For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

काल के चूल्हे पर

काठ की हांडी

चढ़ाते हो बार बार .

हर बार नयी हांडी

पहचानते नहीं काल चिन्ह को

सीखते नहीं अतीत से .

दिवस के अवसान पर

खो जाते हो

तमस के आवरण के भीतर

रास रंग और श्रृंगार में .

आँखों पर चढ़ा लिया

झूठ और ढकोसले का चश्मा.

अपनी कायरता को प्रगतिशीलता का नाम दे दिया.

तुम्हे साफ़ दिखाई नहीं देता.

तुम सच देखना भी नहीं चाहते .

क्षणिक स्वार्थों ने तुम्हे अँधा कर दिया.

पर याद रखना

निरपेक्षता , निष्क्रियता से बड़ा अपराध है .

हिजड़ों का भी एक अपना पक्ष होता है ..

…………. नीरज ‘नीर’

पूर्णतः मौलिक एवं अप्रकाशित ..

Views: 501

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Neeraj Neer on September 9, 2013 at 5:28pm

आ . सुधीर कुमार सोनी जी आभार.. 

Comment by Neeraj Neer on September 9, 2013 at 5:27pm

आदरणीय लक्ष्मण प्रसाद लड़ी वाला जी हार्दिक आभार .

Comment by Neeraj Neer on September 9, 2013 at 5:26pm

अरुण भाई बहुत बहुत आभार.

Comment by Neeraj Neer on September 9, 2013 at 5:26pm

आपका बहुत बहुत आभार आदरणीय वंदना तिवारी जी..

Comment by Vindu Babu on September 9, 2013 at 5:13pm
मानव जीवन यथार्थ बयां करती हुई गहन प्रस्तुति!
आपको ढेरों बधाई आदरणीय नीरज जी!
सादर
Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on September 2, 2013 at 9:38am

सचमुच आपने सही तथ्य उजागर किये है । आज यही तथाकथित प्रगतिशीलता रह गयी है ।
हार्दिक बधाई बधाई स्वीकारें नीरज कुमार नीर जी

Comment by sudhir kumar soni on September 1, 2013 at 10:54pm

सुंदर कविता है ,शुभकामनायें

Comment by अरुन शर्मा 'अनन्त' on September 1, 2013 at 12:24pm

लाजवाब लाजवाब नीरज भाई जी बेहद सुन्दर रचना मन प्रसन्न हो गया हार्दिक बधाई स्वीकारें.

Comment by Neeraj Neer on September 1, 2013 at 9:18am

हार्दिक आभार आदरणीय वीनस केसरी जी . आपके कमेन्ट से हौसला बढ़ा है .

मैं काश वह सीख पाता जिसके आप उस्ताद हैं . मैं  बाबहर ग़ज़ल लिखना सीखना चाहता हूँ, अभी तक संभव नहीं हो पाया .. स्नेह बनाये रखिये .. 

Comment by Neeraj Neer on September 1, 2013 at 9:14am

आदरणीया  विजय  श्री जी आभार.. 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"फांस - लघुकथा - "अरे शुक्ला साहब आप यहाँ?  मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा अपनी आँखों…"
10 minutes ago
Mohan Begowal replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"   आदरनीया अर्चना जी, इस सोच में उलझे जा रहा हूँ , ये रिश्ते सच में मिथ्या हैं, या जिस…"
10 minutes ago
Mohan Begowal replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"  आदरनीया बबिता जी , जिस दौर से मानव गुजर रहा , बहुत कुछ समाज में पहले से है और कुछ नया…"
18 minutes ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"आत्मकथ्यात्मक शैली में लघुकथा कहने का प्रयास हुआ है. कथानक बेहद उम्दा, लेकिन प्रस्तुति व सम्प्रेषण…"
29 minutes ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल -मनोज अहसास
"जनाब, मनोज कुमार 'अह्सास' जी, आदाब। ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें। मेरा इस…"
34 minutes ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post करता रहा था जानवर रखवाली रातभर - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी आदाब। अच्छी ग़ज़ल हुई है बधाई स्वीकार करें। कुछ सुझाव…"
49 minutes ago
babitagupta replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"बिलकुल सर हुआ। बहुत-बहुत धन्यवाद, दिशा निर्देशित करने के लिए सरजी।"
49 minutes ago
namita sunder replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"मर्यादा ''ये कौन सा समय हैऑफिस से घर लौटने का? शिशिर कब का घर आ चुका है, इस घर की मर्यादा…"
52 minutes ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"आपकी रचना की पंक्चुएशन थोड़ी दुरुस्त की है आ० अर्चना तिवारी जी, बताइएगा सम्प्रेषण कुछ बेहतर हुआ कि…"
1 hour ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"ज़रा देखकर बताएँ आ० बबिता गुप्ता जी, सम्प्रेषण कुछ बेहतर हुआ कि नहीं? . मर्यादा प्लेटफ़ॉर्म पर…"
1 hour ago

मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi" replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)
"लघुकथा : अन्योन्याश्रयअक्सर मेरी नींद उनकी किचकिच की आवाज़ों से ही टूटती थी । मेरी मकान मालकिन…"
1 hour ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post आज कल झूठ बोलता हूँ मैं
"रूपम कुमार जी, शुभ - शुभ। धन्यवाद। "
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service