For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कन्या के लक्षण से जाने कन्या का व्यक्तित्व

1 - आँख से आँख मिलाकर बात करने वाली लड़की नियंत्रण से बाहर होती हैँ। 2 - गर्दन ऊँची करके बात करने वाली कन्या घमण्डी होती हैँ। 3 - गर्दन नीची करके बात करने वाली कन्या बहुत शर्मीली होती हैँ। 4 - धीमे बात करने वाली और मधुर स्वर मे बात करने वाली कन्या शान्ति प्रिय होती हैँ। 5 - बात करते समय इधर उधर बगले झांकने वाली कन्या झूठी , लापरवाह तथा घर व पति के प्रति वफादार नही होती हैँ। 6 - बात करते समय यदि कन्या नाखून चबाये या उंगलियो को तोड़े मरोड़े तो वह किसी हिन भावना से ग्रसित होती है। इनमे संचालन या नेतृत्व का आभाव होता हैँ। 7 - आँख व गर्दन मटकाने और आँख न मिला सकने वाली कन्या अन्दर से कुछ और बाहर से कुछ और होती हैँ। 8 - बातो मे असलियत छुपाने वाली लड़की धोखा देने वाली होती हैँ। 9 - बात करते समय आँखे नीचे रखे और पैरो से जमीन कुरेदने वाली कन्या अधिक भावुक होती है तथा इन्मेँ दूरदर्शिता का होता हैँ। 10 - अंगड़ाई लेकर बात करने वाली कन्या बहुत चालाक होती हैँ। 11 - बात करते समय कमर पर हाँथ रखे गर्दन हिलाकर इसारे से बात करेँ वह झगड़ालू और चालू होती हैँ। 12 - किसी वस्तु कि ओट लेकर बात करने वाली कन्या पर्दापसंद होती हैँ। 13 - जो कन्या बात करते समय अपनी चुनरी व साड़ी बार बार ठिक करेँ तो वह अधिक सावधान तथा शराफत का ढोँग करने वाली होती हैँ। 14 - शोर मचाकर बात करने वाली कन्या बहरी भी हो सकती है तथा उसके अन्दर पुरुष जैसी ताकत होती हैँ।

Views: 1353

Reply to This

Replies to This Discussion

bahut badhiya jaankari dihani mahesh jee.....\
socha tani hum bhi ab check kar ke dekhi ki kaa kaa baa unka me.....hahahaha
waise jaankari bahuit sahi baa mahesh jee....aisehi naya naya jaankari humni ke beech me le aawat rahi....
aage bhi aisan gyanbardhak lekh ke intezaar rahi............
bohat acha hai bhai
bahut sahi jankaar hai

per mai aapke 1 aur 2 point se sahmat nahi hoon aisa koi jaruri nahi hai............
Wah Mahesh jee..
Bahut sahi jakari diya hai aapne..
Lekin main aapse janna chaunga ki ye sari Jankariya aapke Pvt. life ka experience hai ya Normal baate hai.

plz expln....
Varun jee esme kuchh jankari body language book se hai aur kuchh jankari mere experience se hai.
Bahut hi achchi jaankari di hai aapne ... Par mera ek sawal hai ki aapne ye jo kuch bhi likha hai, kya ye aapka anubhav hai ya bas yu hi.. Agar aunhav hai to kitne binduon par?
How funny !
i dont like this. ye apki purushpanti soch ko dikhati hai.be faminist and feel the beauty and innocancy of the woman. every one in this world is good or bad its depend on situation.if u r in love with some girl but at the same time if she choose another guy that the time ur recation is what? i think on the above parameter you could be describe her but for the other guy she is currently best woman in this world. body lanugage is situational it is not the habit. you cant be identify any prson on the above parameter. mujhe bahut jayda mura laga is modern time me vi autro ko is tarah parivashis karne ka paryash hota hai.not good.
Mai Navin jee key tark sey sahmat hu, yey koi tarika nahi hai jissey sabhi ko mapa jaa sakey, Ha kuch ladkiyo par lagu ho sakta hai formula par sab par nahi, Navin jee bilkul thik kahatey hai,

Naveen sinha said:
i dont like this. ye apki purushpanti soch ko dikhati hai.be faminist and feel the beauty and innocancy of the woman. every one in this world is good or bad its depend on situation.if u r in love with some girl but at the same time if she choose another guy that the time ur recation is what? i think on the above parameter you could be describe her but for the other guy she is currently best woman in this world. body lanugage is situational it is not the habit. you cant be identify any prson on the above parameter. mujhe bahut jayda mura laga is modern time me vi autro ko is tarah parivashis karne ka paryash hota hai.not good.
waise ye sirf ladkion ke liye hai , ladkon ke bare me koi vichar nahi diye aapne? aur aapke hisab se fir kaun si ladki achhi hai?

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत बहुत बधाई आदरणीय समर कबीर भाई।"
12 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post आपका इन्तिख़ाब कर डाला(136)
"लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर साहेब , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिल से शुक्रगुज़ार हूँ |"
12 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post अगर हक़ीक़त में प्यार था तो सनम हमारे मज़ार जाएँ (137)
"लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर साहेब , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिल से शुक्रगुज़ार हूँ |"
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post अगर हक़ीक़त में प्यार था तो सनम हमारे मज़ार जाएँ (137)
"आ. भाई गिरधारी सिंह जी, सादर अभिवादन। अच्छी गजल हुई है। हार्दिक बधाई।"
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post आपका इन्तिख़ाब कर डाला(136)
"आ. भाई गिरधारी सिंह जी, सादर अभिवादन। अच्छी गजल हुई है। हार्दिक बधाई।"
14 hours ago
Rakhee jain joined Admin's group
Thumbnail

ग़ज़ल की कक्षा

इस समूह मे ग़ज़ल की कक्षा आदरणीय श्री तिलक राज कपूर द्वारा आयोजित की जाएगी, जो सदस्य सीखने के…See More
19 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत शुक्रिय: मुहतरमा प्रतिभा पाण्डेय जी ।"
20 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

गजल -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

१२२२/ १२२२/१२२२*कठिन जैसे नगर में धूप के दर्शनहमें  वैसे  तुम्हारे  रूप  के  दर्शन।१।*कभी वो नीर का…See More
21 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय समर कबीर साहब को इस सम्मान/जिम्मेदारी के लिये हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ। "
22 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत शुक्रिय: जनाब सौरभ पाण्डेय साहिब ।"
23 hours ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय मुसाफिर साहब हार्दिक आभार सादर"
yesterday
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय समर कबीर साहब सादर प्रणाम कृपा दृष्टि बनाये रखें बहुत बहुत आभार सादर"
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service