For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"OBO लाइव तरही मुशायरे"/"OBO लाइव महा उत्सव"/"चित्र से काव्य तक" प्रतियोगिता के सम्बन्ध मे पूछताछ

"OBO लाइव तरही मुशायरे"/"OBO लाइव महा उत्सव"/"चित्र से काव्य तक" प्रतियोगिता के सम्बन्ध मे यदि किसी तरह की जानकारी चाहिए तो आप यहाँ पूछताछ कर सकते है !

Views: 10413

Reply to This

Replies to This Discussion

आप मुझे शाम में फ़ोन कर लें मैं गा कर कोशिश करूँगा कि आपको धुन बता सकूँ |

०९४३१२८८४०५

yahi message box me likh de to achha rahega.....waise mai phone bhi kar sakta hu...jaisa aap kahe...

aadarniye admin sir is bar ke live tarahee mushayre 25 mein jo misra diya gaya hai uski bahar ka naam nahin bataaya gaya hai ...har bar ki tarah is bar bhi bahar ka naam de diya jaye to achcha hoga 

भाई शरीफ़ अहमद क़ादरी ’हसरत’ साहब,  इस बार के मुशायरे (अंक 25) में दिया गया मिसरा है - यह हमारे वक़्त की सबसे सही पहचान है .  इस बह्र का नाम है -  बहरे रमल मुसमन महज़ूफ़

धन्यवाद.

  • "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" के इस अंक से प्रति सदस्य अधिकतम दो गज़लें ही प्रस्तुत की जा सकेंगीं |
  • शायर गण तरही मिसरा मतले में इस्तेमाल न करें
  • वे साथी जो ग़ज़ल विधा के जानकार नहीं, अपनी रचना वरिष्ठ साथी की इस्लाह लेकर ही प्रस्तुत करें.


    jay ho jai ho

    dil khush ho gaya yah padh kar

जानकारी के लिए आपका धन्यवाद..! अब एक ग़ज़ल के लिए मेहनत नहीं करनी पड़ेगी.. मगर एक कमी भी रह जाएगी.. अभ्यास की..!!

नये नियम समीचीन हैं.

सादर

namaskar admin sir is bar ke tarahi mushayre 31 me jo misra diya gaya hai isme bataya gaya he ki mool ghazal me 8 ruqn hein lekin yahan par 4 ruqni misra diya gaya he ....mujhe ye jan na he ki humko ghazal 4 ruqni kehni he ya 8 ruqni ........krpiya samjha dein.........

हसरत साहब जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि मुशायरे में दिया गया मिसरा ४ रुकनी ही है इसलिए आपको अपनी गज़लभी ४ रुकनी मिसरों पर ही कहनी है| दूसरी बात यही कि तरही मिसरा आपको लेना ही है ..किसी भी शेर के मिसरा ए सानी में तो अपने आप गाज़ल ४ रुकनी हो जायेगी .....बहरे मुतकारिब मुसम्मन सालिम अर्थात फऊलुन फऊलुन फऊलुन फऊलुन| 

आपको मूल ग़ज़ल से कुछ भी लेना देना नहीं है, वो तो केवल जानकारी हेतु मंच संचालक जी ने बताया है, आप केवल तरही मिसरा पर ध्यान दें जो केवल 4 रुक्न का है अतः आपकी ग़ज़ल भी 4 रुक्नों की ही होगी ।

dhanyawad sir

तरही   मुशायरे  32 के  लिए तरही   ग़ज़ल।

     युग मशीनों का इंसा बेकाम है

     नित नए खोजों का ये अंजाम है।

     होठ पे मय के छलकते जाम है

     नाम उनके ही गुज़रती शाम है।

     कर गए जो काम करना था किया

     अब यहाँ आराम ही आराम है।

     सिल के मुह बैठे रहो तो ठीक है

     खुल गया जो मौत ही ईनाम है।

     हाथ के छालों को देखा "मन्जरी "

     फूट कर भी मिल न पाया दाम है।

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा पंचक. . . . .
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। अच्छे दोहे हुए है। हार्दिक बधाई। लेकिन यह दोहा पंक्ति में मात्राएं…"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"आ. भाई बलराम जी, सादर अभिवादन। शंका समाधान के लिए आभार।  यदि उचित लगे तो इस पर विचार कर सकते…"
17 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा पंचक. . . . .

दोहा पंचक. . . .साथ चलेंगी नेकियाँ, छूटेगा जब हाथ ।बन्दे तेरे कर्म बस , चलेंगे  तेरे  साथ ।।मिथ्या…See More
22 hours ago
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"//सच्चाई अभी ज़िन्दा है जो मुल्क़ में यारो इंसाफ़ को फ़िर लोग बिना डर के सदा नहीं देते // सानी…"
23 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार आदरणीय जी"
yesterday
Balram Dhakar commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी, सादर नमस्कार। आपकी शिरकत ग़ज़ल में हुई, प्रसन्नता हुई। आपकी आपत्ति सही है,…"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"आ. भाई बलराम जी, सादर अभिवादन। बेहतरीन गजल हुई है। हार्दिक बधाई।  क्या "शाइर" शब्द…"
yesterday
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल-रफ़ूगर

121 22 121 22 121 22 सिलाई मन की उधड़ रही साँवरे रफ़ूगर सुराख़ दिल के तमाम सिल दो अरे रफ़ूगर उदास रू…See More
yesterday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी नमस्कार। हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
yesterday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय ब्रजेश कुमार ब्रज जी हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
yesterday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"स आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। आदरणीय ग़ज़ल पर इस्लाह देने के लिए बेहद शुक्रिय: ।सर् आपके कहे…"
yesterday
Usha Awasthi posted a blog post

सौन्दर्य का पर्याय

उषा अवस्थी"नग्नता" सौन्दर्य का पर्याय बनती जा रही हैफिल्म चलने का बड़ा आधारबनती जा रही है"तन मेरा…See More
yesterday

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service