For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

आज पुरानी वो यादें  ,
मन को लुभा रही हैं ,
बीत गए वो दिन ,
उनकी याद आ रही हैं ,
कितना अच्छा था बचपन ,
कितने अच्छे थे वो दिन ,
रातों की तो बातें छोड़ो  ,
दिन भी होते थे रंगीन ,
उन्ही बातों से मुझे ,
जिन्दगी बहला रही हैं ,
बीत गए वो दिन ,
उनकी याद आ रही हैं ,
.
पाव मेरे छोटे छोटे ,
हाथ पापा के हाथ में ,
चले जाते थे बेफिकर ,
हम उन्ही के साथ में ,
आज भी लगता यही ,
बचपना बुला रही हैं ,
बीत गए वो दिन ,
उनकी याद आ रही हैं ,
.
बचपन बीती आई जवानी ,
खुद में हम भूल सा गए ,
जिनके हाथ पकड़ चलते थे ,
साथ अब वो छोड़ गए
जब पाँव छोटे साथ चले ,
आई हाथ जब हाथ में ,
वही सुहाना दिन आया ,
ये मन को भा रही हैं ,
बीत गए वो दिन ,
उनकी याद आ रही हैं ,

Views: 340

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Rash Bihari Ravi on September 5, 2012 at 3:25pm

laxman ji saurabh bhaiya rajesh kumari ji yogyata ji bahub bahut bhanyavad

 

Comment by Yogyata Mishra on September 2, 2012 at 11:48pm

its realy hard to frgt d memorable days dt teach us hw to live...best trap of memories...:)


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on September 2, 2012 at 7:23pm

बीते दिनों की याद को तजा करती रचना बहुत खूब 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on September 1, 2012 at 11:04pm

भाई रवि जी,.  आपको बहुत दिनों बाद मंच पर देखना सुखद लगा. वह भी रचना के साथ .. वाह वाह !

बधाई

वैसे .. बचपन  और हाथ  पुल्लिंग होते हैं. खैर ..

Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on September 1, 2012 at 6:45pm

बीती दिनों की सुखद यादे बड़ा ही सुकून देती है गिरी साहेब,सुन्दर रचना बधाई 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आभार, नवीन जी आपने मेरी ग़ज़ल का संज्ञान लिया! किन्तु चौथा शे'र आप समझ नहीं पाये, खेद है!…"
2 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"जी, अच्छा ।नहीं"
5 minutes ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आ0 धामी साहब बहुत खूब ग़ज़ल हुई बधाई । "
10 minutes ago
AMAN SINHA posted a blog post

बदनाम ज़िन्दगी

ऐ ज़िन्दगी तू बड़ी बदनाम है ज़िंदा रहने की हर ख़्वाहिश को करती तू नाकाम है ऐ ज़िन्दगी तू बड़ी बदनाम है…See More
10 minutes ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आ0 अच्छी ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार करें । चौथे शेर में मुझे लगता है कारवां का ज़िक्र है तो रह शब्द कम…"
13 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"हालात कह रहे हैं कहें क्या ज़बाँ से हम गुज़रे हैं उनके इश्क़ में किस इम्तिहाँ से हम जन्नत अगर कहीं है…"
21 minutes ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आ0 ग़ज़ल का सुंदर प्रयास हुआ है । 1मुझे लगता है सांस स्त्री लिंग है । 2 चौथा शेर स्पष्ट नहीं है ।…"
40 minutes ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
" नमस्कार नवीन जी, ग़ज़ल  हुई  है, बधाई स्वीकार करें।  किन्तु मतला  पुन:…"
51 minutes ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आ0 अनिल कुमार सिंह साहब अच्छी ग़ज़ल हुई है बधाई स्वीकार करें । "
52 minutes ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"गो तंग आ गए हैं मुसलसल ख़िज़ाँ से हम रखते नहीं हैं फिर भी गिला बाग़बाँ से हम वो कहते हैं कि तुम…"
1 hour ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"सुन्दर आयोजन की मुबारक़बाद क़बूल फ़रमाएँ "
1 hour ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"फिलहाल ग़मज़दा हैं कहें क्या खिजां से हम। क़म्बख्त साँस  उखड़ा है झूले जहाँ  से हम…"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service