For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

खबर:-तलवार दम्पति पर अपनी ही  बेटी के क़त्ल का मुकदमा चलेगा I
कुछ तो 
आरुषी जिगर का टुकड़ा थी 
फिर ऐसा क्यों कर डाला 

कुछ तो ऐसा हुआ होगा 

जो बेटी को मार डाला
उनके दर्द को देखों यारो 
जो रो भी नहीं सकते
ज़ख्म उनके भी ऐसे होंगे 
जो कभी नहीं भर सकते 
इलज़ाम लगाना आसाँ है 
पर हकीकत कड़वी होती है
ऐसे ही नहीं कोई माँ 
बेटी की कातिल होती है 
बेटी की कातिल हो----
दीपक कुल्लुवी 
२५/५/१२.
जहाँ मुझे नादान आरुषी की मौत का गम है वहीँ उसके माँ बाप  की मजबूरी का भी बेहद दुःख है I

Views: 305

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on May 31, 2012 at 10:02am

दोस्तों इस  रचना में मेरी दोनों तरफ से ही हार है.....लेकिन   जिंदगी रूकती नहीं निरंतर चलती रहती है ...........

बहुत कुछ DEKHA  बहुत कुछ DEKHNA JHELNA BAQI है..........
'कुल्लुवी '
Comment by Deepak Sharma Kuluvi on May 31, 2012 at 10:02am

दोस्तों इस  रचना में मेरी दोनों तरफ से ही हार है.....लेकिन   जिंदगी रूकती नहीं निरंतर चलती रहती है ...........

बहुत कुछ DEKHA  बहुत कुछ DEKHNA JHELNA BAQI है..........
'कुल्लुवी '
Comment by Deepak Sharma Kuluvi on May 31, 2012 at 9:50am

YOU ARE VERY RIGHT UMASHANKAR JI KHOON TO DONON TARAF HI HUA HAI ,,KAHIN ARMANON KA AUR KAHIN......

Comment by UMASHANKER MISHRA on May 30, 2012 at 10:53pm

आपने सही लिखा है यह प्रश्न हमारे जेहन में

सदैव घुमड़ता रहता है कि कुछ तो ऐसा कारण रहा होगा

जो माँ बाप को अपने जिगर के टुकड़े का खून करना पड़ा

कारण कुछ भी हो परन्तु उत्तर में मन से यही आवाज आई की

हो सकता है बेटी की करतूत से उनकी झूठी सामाजिक प्रतिष्ठा

को ठेस पहुंची होगी |परन्तु बेटी की  हत्या यह बर्दास्त नहीं |

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on May 28, 2012 at 10:59am

Dr.Prachi u r very right no one has a power to kill their daughter but sometime anger cross the limit due to circumstances .

Comment by Abhinav Arun on May 26, 2012 at 2:55pm

क्या कहूं ..सामयिक और सार्थक इन विषयों पर लिखना  धार पर चलने के सामान होता है aap  सफल रहे हार्दिक बधाई !!

Comment by SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR on May 25, 2012 at 11:47pm

उनके दर्द को देखों यारो 

जो रो भी नहीं सकते
ज़ख्म उनके भी ऐसे होंगे 
जो कभी नहीं भर सकते 
इलज़ाम लगाना आसाँ है 
पर हकीकत कड़वी होती है
हाँ  दीपक जी हकीकत बहुत कडवी होती ही है ,,,,काल न जाने कब काल का पहिया चला दे ..व्यथा  दिखाती रचना  ....भ्रमर ५ 
Comment by AVINASH S BAGDE on May 25, 2012 at 8:42pm

उनके दर्द को देखों यारो 

जो रो भी नहीं सकते
ज़ख्म उनके भी ऐसे होंगे 
जो कभी नहीं भर सकते ...sahi kaha Deepak bhai..

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on May 25, 2012 at 7:32pm
चाहे कोई भी वजह रही हो ....
पर बच्ची की जीवन छीन लेने का अधिकार क्या माँ बाप को किसी भी हाल में होना चाहिए? 
Comment by Rekha Joshi on May 25, 2012 at 6:55pm

जो रो भी नहीं सकते

ज़ख्म उनके भी ऐसे होंगे 
नही विशवास होता ,कोई अपनी बेटी का कातिल हो सकता है |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post मौसम को .......
"आदरणीय सुशील सरना जी आदाब, अच्छी रचना हुई है बधाई स्वीकार करें।  "वायु वेग से रेत पर…"
15 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on रोहित डोबरियाल "मल्हार"'s blog post अहसास
"जनाब रोहित डोबरियाल 'मल्हार' जी आदाब, अच्छी रचना हुई बधाई स्वीकार करें। 'उनके दिल…"
16 hours ago
Chetan Prakash commented on Samar kabeer's blog post 'कि भाई भाई का दुश्मन है क्या किया जाए'
"आदरणीय  समर कबीर साहब,  आदाब! सर, 'चितवन' बिल्कुल ठीक है, मैं उक्त मिसरा में…"
yesterday
रोहित डोबरियाल "मल्हार" commented on रोहित डोबरियाल "मल्हार"'s blog post अहसास
"ज़नाब Samar kabeer साहब जी, शुक्रिया"
yesterday
Samar kabeer commented on रोहित डोबरियाल "मल्हार"'s blog post अहसास
"जनाब रोहित जी आदाब, सुंदर प्रस्तुति हेतु बधाई स्वीकार करें ।तो"
yesterday
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post मौसम को .......
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें । 'सुइयाँ' या…"
yesterday
Samar kabeer commented on Dharmendra Kumar Yadav's blog post एक सजनिया चली अकेली
"जनाब धर्मेन्द्र कुमार यादव जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें । कृपया मंच पर अपनी…"
yesterday
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post 'कि भाई भाई का दुश्मन है क्या किया जाए'
"//मेरा  आशथ , मौसम  सम्बंधित कुछ जैसे, कानन, अथवा, प्रेयसी इंगित बिम्ब है, तो आपकी …"
yesterday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-है कहाँ
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार।सर्,आपके द्वारा दी गई अनमोल इस्लाह के लिए आपकी आभारी हूँ। जी सर,…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Samar kabeer's blog post 'कि भाई भाई का दुश्मन है क्या किया जाए'
"मुहतरम कबीर साहिब आदाब, जी बेशक, दुरुस्त फ़रमाया आपने। वज़ाहत के लिए बहुत बहुत शुक्रिया। …"
yesterday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-है कहाँ
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, और गुणीजनों ने सुझाव भी अच्छे दिये हैं, बधाई…"
yesterday
Chetan Prakash commented on Samar kabeer's blog post 'कि भाई भाई का दुश्मन है क्या किया जाए'
"आदाब, आदरणीय समर कबीर साहब नमन, टंकण में कुछ भूल हुई, मेरा  आशथ , मौसम  सम्बंधित कुछ…"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service