For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

आइये अब करे देहात दर्शन



धान के दवनी

चारा मशीन

देहाती छठ पूजा

देहाती भैस

गेहू पिसे वाला देहाती मशीन

थ्रेसर

देहाती दुर्गा पूजा

अब आपलोगों से अनुरोध है की हमें अपना कीमती समय देकर कमेन्ट जरुर दीजियेगा.

प्रस्तुति-रत्नेश रमण पाठक

साभार-देहातिदुनिया.कॉ

Views: 1196

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on September 6, 2010 at 6:23pm
वाह! सच्चा हिंदुस्तान...... या कहे हिंदुस्तान का दिल|
Comment by Mahesh Jee on April 7, 2010 at 9:04pm
गाँव के माटी गाँव के खेत। मिलेला शुद्ध हवा पानी चाहे कुवार होखे या चैत।। आपस मे रहेला मेल मिलाप इहे ह गाँव के रित। भाई-भाई के बिच मे ना दिखेला भित।।
बहुत अच्छा लागल इ "देहात दर्शन" धन्यवाद आपके..
Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 7, 2010 at 7:40pm

Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 7, 2010 at 7:35pm
ek baar phir se kho jayiye apne dehati duniya me.......................................................

Comment by Rash Bihari Ravi on March 26, 2010 at 7:46pm

Comment by Rash Bihari Ravi on March 26, 2010 at 7:45pm

Comment by Rash Bihari Ravi on March 26, 2010 at 7:44pm
bahut badhia
Comment by Ratnesh Raman Pathak on March 26, 2010 at 10:31am

b1QidYfqM8CJuO7CijK1KrfFk2qznlS3ygkaKli/4171200636_a8faa3d509.jpg" alt=""/">

ek baar phir se yaad taza kari ja apna gav ke.
Comment by PREETAM TIWARY(PREET) on March 26, 2010 at 9:20am
bahut badhiya ratnesh jee......raua ta ee photo sab ke saathe gaun ke yaad dila dehni......
ye sab gaun wala raunak sahar me dekhne ke liye aankheb taras jaati hain lekin fir bhi dekhne ko nahi milta hain....

bahut bahut dhanyabaad yahan humlog ke saath share karne ke liye......
aasha hai aage bhi aap gaun ka darshan karate rahenge....
Comment by Admin on March 26, 2010 at 8:36am
क्या बात है रत्नेश जी , आप तो बिलकुल गाँव का माहौल बना दिये है, बहुत बढ़िया

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओबीओ मासिक साहित्यिक संगोष्ठी सम्पन्न: 25 मई-2024
"इस सफ़ल आयोजन हेतु बहुत बहुत बधाई। ओबीओ ज़िंदाबाद!"
2 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओबीओ मासिक साहित्यिक संगोष्ठी सम्पन्न: 25 मई-2024
"बहुत सुंदर अभी मन में इच्छा जन्मी कि ओबीओ की ऑनलाइन संगोष्ठी भी कर सकते हैं मासिक ईश्वर…"
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर posted a discussion

ओबीओ मासिक साहित्यिक संगोष्ठी सम्पन्न: 25 मई-2024

ओबीओ भोपाल इकाई की मासिक साहित्यिक संगोष्ठी, दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय, शिवाजी…See More
Sunday
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"आदरणीय जयनित जी बहुत शुक्रिया आपका ,जी ज़रूर सादर"
Saturday
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"आदरणीय संजय जी बहुत शुक्रिया आपका सादर"
Saturday
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"आदरणीय दिनेश जी नमस्कार अच्छी ग़ज़ल कही आपने बधाई स्वीकार कीजिये गुणीजनों की टिप्पणियों से जानकारी…"
Saturday
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"बहुत बहुत शुक्रिया आ सुकून मिला अब जाकर सादर 🙏"
Saturday
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"ठीक है "
Saturday
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"शुक्रिया आ सादर हम जिसे अपना लहू लख़्त-ए-जिगर कहते थे सबसे पहले तो उसी हाथ में खंज़र निकला …"
Saturday
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"लख़्त ए जिगर अपने बच्चे के लिए इस्तेमाल किया जाता है  यहाँ सनम शब्द हटा दें "
Saturday
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"वैशाख अप्रैल में आता है उसके बाद ज्येष्ठ या जेठ का महीना जो और भी गर्म होता है  पहले …"
Saturday
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-167
"सहृदय शुक्रिया आ ग़ज़ल और बेहतर करने में योगदान देने के लिए आ कुछ सुधार किये हैं गौर फ़रमाएं- मेरी…"
Saturday

© 2024   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service