For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

हम पागल ही अच्छे

तेरी खामोशी
ये कहां ले आई मुझे
तेरी एक
हां के इंतजार में
बदल गए
रास्ते जिंदगी के
जाना था कहां
पहुंच गए यहां
तेरी राह
देखते-देखते
इरादे पस्त हो गए
अब तो यह आलम है
दिल रोता है
शब्द निकलते है
दुनिया हंसती है
और
कहती है मुझे पागल
कहती है तो कहे
हम पागल ही अच्छे
किसी को
गुमराह तो नहीं करते
बस यूं ही लिखते है
मन को शांत करते है
और क्या रखा है अब
यूं ही प्यार से मिलते है
शायद
किसी की दुआ
हो जाए मेरे नाम
और
ख़ामोशी के आलम में
बना डालू
शब्‍दों का ताजमहल

Views: 212

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on March 24, 2012 at 11:22am

तेरी खामोशी
ये कहां ले आई मुझे
तेरी एक
हां के इंतजार में
बदल गए
रास्ते जिंदगी के

श्री हरीश सर उच्च कहन के लिए एवं भावों को उद्घृत करने के लिए बधाई स्वीकार करें


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on March 23, 2012 at 11:36pm

इस आत्म-सांत्वनापरक विचार पर आपको ह्आर्दिक धन्यवाद

Comment by AVINASH S BAGDE on March 23, 2012 at 7:10pm

अब तो यह आलम है

दिल रोता है

शब्द निकलते है

दुनिया हंसती है....किसी को
गुमराह तो नहीं करते
बस यूं ही लिखते है

हम पागल ही अच्छे....हरीश जी भाव

अच्छे है...

Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on March 23, 2012 at 1:35pm

bahut khoob. badhai

Comment by संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी' on March 23, 2012 at 12:33pm

आदरणीय हरीश जी,

अपनी ही दुनिया में रमे रहने के भाव लिए आपकी इस कविता ने बहुत प्रभावित किया| बधाई!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कहता था हम से देश को आया सँभालने-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व उत्साहवर्धन के लिए आभार ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"आ. भाई आजी तमाम जी, सादर अभिवादन । गजल का प्रयास अच्छा है । हार्दिक बधाई।  भाई नीलेश जी की बात…"
1 hour ago
Aazi Tamaam commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -ख़ुद को ऐसे सँवार कर जागा
"सादर प्रणाम नीलेश सर बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है सहृदय बधाई"
2 hours ago
Aazi Tamaam commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"सादर प्रणाम धामी सर खूबसूरत ग़ज़ल हुई है सहृदय बधाई"
3 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"सादर प्रणाम आ नीलेश जी सहृदय शुक्रिया हौसला अफ़ज़ाई के लिये जी सर मात्राएँ 21 हैं दोनों की लेकिन…"
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar posted blog posts
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. लक्ष्मण जी.ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है.बधाई "
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"आ. आज़ी भाई,अच्छा प्रयास हुआ है ग़ज़ल का...खतम और वहम की मात्राएँ देख लें..सादर "
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -ख़ुद को ऐसे सँवार कर जागा
"धन्यवाद आ. लक्ष्मण जी "
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post ज़ुबान कुछ शिकायती भी कीजिए कभी कभी (133 )
"आ. भाई गिरधारी जी, अच्छी गजल हुई है। हार्दिक बधाई।"
4 hours ago
शुचिता अग्रवाल "शुचिसंदीप" commented on शुचिता अग्रवाल "शुचिसंदीप"'s blog post लावणी छन्द,संपूर्ण वर्णमाला पर प्रेम सगाई
"आदरणीय सौरभ पांडेय जी, उत्साहवर्ध एवं सुझाव हेतु आपका हृदय से आभार व्यक्त करती हूँ।"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -ख़ुद को ऐसे सँवार कर जागा
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन। खूबसूरत गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
6 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service