For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Mumtaz Aziz Naza
  • Female
  • Mumbai, Maharashtra
  • India
Share on Facebook MySpace

Mumtaz Aziz Naza's Friends

  • राज़ नवादवी
  • Rajiv Gupta
  • aashukavi neeraj awasthi
  • Gyanendra Nath Tripathi
  • Tapan Dubey
  • Er. Ambarish Srivastava
  • ASHVANI KUMAR SHARMA
  • GAUTAM ARORA
  • Hilal Badayuni
  • Arvind Chaudhari
  • chetan prakash
  • Saurabh Pandey
  • Rajendra Singh kunwar 'Fariyadhi
  • Manoj Kumar Jha
  • Pankaj Trivedi

Mumtaz Aziz Naza's Groups

 

Mumtaz Aziz Naza's Page

Latest Activity

Mumtaz Aziz Naza replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-136
"मैं माफी चाहूंगी, लेकिन इस मिसरे की बहर है, "फ़ाअ फ़ऊलुन फ़अलुन फ़अलुन फ़अलुन फ़अलुन फ़ाइलतुन" शुक्रिया। "
Oct 28, 2021

Profile Information

Gender
Female
City State
Mumbai, Maharashtra
Native Place
Kanpur
Profession
Writer
About me
hai parwaaz meri jahanon se bartar

मेरे ब्लॉग पर स्वागत है

Mumtaz Aziz Naza's Blog

जीत

जो हौसला बलंद है नफस नफस कमंद है

हमारी हर ख़ुशी हमारे हौसलों में बंद है



वो बेकसी अतीत है यही हमारी जीत है

हर एक देशवासी के लबों पे ये ही गीत है



ये एकता मिसाल है हमारा ये कमाल है

वतन के लब पे आज भी मगर वही सवाल है



है कौन दूध का धुला अभी तलक नहीं खुला

अभी तक इस पियाले में ज़हर का घूँट है घुला



भरें सभी तिजोरियां हैं कैसी कैसी चोरियां

सुला रहे हैं हम ज़मीर को सुना के लोरियां

 

उठो के वक़्त आ गया उठाओ हर क़दम…

Continue

Posted on April 9, 2011 at 1:00pm — 2 Comments

Comment Wall (14 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:29pm on April 11, 2011, GAUTAM ARORA said…
namaskar, janm din mubarak
At 7:00pm on April 11, 2011, Er. Ambarish Srivastava said…
जनम दिन ये मुबारक हो रहे मुस्कान होठों पर.
खुशी बिखरे जहाँ जाओ नया हो गीत होठों पर.
जमाना संग में झूमे तेरी खुशियों में शामिल हम-
हजारों साल हो जीना यही अंदाज होठों पर ..
At 10:28am on April 11, 2011, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…

 

आप के लिए

"जीवन में रहे उमंग  रहे वसंत  बहारो का वसेरा
घर आँगन में सदा रहे खुशियाँ नई प्रभा का हो सवेरा"
जन्मदिन के ढेर सारी बधाई................ 
At 9:44am on April 11, 2011, PREETAM TIWARY(PREET) said…
MANY MANY HAPPY RETURNS OF THE DAY.....
At 8:55am on April 11, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 7:58am on April 11, 2011, nemichandpuniyachandan said…
Mohatarama,Mumtaz Aziz Naza, sahiba,adaab,aapke janm-din pe hardik abhinandan.
At 1:36pm on November 5, 2010, Admin said…
इन्तजार के पश्चात् आपकी रचना "गीत" "OBO लाइव महा इवेंट" मे पोस्ट कर दी गई है ,जिसे नीचे दिये लिंक पर देखा जा सकता है |
http://www.openbooksonline.com/forum/topics/obo-1?page=42&commentId=5170231%3AComment%3A31448&x=1#5170231Comment31448
At 7:21pm on November 3, 2010, Admin said…
आदरणीया मुमताज जी,
आपने जो "गीत" पोस्ट की वह दीपावली विषय पर आधारित है कृपया उसे "OBO लाइव महा इवेंट" मे पोस्ट कर दे, सुविधा हेतु लिंक नीचे दे रहा हूँ |
http://openbooksonline.com/forum/topics/obo-1

यदि पोस्ट करने मे समस्या हो तो नीचे दिया लिंक देखे...
http://openbooksonline.com/profiles/blogs/5170231:BlogPost:30313
At 4:44am on October 25, 2010, chetan prakash said…
आदरणीय मुमताज़ जी,
लगभग एक माह बाद यहाँ आया हूँ. हाल फिलहाल, बस यही अर्ज़ है है किमुझे अपने मित्र-मंडली में यहाँ भी शामिल करें. शुभ प्रभात! साभार,
At 7:41pm on September 24, 2010, chetan prakash said…
मोहतरमा मुमताज़, आपको यहँ| पाकर बहुत अच्छा लगा.
ऐसा एहसास हुआ, मानो पराये देश में कोई अज़ीज़ मिल गया.
इस्तकबाल में क्या कहूं , कुछ सूझ नही रहा है. शेष फिर कभी.
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Chetan Prakash commented on Sushil Sarna's blog post दशहरा पर्व पर कुछ दोहे. . . .
"नमस्कार,  भाई  सुशील सरना, सभी  दोहे  अच्छे  लगे, किन्तु …"
1 hour ago
Sushil Sarna posted a blog post

दशहरा पर्व पर कुछ दोहे. . . .

दशहरा पर्व पर कुछ दोहे. . . .सदियों से लंकेश का, जलता दम्भ  प्रतीक । मिटी नहीं पर आज तक, बैर भाव की…See More
4 hours ago
Muhammad Asif Ali is now a member of Open Books Online
6 hours ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post कितना कठिन था
"आदरणीय श्याम नारायण वर्मा जी,  सहर्ष धन्यवाद। "
7 hours ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post लडकपन
"आदरणीय बृजेश कुमार जी,  प्रोत्साहन के लिये धन्यवाद। आपको ज्ञात हो की यह रचना मेरे निजी अनुभव…"
7 hours ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post लडकपन
"आदरणीय लक्ष्मण धामी साहब,  आपके प्रोत्साहन के लिये असंख्य धन्यवाद।  मैं निश्चित तौर पर आप…"
7 hours ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post ना तुझे पाने की खुशी ना तुझे खोने का ग़म
"आदरणीय समर कबीर साहब,  तारीफ़ के लिये दिल से धन्यवाद। साहब, मैं किसी विधा से परिचित नहीं हूँ।…"
7 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

असली चेहरा

फिर जंगल का राजा हाथी ही बना है।पर, अब उसके साथ बिल्लियाँ, भेड़ें आदि हैं। भेड़ियों की बहुतायत…See More
11 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी posted blog posts
11 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (तुम्हारी एक अदा पर ही मुस्कराने की)
"आदरणीय बृजेश कुमार ब्रज जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई का तह-ए-दिल से…"
19 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (ऐ ख़ुदा दिल को क्या हुआ है ये)
"आदरणीय बृजेश कुमार जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई का तह-ए-दिल से शुक्रिया।"
19 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की- दर्द है तो कभी दवा है ये
"बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल हुई आदरणीय नीलेश जी..."
21 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service