For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Er. Ambarish Srivastava
  • Male
  • Sitapur, Uttar Pradesh
  • India
Share on Facebook MySpace

Er. Ambarish Srivastava's Friends

  • Aarti Sharma
  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • seema agrawal
  • Ashish Srivastava
  • deepti sharma
  • Albela Khatri
  • Rekha Joshi
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • Dr.Prachi Singh
  • Yogendra Pandey
  • अश्विनी कुमार
  • PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA
  • CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU'
  • रविकर
  • विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी

Er. Ambarish Srivastava's Discussions

'हिन्दुस्तान' समाचारपत्र ने किया जनकवि आलोक सीतापुरी का सम्मान ....
3 Replies

ओबीओ 'चित्र से काव्य तक प्रतियोगिता' अंक-१३ में प्रथम स्थान प्राप्त करने के लिए 'हिन्दुस्तान' समाचारपत्र ने सीतापुर के किसान मेले में आयोजित कवि-सम्मेलन में जनकवि आलोक सीतापुरी जी को अंगवस्त्र प्रदान…Continue

Started this discussion. Last reply by satish mapatpuri May 8, 2012.

 

Er. Ambarish Srivastava's Page

Latest Activity

Samar kabeer replied to Er. Ambarish Srivastava's discussion तोमर छंद in the group भारतीय छंद विधान
"जनाब सौरभ पाण्डेय साहिब आदाब, तोमर छन्द के बारे में आज ही पता चला,बहुत उम्द: जानकारी दी आपने इसके लिए धन्यवाद ।"
Sep 21, 2019

Profile Information

Gender
Male
City State
Sitapur
Native Place
Sitapur
Profession
Architectural Engineer,
About me
1 Architectural Engineer 2 Social Worker and Hindi Poet, Poet, President Sanskar Bhartee Sitapur, Article at Wikipedia. http://en.wikipedia.org/wiki/Ambarish_Srivastava, http://hi.wikipedia.org/wiki/अम्बरीष_श्रीवास्तव

Er. Ambarish Srivastava's Photos

  • Add Photos
  • View All

एक परिचय :

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के सक्रिय सदस्य तथा ३० जून १९६५ को जिला सीतापुर के ग्राम "सरैयां कायस्थान" में जन्मे  अम्बरीष श्रीवास्तव  एक प्रसिद्ध आर्कीटेक्चरल इंजीनियर हैं |

लखनवी तहजीब को अपने हृदय में समाहित किये हुए श्री अम्बरीष श्रीवास्तव जी नें पिंगलशास्त्र से नियंत्रित छंदों यथा दोहा, सोरठा, रोला, सवैया, कुण्डली  व कवित्त (घनाक्षरी) के क्षेत्र में गहन साधना तो की ही है साथ-साथ गज़ल के क्षेत्र में आपका खासा दखल भी है | आपकी रचनाओं का प्रकाशन विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में तथा अंतर्जाल की प्रतिष्ठित वेबसाइट्स पर नियमित रूप से होता रहता है | वर्ष २००७ में आप "इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी अवार्ड " से सम्मानित भी किये गए हैं |

प्रकाशित पुस्तक:  "जो सरहद पे जाये "

Er. Ambarish Srivastava's Blog

ओबीओ परिवार की ओर से सभी को नववर्ष की हार्दिक बधाइयाँ

छंद हरिगीतिका :

(चार चरण प्रत्येक में १६,१२ मात्राएँ चरणान्त में लघु-गुरु)

 

शुभकामना नववर्ष की सत,-संग औ सद्ज्ञान हो.

करिये कृपा माँ शारदा अब, दूर सब अज्ञान हो.

हर बालिका हो लक्ष्मी धन,-धान्य का वरदान हो.

सिरमौर हो यह देश अब हर, नारि का सम्मान हो.

सादर,

--अम्बरीष श्रीवास्तव

Posted on January 1, 2013 at 10:00am — 28 Comments

समस्त ओबीओ परिवार की ओर से आप सभी को यम द्वितीया व भाई दूज पर्व की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं..

लेखा जोखा विश्व का, हर प्राणी का ज्ञान,

स्वागत वंदन आपका, चित्रगुप्त भगवान.

चित्रगुप्त भगवान, आपकी महिमा न्यारी.

जो भी धर ले ध्यान, मोक्ष का हो…

Continue

Posted on November 16, 2012 at 12:00am — 4 Comments

समस्त ओबीओ परिवार की ओर से आप सभी को इस दीप पर्व की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं..

आई है दीपावली, वंदित प्रथम गणेश,

महालक्ष्मी पूजिये, सुखमय भारत देश.

सुखमय भारत देश, दीप हर घर में चमकें,

अँधियारा हो दूर, सभी के तन-मन महकें,

'अम्बरीष' दें आज, सभी को बहुत बधाई,

विष्णुप्रिया हरि संग, गरुण वाहन पर आई..

 

सादर

Posted on November 13, 2012 at 11:59pm — 15 Comments

Comment Wall (37 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:05am on December 31, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…

आदरणीय अग्रज अम्बरीश जी, आपको सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.......

