For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

दूर क्षितिज प्राची की लाली ,

अरे बावरी ओ मतवारी ,

उस पल को तूँ विस्मृत कर दे ,

जीवन मे विष को जो भर दे ,

इंद्रव्रज्या नही  बन दधीचि तूँ ,

परम दंभ का ना बन प्रतीक तूँ ,

कण्ठ गरल मुख पर मुस्कान ,

सरल हृदय मुख कांतिमान ,

दो काष्ठों के संधि बीच ,

प्रलय निशा है रही खींच ,

बने अमरता की प्रतीक तूँ ,

परिवर्तन की अग्रदूत तूँ ,

मृत्यु सदृश्य शीतल निराश ,

विश्व देव का तू प्रकाश ,

हे प्रकृति की चंचल तुरंग ,

निर्बाध भ्रमण कर तूँ विहंग ,,

Views: 383

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी on March 16, 2012 at 9:05pm
पर आपने द्वितीय पंक्ति में बावरी मतवारी शब्द का प्रयोग किया है जिस पर मेरी टिप्पणी में लिखा धीरोदात्त नायक शब्द सटीक नहीं बैठता पर उसे नायिका के संदर्भ में देखे।

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on March 16, 2012 at 9:03pm

पुरानी शैली की रचनाओं की याद हो आयी. सकारात्मकता को प्रति शब्द स्थापित करती रचना.

सार्थक प्रयास के लिये बधाई, अश्विनीजी.

Comment by विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी on March 16, 2012 at 9:01pm
अश्विनी जी अच्छी कविता है।आपकी रचना का प्रतिपाद्यय धीरोदात्त नायक जैसा लगता है जो वीर भी है।अच्छी सी कविता के लिए खूबसूरत बधाई।
सादर!
Comment by Chaatak on March 16, 2012 at 8:39pm

स्नेही अग्रज, सादर अभिवादन, इस बेहद खूबसूरत रचना के लिए हार्दिक बधाई!

Comment by MAHIMA SHREE on March 16, 2012 at 3:49pm
उस पल को तूँ विस्मृत कर दे ,
जीवन मे विष को जो भर दे ,

अश्विनी जी नमस्कार ...
भाव बड़े ही सुंदर है......बधाई.
Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on March 16, 2012 at 2:22pm

संपूर्ण कृति. समस्त बधाई स्वीकार करें  महोदय जी ,

Comment by संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी' on March 16, 2012 at 11:34am

बहुत ही सुंदर कविता| स्वागत है आपका, :)

Comment by AVINASH S BAGDE on March 16, 2012 at 11:02am

बने अमरता की प्रतीक तूँ ,

परिवर्तन की अग्रदूत तूँ ,...sunder kavita Ashwini  ji

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई आज़ी तमाम जी, सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
4 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. रचना बहन छंदों पर उपस्थिति, सराहना व मार्गदर्शन के लिए आभार .."
5 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई चेतन जी, चित्रानुरूप छंदों का प्रयास अच्छा है । हार्दिक बधाई..."
7 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई आजी तमाम जी, चित्र को शब्दों में उकेरने का प्रयास तो अच्छा हुआ है किन्तु गीतिका के…"
9 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"14 :मौत के साये में जीवन मनु के लालच की सीमा जैसे की हो ज़ह्र धीमा रोज देती जा रही है मृत्यु को…"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"नायाब सर नायाब सादर"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर प्रणाम आ अखिलेश जी दूत श्री यमराज क्या बात है अच्छा रचना चित्रण हुआ है"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर प्रणाम आ धामी सर चित्र की गहराईयों में उतरती रचना के लिये बधाई हो"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर प्रणाम सर प्रदत्त विषय पर अच्छी गीतिका कोशिस है बधाई"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर प्रणाम प्रतिभा जी सुंदर चित्रिय रचना के लिये बधाई"
1 hour ago
pratibha pande replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी सुन्दर छंद सृजन। हार्दिक बधाई।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-122 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अखिलेश जी, रचना पर उपस्थिति और सराहना के लिए धन्यवाद ।"
3 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service