For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Saurabh Pandey's Comments

Comment Wall (131 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 4:39pm on October 23, 2014, Sushil Sarna said…

आपको  सपरिवार ज्योति पर्व की हार्दिक एवं मंगलमय शुभकामनाएं...

At 11:49am on September 6, 2014, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय सौरभजी

महनीया सीमा जी के हिन्दी नवगीत पर मेरी टिप्पणी के निहितार्थ भी होंगे  इस सम्भावना  पर मैंने शायद उस समय विचार नहीं किया I  जो बात मन में आयी  वैसे ही कह दी I इससे सीमा जी को भी आघात लगा होगा i मै आपसे और सीमा जी  दोनों से क्षमा प्रार्थी हूँ I  मेरा अनुरोध है कि -'' सार सार को गहि रहे थोथा देय उडाय i''

सादर i

At 9:41pm on August 7, 2014, पं. प्रेम नारायण दीक्षित "प्रेम" said…
प्रिय पाण्डेय जी मुक्तको के प्रति आपके समालोचनात्मक चिंतन के प्रति साधुबाद। फिर कई सूत्र नई धुन के रुई निकले है के प्रति मेरा यह कहना है की रुई सूत्रो का राशि पिंड है जिसमे रुई एकवचन है और सूत्र बहुवचनांत ;जैसे सूर्य किरणो का राशि पिंड है सूर्य एकवचन और किरणे बहुवचनान्त। सूर्य में अनेको किरणे समाहित है इसी प्रकार रुई में अनेको सूत्र समाहित है। स्त्री लिंग रुई के रेशे को कात कर जो सूत्र बनता है वह पुल्लिंग हो जाता है।
At 8:58pm on June 15, 2014, mrs manjari pandey said…
आदरणीय सौरभ जी हमेशा की तरह हौसला बढ़ाया है मेरा. बहुत बहुत धन्यवाद। मै इन दिनों आस्ट्रेलिया में हूँ नाती दिन भर तो कुछ करने ही नहीं दे सकता. अतः जैसे तैसे सहभागिता बस हुई है।
At 2:37pm on March 16, 2014, Sushil Sarna said…

मेरी ओर से होली के पावन पर्व पर सपरिवार आप को होली की शुभकामनाएं। उस परम पिता परमेश्वर से प्रार्थना है कि वो सदा आपके आँगन में खुशियों के रंग बिखेरता रहे।

सुशील सरना

At 1:21pm on February 7, 2014, Sushil Sarna said…

आदरणीय सौरभ पाण्डेय जी , नमस्कार - मेरे द्वारा प्रेषित ग़ज़ल पर आपकी प्रतिक्रिया का हार्दिक आभार।  सर सच कहूँ तो मुझे रदीफ़, काफिया और बह्र तो समझ आते हैं लेकिन मात्राओं का ज्ञान ग़ज़ल में समझ में नहीं आया हालांकि हिंदी में मात्राओं को मैं समझता हूँ।  इसके दीर्घ और लघु स्वरों की गिनती हिंदी से कुछ अलग लगती है।  अपने भावों को रदीफ़ और काफिये के नियम के साथ मेल करके ग़ज़ल लिखने की कोशिश की है।  मुझे ज्ञान तभी मिलेगा जब मैं जो जानता हूँ उसे उसी रूप में मंच पर प्रस्तुत करूं ताकि आप जैसे गुणी जनों की जब नज़र-ए-करम हो तो भावों को वो ज़मीन मिल सके जिसपर मैं भावों की महक के पुष्प खिला सकूं।  इतनी बात मैं अपने ब्लॉग में नहीं लिख सकता था इसलिए क्षमा सहित आपके पृष्ठ पर लिख रहा हूँ। पुनः आपके स्नेह का हार्दिक आभार। 

At 8:09am on February 5, 2014, ARVIND BHATNAGAR said…

आदरणीय सौरभ भाई जी
हौसला अफ़ज़ाई का शुक्रिया । अपनी कवितायेँ पोस्ट करने के बाद दम साधे आपकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार करता हूँ , जिस से अपने को जानने का मौका मिलता है ।

