For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Sheel Kumar
  • 64, Male
  • Hamirpur U.P.
  • India
Share

Sheel Kumar's Friends

  • Shashwat k.
  • Ajeet Dubey
  • VIBHUTI KUMAR
  • Aditya Kumar
  • Manoj Kumar Jha
  • Kanchan Pandey
  • mamta pandey(bhojpuri singer)
  • Admin

Sheel Kumar's Groups

 

Sheel Kumar's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Hamirpur U.P.
Native Place
Tilhar Shajahanpur U.P.
Profession
Serving with U.P. State
About me
Live and let live....

Sheel Kumar's Blog

पावस आएगा क्या ????

मुझे पता है,

तुम पावस के एक टुकड़े को 

देखते हो टकटकी बांधे ,

आँखों में पाले सपने सा 

नजदीकी रिश्तेदारी में गए अपने सा.

पर अब पावस भी नहीं आता बेलौस

आता है एक धुंधले कुहासे में ढका,

शरमाता,संकुचाता,लडखडाता ,

कभी किसी ठूंठ के कंधे पर 

सर रख सिसकी भरता पावस 

आता है.....

शहर की चौहद्दी पर ठिठकता,

धुएं से सहमता लौट जाता है,

फिर किसी दिन आने को .....

आंचल में मीठा पानी लाने को,

तुम कब तक देखोगे राह पावस की 

वो आएगा तो भी आ नहीं… Continue

Posted on May 20, 2011 at 10:45pm — 1 Comment

Comment Wall (4 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:30am on April 9, 2012, Shashwat k. said…

it's my honor to be in your guidance sir,and i hope not only on this page,

but in whole book of life...
Thank You Sir 

At 8:43pm on May 31, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 5:02pm on May 14, 2011, PREETAM TIWARY(PREET) said…
At 1:51pm on May 14, 2011, Admin said…
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

AMAN SINHA commented on Sushil Sarna's blog post भय
"सुनील रसना साहब, बेहद खूबसूरत रचना हेतु बधाई स्वीकार करें ।"
5 minutes ago
AMAN SINHA commented on Dr. Vijai Shanker's blog post क्षणिकाएं (२०२१ -१ )- डॉo विजय शंकर
"बहुत खूब "
7 minutes ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post दिखने दो
"@समर कबीर साहब,  धन्यवाद "
9 minutes ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post कुछ बदला सा
"@समर कबीर साहब,  धन्यवाद "
10 minutes ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post बदनाम ज़िन्दगी
"@अमीरुद्दीन साहब,  आपके बहुमुल्य सलाह के लिये धन्यवाद स्वीकार करें।  "एक ही पल…"
13 minutes ago
AMAN SINHA posted a blog post

क्षितिज

वो जहां पर असमा और धरा मिल जाते हैछोर मिलते ही नहीं पर साथ में खो जाते हैहै यही वो स्थान जिसका अंत…See More
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker posted blog posts
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post स्वयं को तनिक एक बच्चा बना-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति , सराहना व सुझाव के लिए हार्दिक धन्यवाद। सुझाव…"
13 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' left a comment for बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
"ओ बी ओ प्रबंधन द्वारा लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी को "महीने का सक्रिय सदस्य" (Active…"
16 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post स्वयं को तनिक एक बच्चा बना-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब अच्छी ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद पेश करता हूँ। मतले को थोड़ा…"
16 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post भय
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी रचना हुई है बधाई स्वीकार करें। रचना का शीर्षक भय के बजाय…"
16 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on AMAN SINHA's blog post बदनाम ज़िन्दगी
"जनाब अमन सिन्हा जी आदाब, सुंदर भावपूर्ण रचना के लिए बधाई स्वीकार करें। इस पंक्ति के शिल्प पर ग़ौर…"
16 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service