For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ghazal-Dil mein chand pal rab ko reejhanaa bhee hotaa thaa.

दिल में चंद पल तन्मय रब रीझाना भी होता था।
हरिक आबाद घर में एक वीराना भी होता था।।

ि
तश्नगी से सहरा में तूं पी करते मर जाना भी होता था ।
हैरतअंगेज गजाला-गजाली सा याराना भी होता था ।।

वादाफर्मा को वादा निभाना भी होता था ।
दिले-नाशाद को जाके मनाना भी होता था ।।

आजकल गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं लोग ।
पहले अपना मजहबीं इक बाना  भी होता था।।

अब तो अजीजों का हमें सही पत्ता नहीं मिलता।
किसी जमाने में दुश्मन का भी ठिकाना भी होता था ।।

अब न किसी की मंजिले-मकसूद हैं न कोई रहगुजर ।
तीरे-अर्जुन मानिंद मछली पे अचूक निशाना भी होता था ।।

काम निकलते ही अक्सर हवा हो जाते हैं लोग ।
कभी एहसान के बदले नजर शुक्राना भी होता था ।।

वो भी क्या दिन थे माॅं का लौरी सुनाना भी होता था ।
हर जिद्द को पूरी कर मुझे मनाना भी होता था ।।

मुझे खिला-पिला के स्कूल भिजवाना भी होता था ।
माॅं के हाथों सजना-संवरना नहाना भी होता था ।।

अब तो गिडगिडाने के अलावा कोई चारा नहीं ।
माॅं के आगे हकलाना तुतलाना भी होता था ।।

अब तो आंसूओ से कभी हो जाते हैं नम बिस्तर ।
माॅं खुद भीगे सूखे हमें सुलाना भी होता था ।।

अब तो अपने बाजूओं से काम चला लेते हैं।
कभी उनकी जांघों पे सिरहाना भी होता था।।

औलाद को गोद में बुजुर्गो के सामने ।
खुदी को उठाते चंदन शरमाना भी होत था।।

नेमीचन्द पूनिया चन्दन

Views: 290

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आ. भाई दिनेश जी, सादर अभिवादन। अच्छीगजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
6 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"आ. भाई नाथ सोनांचली जी, सादर अभिवादन। सुन्दर गजल हुई है। हार्दिक बधाई।"
21 minutes ago
Gurpreet Singh jammu replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"हम किसी के लिए तुम किसी के लिएजीते  हैं   दूसरों  की  ख़ुशी   के…"
36 minutes ago
Gurpreet Singh jammu replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"वाह आदरणीय लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी बहुत अच्छी ग़ज़ल। बाकी आदरणीय समर सर और अमित जी से सहमत हूं।"
39 minutes ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
" आदरणीय कबीर जी । आपको सादर प्रणाम करता हूँ। ग़ज़ल तक आने व हौसला बढ़ाने हेतु आपका हृदयतल से…"
43 minutes ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"सादर अभिवादन स्वीकार करें आदरणीय अमित जी । ग़ज़ल पर आपकी प्रतिक्रिया हेतु आपका आभार । "
45 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब दिनेश जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही आपने,बधाई स्वीकार करें ।"
47 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब ज़ैफ़ साहिब आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही है आपने, बधाई स्वीकार करें । 'हर दुआ मेरी,…"
55 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब नाथ सोनांचली जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही आपने, बधाई स्वीकार करें ।"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"जनाब लक्ष्मण धामी जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । गिरह के मिसरे…"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"मैं चला हूं फकत रौशनी के लिए, सोचता भी नहीं वापसी के लिए।1 हाथ में ज्वाल दहके,छंटे कोहरा, ढूंढ…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"बहुत शुक्रिया आदरणीय अमित जी, आपने जो सुझाव दिया है, मैंने पहले वैसा ही लिखा था। आपका कमेंट पढ़कर…"
3 hours ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service