At 12:58am on January 25, 2014, RAMESH YADAV said…

क्या बात है कितनी प्यारी रचनाएं है

At 7:35pm on January 8, 2014, Dr Dilip Mittal said…

" क्षणिकाये पसंद आने के लिये  धन्यवाद  "

At 2:57pm on December 15, 2013, Sushil Sarna said…

Resp.Sir, kripya maargdarshan krain ki main apnee prvishti motsav ke liye khaan aur kaise post kroon, kripya maargadarshan krain...filhaal main aapko apnee prvishti preshit kr rhaa hoon...kripya use ytha sthan pr shaamil kr anugrahit krain, dhnyvaad..

sushil sarna

prvishti hai :

"ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 38
विषय - पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा !

विधा - रोला छंद

तज प्राणों का मोह ,वतन पे जान लुटाना
करे देश अभिमान , तिरंगा तन पे लगाना

कर दुश्मन का नाश ,लौट कर घर को आना
कायर माथे कलंक ,कभी न खुद को लगाना

हो भारत को नाज़ ,सपूत सच्चा बन जाना
बचा देश की लाज़ ,इक इतिहास बन जाना

मिट जाना मिट्टी पर ,मिट के अमर हो जाना
गूंजे जग में नाम,कोख की शान बढ़ाना

सुशील सरना

मौलिक एवं अप्रकाशित

At 11:39am on December 6, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय सौरभ जी

      आपका  मार्ग  दर्शन समय  समय  पर  मिलता  रहे i  इस कामना के साथ निवेदन ही कि युयुत्सु से मेरा तात्पर्य केवल युद्ध के लिए उद्दत से ही है  पर आपने मेरी  जानकारी  और् बढ़ा दी i

सादर आभार i 

At 8:59pm on December 5, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय

मै तो इसे आप जैसे अनुभावों की कृपा मात्र समझता हूँ i

मै तो महज एक स्टूडेंट हूँ  i

आपके मार्ग दर्शन पर चलू तो यही मेरी सफलता है i

सादर i

At 10:51pm on December 3, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय

सौरभ  जी दूं  आपको , भावों  का उपहार i

जीवन में आये सदा , यह दिन बारम्बार  ii

At 11:58am on December 3, 2013,
सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh
said…

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं आदरणीय सौरभ जी.

At 8:50am on December 3, 2013, बृजेश नीरज said…

आदरणीया सौरभ जी,

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें! ओबीओ सदस्यों को आपका मार्गदर्शन सदा मिलता रहे, ये साहित्य की धारा अनवरत बहती रहे, यही ईश्वर से प्रार्थना है!

At 7:15am on December 3, 2013, Ashok Kumar Raktale said…

आदरणीय सौरभ जी सादर,

                                   जन्मदिन की हार्दिक बधाई स्वीकारें. आपका सहयोग मुझे और अन्य नव रचनाकारों को सदैव मिलता रहे.इश्वर आपके जीवन को सदैव उल्लासमय रखे और हमें बार बार आपको शुभकामना देने का अवसर प्रदान करे.सादर.

At 6:42am on December 3, 2013, CHANDRA SHEKHAR PANDEY said…
जन्मदिवस की हार्दिक बधाईयाँ सर।

सादर नमन
At 1:07am on December 3, 2013, जितेन्द्र पस्टारिया said…

" जन्मदिन की  आपको हृदय से शुभकामनाये आदरणीय सौरभ जी"

At 5:19am on December 1, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय  सौरभ जी

      आपकी विचक्षण योग्यता से अभिज्ञ हूँ i नत  मस्तक भी हूँ i  दोहे की रचना के सम्बन्ध में आपसे क्या कह सकता हूँ i मेरे मतानुसार  दोहे के जितने भेद व् उपभेद वर्तमान  काव्य शास्त्रियों ने खोज लिए है शायद पहले न रहे हो i इस समाय शायद २२ या 23 भेद सामने आ चुके है i माँ सरस्वती के स्मरण में दोहे  की रचना के समय  मेरे  सामने दो लक्ष्य थे i प्रथम जो संकेत  आपने छंदोत्सव के रचना काल में श्री अखिलेश जी को दिये थे  i उसमे आपने दोहे के आदि चरण के संयोजन के दो विकल्प दिए थे ३,३,2,३,2 या फिर ४,४,३,2 इसी प्रकार सम चरण के लिए आपने दो विकल्प दिए थे ४,४,३ और ३,३,३,2, मैंने इनमे ४,४,३,2 और ४.४.३ का चुनाव्  किया

