For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कुछ सच्चाई जो हमेशा प्रभावी होती है, इक नज़र इधर भी...

1...हमें दूसरो के गुणों की प्रशंशा अवस्य करनी चाहिए/
2...सुनना तो हमें सबकी बातों को चाहिए,लेकिन करना हमेशा अपने मन का चाहिए/
3...हमें किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले अच्छी तरह से तैयारी कर लेनी चाहिए/साथ ही हमें बुरे परिणामो के लिए भी तैयार रहना चाहिए
4...अपने गुणों का स्वयं ही बखान करने से पाप और पुण्य दोनों का प्रभाव क्षीण हो जाता है/
5...किसी व्यक्ति को आप अच्छी खबर दे या ना दे,पर बुरी खबर देने से हमेशा बचे/
6...जो कार्य अगले दिन करनी हो,उसकी रूप-रेखा रात को ही तैयार कर लेना चाहिए/
7...किन्ही दो व्यक्तियों के बीच हिसाब पैसे पैसे का होना चाहिए/अन्यथा चंद पैसो की वजह से ही प्रगाढ़ सम्बन्ध भी ख़त्म हो जाते हैं/
8...यदि व्यक्ति के पास संतोष रूपी धन नहीं है तो विभिन्न प्रकार के धन मिटटी के समान है/
9...ध्यान रहे की पहला प्रभाव आखिरी प्रभाव होता है,इसलिए इसके प्रति विशेष जागरूक रहे/
10...जब किसी काम की शुरुआत अच्छी होती है तो आधा काम हुआ ही समझो,इसलिए किसी काम की शुरुआत यत्नपूर्वक सोच समझकर करनी चाहिए/
11...समय सबसे अधिक बलवान होता है,वह बड़े से बड़े घाव भी भर देता है,इसलिए हमें स्वयं को समय के हाथों सौप देना चाहिए/
12...जब भी कोई बड़ी समस्या सामने आये,तो पहले उसे छोटे-छोटे भागों में बाँट ले,तत्पश्चात उसे हल करे/
अधिक काम होने पर सर्वप्रथम सबसे छोटे और सरल काम को करे,उसके बाद क्रम से बड़े और कठिन कामों को करे/
13...हमारा भूतकाल कब्र में जा चूका है और भविष्य गर्व में है/यह केवल वर्तमान ही है जिसे हम जिस प्रकार चाहे जी सकते हैं/
14...इंसान बुरा नहीं होता बल्कि इंसान का वक़्त बुरा होता है/


और अब अंत में एक और सुन ली सभे.................

कहते हैं इंसान अगर जिंदगी से कदम मिला ले तो वो और भी आसान हो जाती है,पर कमबख्त जिंदगी है की हमेशा दो कदम आगे ही रहती है,पर इंसान का काम है चलते रहना...........

Views: 472

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on September 6, 2010 at 9:40pm
बिलकुल सही| गांठ बांधने वाली बातें हैं|
Comment by Naveen sinha on May 12, 2010 at 10:55am
great
Comment by PREETAM TIWARY(PREET) on April 7, 2010 at 12:07pm
bahut bahut dhanyabaad sabke ki ee lekh raua log ke pasand aail...bas ehe kosis baa ki kuch kuch useful jaankari hum det rahi...bas raua log aapan aashirbaad banawle rahi jaa aur ohi aashirbaad ke sahare hum kuch kuch likhat hi rahab...
Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 6, 2010 at 9:24pm
bahut badhiya sir ...........
aaj ke jamana me bahut kum hi aisan sukti sune ke milela ............
overall bahut badhiya lagal.
bahut bahut dhnyawad...............
Comment by Raju on April 6, 2010 at 7:58pm
Preetam bhaiya bahut hi badhiya seekh ba ee
Comment by Rash Bihari Ravi on April 6, 2010 at 5:52pm
bahut badhia
Comment by ISHIKA MISHRA on April 6, 2010 at 5:46pm
bahut badhiay preetam jee....agar insaan in sab batoon par amal karne to saari samasya hi khatam ho jayegi....saari baaton me alag alag tarah ki sachia hai preetam jee......
dhanybaad yahan share karne ke liye.....

Ishika Mishra
Comment by BIJAY PATHAK on April 6, 2010 at 4:54pm
Preetam ji gazab collection ba raur , agar aadmi i sab maan ke chali ta u kabhi galat ho hi na sakela
Bijay Pathak
Comment by Admin on April 4, 2010 at 5:00pm
बहुत बढ़िया जी, रौवा त जीवन के यथार्थ लिख देहले बानी, अगर उपर लिखल बात पर ध्यान दिहल जाव त बहुत सारा समस्या अपने आप ही ख़तम हो जाई,
धन्यबाद जी, प्रीतम जी,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Gurpreet Singh jammu's blog post ग़ज़ल - गुरप्रीत सिंह जम्मू
"आ. भाई गुरप्रीत जी, अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई। "
11 hours ago
Gurpreet Singh jammu commented on Gurpreet Singh jammu's blog post ग़ज़ल - गुरप्रीत सिंह जम्मू
"शुक्रिया आदरणीय सुशील सरना जी"
12 hours ago
Gurpreet Singh jammu commented on Gurpreet Singh jammu's blog post ग़ज़ल - गुरप्रीत सिंह जम्मू
" शुक्रिया आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर जी "
12 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हमें लगता है हर मन में अगन जलने लगी है अब
"हार्दिक बधाई आदरणीय मुसाफ़िर जी। लाजवाब ग़ज़ल। "
17 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

हमें लगता है हर मन में अगन जलने लगी है अब

१२२२/१२२२/१२२२/१२२२ बजेगा भोर का इक दिन गजर आहिस्ता आहिस्ता  सियासत ये भी बदलेगी मगर आहिस्ता…See More
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . . . .
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। बेहतरीन दोहे हुए हैं ।हार्दिक बधाई।"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . . . .
"आदरणीय सुशील सरना जी आदाब, बहुत ख़ूब दोहा त्रयी हुई है। विशेष कर प्रथम एवं तृतीय दोहा शानदार हैं।…"
yesterday
vijay nikore posted a blog post

धक्का

निर्णय तुम्हारा निर्मलतुम जाना ...भले जानापर जब भी जानाअकस्मातपहेली बन कर न जानाकुछ कहकरबता कर…See More
yesterday

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आ० सौरभ भाई जी, जन्म दिवस की अशेष शुभकामनाएँ स्वीकार करें। आप यशस्वी हों शतायु हों।.जीवेत शरद: शतम्…"
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा त्रयी. . . . . .

दोहा त्रयी. . . . . . ह्रदय सरोवर में भरा, इच्छाओं का नीर ।जितना इसमें डूबते, उतनी बढ़ती पीर…See More
Tuesday
अमीरुद्दीन 'अमीर' posted a blog post

ग़ज़ल (जो भुला चुके हैं मुझको मेरी ज़िन्दगी बदल के)

1121 -  2122 - 1121 -  2122 जो भुला चुके हैं मुझको मेरी ज़िन्दगी बदल के वो रगों में दौड़ते हैं…See More
Tuesday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post तेरे मेरे दोहे ......
"आ. भाई सौरभ जी, आपकी बात से पूर्णतः सहमत हूँ ।"
Monday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service