For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

मुखौटे
हर तरफ मुखौटे..
इसके-उसके हर चहरे पर
चेहरों के अनुरूप
चेहरों से सटे
व्यक्तित्व से अँटे
ज़िन्दा.. ताज़ा.. छल के माकूल..।

मुखौटे जो अब नहीं दीखाते -
तीखे-लम्बे दाँत, या -
उलझे-बिखरे बाल, चौरस-भोथर होंठ
नहीं दीखती लोलुप जिह्वा
निरंतर षडयंत्र बुनता मन
उलझा लेने को वैचारिक जाल..
..... शैवाल.. शैवाल.. शैवाल..

तत्पर छल, ठगी तक निर्भय
आभासी रिश्तों का क्रय-विक्रय
होनी तक में अनबुझ व्यतिक्रम
अनहोनी का प्रति पल संशय..
जो उस पल अनुचित, इस पल उचित
जो इस पल अनुचित, उस पल उचित
संशय.. संशय.. संशय
व्याप्त कराता अहिर्निश भय ।

निर्लज्ज क्षुधा का सचल स्वरूप
वीभत्स लोभ का स्थूल प्रारूप
व्यापक होने की दानवी हठ
भरमा देने की पीड़क धुन
भाव नहीं अब सूक्ष्म तनिक भी
स्थूल.. स्थूल.. हर कुछ स्थूल - ज़िन्दा.. ताज़ा.. छल के माकूल ।

कैसे वर्ग
कैसे कक्ष
कैसे ध्रुव
कैसे अक्ष
वाकपटु व्यवहार-विचार
शब्द-नियोजन, रंगा परमार्थ
शब्द-जाल, अश्लीलतम स्वार्थ
सम्बन्ध हुआ ऊँकड़ू समूल.. ज़िन्दा.. ताज़ा.. छल के माकूल ।

तत्त्व-सार तीक्ष्ण खंजर सा
व्यवहार परस्पर अंध-गह्वर सा
आरी-सा दाँतुल छलकता प्यार
हर कंधा अगला - उन्नति द्वार..!

घात संयोजन पूर्ण व्यवस्थित
पल-पल, क्षण-क्षण मनस अचंभित..
टीसती मधुता, स्वप्न में उलझन
विश्वास पीड़ित, त्रासद घुटन
समय-घड़ी दिन-प्रहर प्रतिकूल..
कार्य-संपादन क्रिया नियंत्रण..
रोम-रोम में, शिरा-शिरा में असह्य वेदना
संदर्भ आह के शूल-त्रिशूल.. ज़िन्दा.. ताज़ा.. छल के माकूल ।
मुखौटे -
हर तरफ मुखौटे ..
चेहरों के अनुरूप
चेहरों से सटे
व्यक्तित्व से अँटे - ज़िन्दा.. ताज़ा.. छल के माकूल.. ।

Views: 229

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on September 28, 2010 at 6:19pm
तत्त्व-सार तीक्ष्ण खंजर सा
व्यवहार परस्पर अंध-गह्वर सा
आरी-सा दाँतुल छलकता प्यार
हर कंधा अगला - उन्नति द्वार..!

वोह क्या कहू मैं निशब्द हूँ , कभी कभी महसूस होता है की क्यू ना OBO ५ साल और पहले लेकर आया ताकि ऐसे ऐसे विद्वानों की संगति और पहले हुई होती | बहुत बढ़िया सौरभ सर , बधाई इस खुबसूरत रचना पर ,
Comment by Pooja Singh on September 28, 2010 at 12:38pm
आदरणीय सौरभ जी ,
प्रणाम आज के परिवेश के अनुसार आपने बहुत ही सही कहा है , की {निर्लज्ज क्षुधा का सचल स्वरूप
वीभत्स लोभ का स्थूल प्रारूप
व्यापक होने की दानवी हठ
भरमा देने की पीड़क धुन
भाव नहीं अब सूक्ष्म तनिक भी
स्थूल.. स्थूल.. हर कुछ स्थूल - ज़िन्दा.. ताज़ा.. छल के माकूल ।
मुखौटे -
हर तरफ मुखौटे ..
चेहरों के अनुरूप} बढिया है , यह व्यंग भरी कविता " हर चेहरे के उपर एक चेहरा है " बधाई स्वीकार करे |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Admin posted discussions
3 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत बहुत शुक्रिय: मुहतरमा प्रतिभा पाण्डेय जी, सलामत रहें ।"
6 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय समर कबीर साहब को( विलंब के लिये क्षमा के साथ) जन्मदिन की अशेष शुभकामनाएँ। आप सदा स्वस्थ रहें…"
6 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत बहुत शुक्रिय: भाई अरुण कुमार निगम जी ।"
9 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय समीर कबीर साहब को जन्म दिन की हार्दिक बधाइयाँ"
9 hours ago
सालिक गणवीर posted a blog post

हालत जो तेरी देखी है हैरान हूँ मैं भी....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)

221-1221-1221-122हालत जो तेरी देखी है हैरान हूँ मैं भी कोने में पड़ा घर के परेशान हूँ मैं भी (1)गर…See More
18 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post उम्मीद .......
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब, आदाब - सृजन के भावों को आत्मीय मान से सम्मानित करने का दिल से आभार । आप की…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post ओजोन दिवस के दोहे
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब, सभी दोहों को एक साथ कविता की तरह पढ़ने पर ओज़ोन दिवस के…"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक दोहा गज़ल - प्रीत - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी मैंने आपकी टिप्पणी को सही परिप्रेक्ष में पढकर ही उसकी व्याख्या की । आपकी बात…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post उम्मीद .......
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी पर्वाज़ ली है, कविता भावपूर्ण हुई है। मगर अन्त 'झूठ ही…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक दोहा गज़ल - प्रीत - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी, लगता है आपने मेरी टिप्पणी को ध्यान से नहीं देखा है, मुझे आपकी…"
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

उम्मीद .......

उम्मीद .......मैं जानती हूँ बन्द साँकल में कोई आवाज नहीं होती मगर होती हैं उसमें उम्मीद की…See More
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service