For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

रफ़ी का एक सदाबहार नगमा--------------भाग-2

फिल्म-- हीर राँझा
गायक-- रफ़ी
गाना का बोल-- ये दुनिया ये महफ़िल

ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....
ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

किसको सुनाऊ हाल दिल-ए-बेकरार का
बुझता हुआ चिराग हूँ अपने मजार का..
ए काश भूल जाऊ मगर भूलता नहीं...
किस धूम से उठा था जनाज़ा बहार का....
ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

अपना पता मिले न खबर यार की मिले....
दुश्मन को भी ना ऐसी सजा प्यार की मिले...
उनको खुदा मिले है जिनको खुदा की है तलाश....
मुझको बस एक झलक मेरे दिलदार की मिले......
ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

सेहरा में आके भी मुझको ठिकाना ना मिला...
ग़म को भुलाने का कोई बहाना ना मिला....
दिल तरसे जिसमे प्यार को..क्या समझू उस संसार को...
एक जीती बाज़ी हार के मैं दुंदु बिचरे यार को....
ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

दूर निगाहों से अंशु बहता है कोई..
कैसे ना जाऊ मैं मुझको बुलाता है कोई.....
या टूटे दिल को जोर दो या सारे बंधन तोड़ दो...
ए पर्वत रास्ता दे मुझे..ए काटो दामन छोड़ दे..
ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....
ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

Views: 751

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 19, 2010 at 10:05pm
preetam jee kaha jata hai ki चावल जेतने पुराना होला ओतने महंगा होला आ कीमत भी होला isliye is geet ka bol aur madhur aawaj aaj bhi dil ko chhu lete hai.

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 19, 2010 at 2:13pm
वाह भाई वाह ये गीत तो मुझे काफी पसंद है, जिस अंदाज मे रफ़ी साहब ने इस गीत को गया है, वो आँखों मे आंशु लाने के लिये काफी है ,धन्यबाद प्रीतम जी इस गीत को यहाँ पोस्ट करने के लिये,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Admin posted discussions
3 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत बहुत शुक्रिय: मुहतरमा प्रतिभा पाण्डेय जी, सलामत रहें ।"
7 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय समर कबीर साहब को( विलंब के लिये क्षमा के साथ) जन्मदिन की अशेष शुभकामनाएँ। आप सदा स्वस्थ रहें…"
7 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत बहुत शुक्रिय: भाई अरुण कुमार निगम जी ।"
9 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय समीर कबीर साहब को जन्म दिन की हार्दिक बधाइयाँ"
10 hours ago
सालिक गणवीर posted a blog post

हालत जो तेरी देखी है हैरान हूँ मैं भी....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)

221-1221-1221-122हालत जो तेरी देखी है हैरान हूँ मैं भी कोने में पड़ा घर के परेशान हूँ मैं भी (1)गर…See More
18 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post उम्मीद .......
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब, आदाब - सृजन के भावों को आत्मीय मान से सम्मानित करने का दिल से आभार । आप की…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post ओजोन दिवस के दोहे
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब, सभी दोहों को एक साथ कविता की तरह पढ़ने पर ओज़ोन दिवस के…"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक दोहा गज़ल - प्रीत - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी मैंने आपकी टिप्पणी को सही परिप्रेक्ष में पढकर ही उसकी व्याख्या की । आपकी बात…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Sushil Sarna's blog post उम्मीद .......
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी पर्वाज़ ली है, कविता भावपूर्ण हुई है। मगर अन्त 'झूठ ही…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post एक दोहा गज़ल - प्रीत - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी, लगता है आपने मेरी टिप्पणी को ध्यान से नहीं देखा है, मुझे आपकी…"
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

उम्मीद .......

उम्मीद .......मैं जानती हूँ बन्द साँकल में कोई आवाज नहीं होती मगर होती हैं उसमें उम्मीद की…See More
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service