For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

आसमान छूने की चाहत में

कितने दूर हो जाते हैं 

हम ज़मीन से.

 

रिश्तों की दीवारें

ढह जाती हैं

स्वार्थों की चोट से,

चढ़ जाती है 

स्नेह पर

गुरुत्व की परत,

चलते हैं

गडा कर नज़रें

आसमां पर

और कुचलते 

स्वप्न और अरमान 

अपनों के,

पैरों तले.

 

लेकिन पाते हैं एक दिन 

अपने आप को अकेला

दूर क्षितिज पर,

तरसते 

एक कोमल नन्हे हाथ को

जो पोंछ दे आंसू

अकेलेपन के.


Views: 273

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on September 4, 2011 at 5:45pm

कैलाश जी , इस रचना के मर्म को महसूस करना सबके बस की बात नहीं, ऐसे भाव भी अकस्मात् नहीं आते, बहुत ही सशक्त रचना बन पड़ी है, बहुत बहुत बधाई आपको |

Comment by Kailash C Sharma on September 3, 2011 at 3:13pm

बहुत बहुत शुक्रिया मोनिका जी, सौरभ जी और आशीष जी ...

Comment by आशीष यादव on September 3, 2011 at 1:37pm

आधुनिक जीवन की की यही सच्चाई हो गई है|
इस सच्चाई को आपने बखूबी लिखा है|
लेखनी को नमन है|


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on September 2, 2011 at 3:03am

जिस ढंग, परिपाटी और साधन को आजका मानव सफलता-प्राप्त करने का पर्याय समझ बैठा है उस सफलता की प्राप्ति उस मानव को फिर किस तरह के असहाय एकाकी जीवन जीने को अभिशप्त कर देती है, इस तथ्य को  कवि ने उजागर करने का प्रयास किया है. कवि कैलाशजी को शुभकामनाओं सहित बधाइयाँ. 

Comment by monika on September 2, 2011 at 2:01am

वाह बहुत खूब जीवन के सच को उजागर करती कविता

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीया रिचा यादव जी नमस्कार बहुत शुक्रिया आपका आपने समय निकाला मेरा हौसला बढ़ाया बहुत धन्यवाद…"
20 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय भाई लक्ष्मण जी सादर अभिवादन! बहुत शुक्रिया आपका आपने समय दिया मेरा हौसला बढ़ाया"
23 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहब आदाब बहुत शुक्रिया आपने वक़्त दिया और मेरी होसलाअफ़ज़ाई की…"
25 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय निलेश जी सादर अभिवादन बहुत शुक्रिया आपका आपने वक़्त निकाला ग़ज़ल तक आये और मेरा हौसला बढ़ाया!…"
32 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय सर जी जल्द स्वस्थ्य हो जाएं यही कामना करती हूँ।"
43 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय नादिर जी, नमस्कार ख़ूब ग़ज़ल हुई है, बधाई स्वीकार कीजिए गुणीजनों की इस्लाह क़ाबिले ग़ौर है। सादर"
44 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय नाहक़ जी, नमस्कार बहुत खूब हुई ग़ज़ल बधाई स्वीकार कीजिए। गुणीजन से सहमत हूँ, आमिर जी की इस्लाह…"
46 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय मुनीश जी, नमस्कार बहुत खूब हुई ग़ज़ल, बधाई स्वीकार करें, अमीर जी से सहमत हूँ सादर"
47 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय शुक्रियः आपका सादर"
55 minutes ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय बहुत शुक्रियः आपका सादर"
55 minutes ago
munish tanha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब अहंकार की जगह अभिमान एवं खाके जाने की जगह फीके दाने हो गए या फिर जो आपको…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-139
"आ. भाई दण्डपाणि जी, सादर अभिवादन। सुन्दर गजल हुई है। हार्दिक बधाई।"
1 hour ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service