For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Abhay Kant Jha Deepraaj
  • Male
Share

Abhay Kant Jha Deepraaj's Friends

  • Nilesh Shevgaonkar
  • Ruchir Shukla
  • Yogendra B. Singh Alok Sitapuri
  • sanjeev sameer
  • anupama shrivastava[anu shri]
  • pandurang puranik
  • रंजना सिंह
  • shekhar jha`
  • rakhi budhiraja
  • madan kumar tiwary
  • Azeez Belgaumi
  • Bhasker Agrawal
  • VIBHUTI KUMAR
  • Akshay Thakur " परब्रह्म "
  • Roli Pathak
 

Abhay Kant Jha Deepraaj's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Gwalior - Madhya Pradesh
Native Place
Village - Sapta, District - Madhubani State - Bihar
Profession
Teaching & writting
About me
I am writting ghazals, poems songs in hindi & maithily.

Abhay Kant Jha Deepraaj's Photos

  • Add Photos
  • View All

Abhay Kant Jha Deepraaj's Blog

ग़ज़ल क्रमांक - २

ग़ज़ल / रचना पूर्व प्रकाशित होने के कारण एवं ओ बी ओ नियमों के अनुपालन के क्रम में प्रबंधन स्तर से हटाई जा रही है.

एडमिन

2014041807

Posted on April 18, 2015 at 2:00am — 8 Comments

ग़ज़ल क्रमांक - १

ग़ज़ल / रचना पूर्व प्रकाशित होने के कारण एवं ओ बी ओ नियमों के अनुपालन के क्रम में प्रबंधन स्तर से हटाई जा रही है.

एडमिन

2014041907

Posted on April 16, 2015 at 9:00pm — 2 Comments

GHAZAL - 28

                        ग़ज़ल



पूछिए मत किस तरह ?  घड़ियाँ  मुक़म्मिल कर रहा हूँ |

लोग  कहते  हैं  कि -  ज़िंदा  हूँ   मगर   मैं  मर  रहा  हूँ ||



तख्त    मेरा    बन    गया    ताबूत    अब    मेरे   लिए,

कब्र  तक जाने  का  ही  अब  फ़र्ज़  मैं  ये  कर  रहा   हूँ ||



रौशनी   भी  अब  तो   धुँधलापन   लिए   दिखने   लगी,

फिर भी, कल शायद सुबह हो,   इसलिए मैं लड़ रहा…
Continue

Posted on March 13, 2011 at 12:30am

GHAZAL - 27

                      ग़ज़ल



दोस्त   मेरी   दोस्ती   पर   नाज़   करके   देख   ले |

गीत  हूँ  मैं,  अपने  दिल  को  साज़  करके देख ले ||



मैं  तुझे  एक  शाह  का  रुतबा   दिला   दूँगा   कभी,

प्यार  से  तू  मुझको  अपना  ताज  करके  देख ले ||



गर  कभी  मैं  तल्ख़  था,   वो बदजुनूं था प्यार का,

दिल  नहीं  बदला  मेरा,   अंदाज़  कर  के  देख  ले ||



आज  भी  मैं  गुज़रे  कल  का  आदमी …
Continue

Posted on February 20, 2011 at 9:25pm — 1 Comment

Comment Wall (10 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 1:21pm on January 17, 2011, Abhinav Arun said…
शुक्रिया अभयकान्त जी आभारी हूँ |
At 9:34pm on January 16, 2011, Shamshad Elahee Ansari "Shams" said…
Abhay ji...main aapka bahut aabhaari hun...bahut bahut shukriya aapka
Sadar
At 10:56pm on January 5, 2011, Admin said…

aapka post kiya Desh Bhakti geet Maha Event mey post kar diya gaya hai .

http://www.openbooksonline.com/forum/topics/obo-3?commentId=5170231%3AComment%3A45067

At 10:21am on December 22, 2010, Pankaj Trivedi said…
Swagat..... Swagat...
At 1:16pm on December 19, 2010, anupama shrivastava[anu shri] said…

thax and welcome.........

At 3:08pm on December 17, 2010,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 11:43pm on December 16, 2010, Julie said…

अपनी दोस्ती से नवाजने का बहुत बहुत शुक्रिया... 'अभय जी'...!! -जूली

At 6:59am on December 16, 2010, Bhasker Agrawal said…

में समझा नही आप किस भाव के बारे में बात कर रहे हैं

At 9:42pm on December 12, 2010, Admin said…

At 7:11pm on December 7, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Saurabh Pandey's blog post खत तुम्हारे नाम का.. लिफाफा बेपता रहा // सौरभ
"आ. भाई सौरभ जी, सादर अभिवादन। लम्बे अंतराल पर आपकी मनभावन रचना पढ़कर मन हर्षित हुआ। हार्दिक बधाई।"
4 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Saurabh Pandey's blog post खत तुम्हारे नाम का.. लिफाफा बेपता रहा // सौरभ
"आदरणीय मेरा इशारा वाक्य विन्यास की ओर था, बादलो, इधर न आ.... या बादलो रुको ज़रा... दोनों में ही…"
8 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Saurabh Pandey's blog post खत तुम्हारे नाम का.. लिफाफा बेपता रहा // सौरभ
"उत्साहवर्द्धन के लिए आपका सादर धन्यवाद, आदरणीय अमीरुद्दीन ’अमीर’ बागपत्वी…"
13 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Saurabh Pandey's blog post खत तुम्हारे नाम का.. लिफाफा बेपता रहा // सौरभ
"आदरणीय सौरभ पाण्डेय जी आदाब, हज़ज मुरब्बा अश्तर मक़्बूज़ बह्र, अरकान- (फ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन…"
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post पाँच दोहे मेघों पर. . . . .
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। पावस पर सुन्दर दोहावली हुई है। हार्दिक बधाई।"
16 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Sushil Sarna's blog post पाँच दोहे मेघों पर. . . . .
"आदरणीय सुशील सरना जी आदाब, वर्षा ऋतु के आगमन पर सुंदर दोहावली हुई है, हार्दिक बधाई स्वीकार…"
16 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on नाथ सोनांचली's blog post मदिरा सवैया आधारित दो छन्द
"वाह, हार्दिक बधाई स्वीकारें< आदरणीय नाथ सोनांचली जी.  आपके रचनाकर्म का उत्कर्ष दूसरे छन्द…"
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey posted a blog post

खत तुम्हारे नाम का.. लिफाफा बेपता रहा // सौरभ

२१२ १२१२ १२१२ १२१२    चाहता रहा उसे मगर न बोल पा रहा उम्र बीतती रही मलाल सालता रहा   जिंदगी की…See More
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . .
"वाह वाह ! आदरणीय सुशील सरनाजी, छंदों के सांगोपांग रूप तो हमने बहुरे देखे-सुने हैं. लेकिन…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . .
"//परम आदरणीय चेतन प्रकाश जी मेरी अक्षम्य त्रुटियों को नजरअंदाज करते हुए जिस विशालता का परिचय दिया…"
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

पाँच दोहे मेघों पर. . . . .

पाँच दोहे मेघों पर . . . . .अम्बर में विचरण करे, मेघों का विस्तार  । सावन की देने लगी, दस्तक अब…See More
yesterday
AMAN SINHA posted a blog post

ले चल अपने संग हमराही

ले चल अपने संग हमराही, उन भूली बिसरी राहों मेंजहां बिताते थे कुछ लम्हे हम एक दूजे की बाहों में चल…See More
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service