           दूसरा आश्रय मैने कबीर जी के निम्नांकित  दोहे का लिया

 

माली आवत देख कर, कलियन करी पुकार i

 ४       ४    ३    2      ४        ४    ३

फूली  फूली  चुनि  लई, काल्हि  हमारी बार ii

 ४       ४        ३   2         ४    ४   ३

 

           आदरणीय बस मैंने इतना ही निर्वाह किया है i इसमें जो भी त्रुटि  हो कृपया  मार्ग दर्शन करने की कृपा करे i मै गुनीजनो से यावज्जीवन  सीखने के लिए प्रतिबद्ध हूँ i मुझसे उक्त कथन में  यदि कोई चूक हुयी ही तो कृपया आदरणीय छमा करेंगे i आपका शत शत आभार जो आपने इतना अनुग्रह किया और रचना में रूचि ली i  सादर i

At 8:20pm on November 17, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

सौरभ जी

आपकी प्रतिक्रयाये मार्ग दर्शी ही होती है i आपके परिहास ने भी मुस्कराने पर मजबूर किया i अन्वेषण को यदि मैं ग़ज़ल मानता तो शायद  वह बिना मतले की ग़ज़ल होती  i मैं हिंदी का विद्यार्थी हूँ i  मेरे  शिक्षण  काल  में हिंदी में गज़लों का इतना प्रचार प्रसार नहीं था i परन्तु अब तो लोग बस गजल ही लिखते है i मेरी रूचि छंदों में है  i कुछ गज़ले भी समय के प्रवाह के साथ शायद आपको देखने को मिले i 

कौन पूंछता इन फूलो को सौरभ अगर नहीं होता i

देव तरसते रहते लेकिन पूजन स्यात नहीं होता ii    सद्मरचित   

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post एक ताज़ा ग़ज़ल
"जनाब अनीस अरमान जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना के लिये आपका आभारी हूँ ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post एक ताज़ा ग़ज़ल
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना के लिये आपका आभारी हूँ ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post एक ताज़ा ग़ज़ल
"जनाब तेजवीर सिंह जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना के लिये आपका आभारी हूँ ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post एक ताज़ा ग़ज़ल
"जनाब अमीरुद्दीन 'अमीर' जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना के लिये आपका आभारी हूँ ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post एक ताज़ा ग़ज़ल
"जनाब चेतन प्रकाश जी आदाब, ग़ज़ल की सराहना और टंकण त्रुटि की तरफ़ ध्यान दिलाने के लिये आपका आभारी हूँ ।"
1 hour ago
Sushil Sarna commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
"वाह आदरणीय जी यथार्थ भावों की सहज अभिव्यक्ति । एक शानदार गजल । हार्दिक बधाई सर"
8 hours ago
Chetan Prakash posted a blog post

वो बेकार है

  1212     1122     1212      22 / 112 तमाम उम्र सहेजा मगर वो बेकार है  अजीब बात है शाइर डगर वो…See More
10 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post प्रश्न .....
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी कविता हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
23 hours ago
Samar kabeer commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
"जनाब सौरभ पाण्डेय जी आदाब, बहुत दिनों बाद ओबीओ पर आपकी ग़ज़ल पढ़ने का मौक़ा मिला है । ग़ज़ल हमेशा की तरह…"
23 hours ago
Chetan Prakash commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
"नमस्कार, आदरणीय  सौरभ  साहब,  ग़ज़ल प्रथम श्रेणी  का काव्य  है, आपकी…"
yesterday
Chetan Prakash commented on Sushil Sarna's blog post प्रश्न .....
" नमन,  सुशील  सरना  साहब,  अंतस की विवरणिका  है, आदरणीय आप की …"
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : कामकाजी बेटियों का खिलखिलाना भा गया // -- सौरभ
" आ० चेतन प्रकाश जी आप ग़ज़ल को समझें.  ओबीओ की पाठकीयता इतनी निरीह नहीं है. या…"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service