'Arzoo' commented on Anjuman Mansury 'Arzoo''s blog post ग़ज़ल -सूनी सूनी चश्म की फिर सीपियाँ रह जाएँगी
"आदरणीय बृजेश कुमार ब्रज जी आदाब, ,ग़ज़ल तक पहुंचने और हौसला अफ़जाई करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया"
7 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

वादे पर चन्द दोहे .......

मीठे वादे दे रही, जनता को सरकार । गली-गली में हो रहा, वादों का व्यापार ।1।जीवन भर नेता करे, बस…See More
9 hours ago
Deependra Kumar Singh updated their profile
yesterday
Samar kabeer commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (दिलों से ख़राशें हटाने चला हूँ )
"//चर्चा समाप्त// जनाब सौरभ पाण्डेय जी, क्या ये आदेश है?  मेरी समझ में नहीं आ रहा है कि आप कैसी…"
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (दिलों से ख़राशें हटाने चला हूँ )
"लिखने और केवल लिखने मात्र को परिचर्चा का अंग नहीं कह सकते. पढ़ना और पढ़े को गुनना भी उतना ही जरूरी…"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service