At 11:19am on October 16, 2012,
सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh
said…

जन्मदिवस की शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अम्बरीश जी.. दो दिन के लिए हरिद्वार प्रवास पर थी इसलिए सन्देश आज ही देख सकी. हार्दिक धन्यवाद 

At 4:26pm on September 13, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…

आदरणीय अम्बरीश श्रीवास्तवजी, यह समाचार पढ़कर प्रसन्नता हुई क़ि दुरुद्वारा,सीतापुर में आपको सम्मानित किया गया है | इस उपलब्धि पर आपको हार्दिक बधाई - लक्ष्मण प्रसाद लडीवाला,जयपुर   

At 11:19am on August 7, 2012, seema agrawal said…

thanks Ambareesh jee 

At 2:54pm on August 1, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

अम्बरीष जी आपकी शुभकामनायेँ और बधाइयां मिली बहुत अच्छा लगा । आपको बहुत बहुत धन्यवाद!  ऐसे ही स्नेह बनाएँ रखें !

At 5:36pm on July 23, 2012, Albela Khatri said…




thank you so much my dear friend ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद - हार्दिक  आभार, कृपया यों ही स्नेह बनाए रखिये, आपका सौजन्य ही  मेरा पराक्रम है, ખુબ ખુબ આભાર ...ખુબ ખુબ આભાર ....તમારી શુભકામનાઓ મારા સીર આંખો પર ...........

At 11:14pm on July 1, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…

प्रिय और आदरणीय  अम्बरीश जी जन्म दिन पर (विलंबित)  ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं  आप दिन दिन उगें चमकें सूरज से हम सब रौशनी यों ही पायें .प्रभु सब मंगल करें .जय श्री राधे 

भ्रमर ५ 
At 9:46pm on June 30, 2012, CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' said…

जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं सर जी

At 10:36am on June 30, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…
श्री अम्बरीश श्रीद्स्वस्तव जी,आपको जन्म दिन पर हमारी सपरिवार हार्दिक शुभ 
कामनाए भगवन आपको सतयु जीवन प्रदान कर देश समाज और परिवार में 
रचनातक कार्य करते रहने का सहस प्रदान करे - लक्ष्मण प्रसद लडीवाला
At 6:41am on June 30, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…
आदरणीय अम्बरीष जी को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई।
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल
"उचित है आदरणीय समर जी...ऐसा किया जा सकता है...जल्द ही सम्पूर्ण सुधार के साथ रचना एडिट करूँगा...सादर"
1 hour ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (शुक्र तेरा अदा नहीं होता)
"//मक़्ता में 'मांगे' को 'माँगे' लिखना ज़्यादा मुनासिब होगा// सहमत।"
6 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on रवि भसीन 'शाहिद''s blog post हर तरफ़ रौशनी के डेरे हैं (ग़ज़ल)
"मुहतरम रवि भसीन 'शाहिद' जी आदाब, क्या ख़ूब ग़ज़ल कही है, हर एक शे'र कमाल है,…"
6 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (शुक्र तेरा अदा नहीं होता)
"मुहतरम रवि भसीन 'शाहिद' जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद बाइस-ए-शरफ़ है, ज़र्रा नवाज़ी और हौसला…"
6 hours ago
Samar kabeer commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल
"//एक जिज्ञासा और है क्या "मुस्कुराहट और हरारत" एक साथ काफ़िये के रूप में सहीह है// नहीं,ये…"
7 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (शुक्र तेरा अदा नहीं होता)
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहिब, आदाब! इस ख़ूबसूरत ग़ज़ल पर आप को ख़ूब सारी दाद और बधाई! अगर…"
11 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल
"जी आदरणीय महेंद्र जी...एक नई जानकारी हुई...यही तो इस मंच की विशेषता है...आपका धन्यवाद"
12 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल
"आदरणीय समर जी ग़ज़ल की विस्तृत समीक्षा के लिए आभार व्यक्त करता हूँ...काफ़िये को लेकर नई जानकारी…"
12 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' posted a blog post

हर तरफ़ रौशनी के डेरे हैं (ग़ज़ल)

2122  /  1212  /  22हर तरफ़ रौशनी के डेरे हैंमेरी क़िस्मत में क्यूँ अँधेरे हैं [1]एक अर्सा हुआ उन्हें…See More
12 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

गुमान (लघुकथा)

सुषमा ने तकिया समीर के सिरहाने कर दी थी।अपना सिर किनारे पर रखा था जो कभी ढुलक कर तकिये से उतर गया…See More
12 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post दशहरा पर्व पर कुछ दोहे. . . .
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छे दोहे लिखे आपने, बधाई स्वीकार करें ।"
13 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दशहरा पर्व पर कुछ दोहे. . . .

दशहरा पर्व पर कुछ दोहे. . . .सदियों से लंकेश का, जलता दम्भ  प्रतीक । मिटी नहीं पर आज तक, बैर भाव की…See More
13 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service